होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /प्रिंसिपल को जिंदा जलाने वाले आरोपी का क्रूर चेहरा आया सामने, मैसेज किया था- तू और तेरा परिवार कुत्ते की मौत मरेंगे

प्रिंसिपल को जिंदा जलाने वाले आरोपी का क्रूर चेहरा आया सामने, मैसेज किया था- तू और तेरा परिवार कुत्ते की मौत मरेंगे

इंदौर में प्रिंसिपल को जिंदा जलाने के मामले में आरोपी के चौकाने वाले कई मैसेजेस सामने आए है. आरोपी ने कानून को अपने हाथ में लेने जैसे कई मैसेज प्रिंसिपल को किए थे.

इंदौर में प्रिंसिपल को जिंदा जलाने के मामले में आरोपी के चौकाने वाले कई मैसेजेस सामने आए है. आरोपी ने कानून को अपने हाथ में लेने जैसे कई मैसेज प्रिंसिपल को किए थे.

Indore News: इंदौर में प्रिंसिपल को जिंदा जलाने के मामले में चौंकाने वाले खुलासे हुए हैं. आरोपी के मैसेज सामने आए हैं. ...अधिक पढ़ें

इंदौर. बीएम फार्मेसी कॉलेज की प्रिंसिपल को जिंदा जलाने के मामले में पुलिस द्वारा कोर्ट में पेश की गई चार्जशीट में कई तरह की बातें सामने निकलकर आई है. पुलिस द्वारा पेश की गई चार्जशीट में आरोपी ने प्रिंसिपल को जिंदा जलाने से पहले जो मैसेज भेजे थे उसका स्क्रिनशॉट लगाया है. मामले में पुलिस को कई तरह की चौकाने वाली बातें सामने आई है. आरोपी ने मैसेज में लिखा था कि सब मुझे डिप्रेशन और डार्कनेस देने की कोशिश कर रहे है. अब तुम लोगों को समझ आएगा कि में पलट कर प्रहार करने में सक्षम हूं.

प्रिंसिपल विमुक्ता शर्मा को आरोपी आशुतोष श्रीवास्तव ने पिछले साल फरवरी से जून के बीच कई तरह के मैसेज भेजे थे. मैसेजेस में आरोपी ने प्रिंसिपल के बुरे के लिए हर मंगलवार और शनिवार को निर्जला व्रत रखने की बात कही है. साथ ही सभी सब्जेक्ट्स में पास करने की बात भी कही है. आरोपी ने इससे पहले कॉलेज के सर को चाकू मार दिया था जिसके बाद राजिनामा करने के लिए दबाव बना रहा था.

 एमपी में आज भी नहीं मिलेगी ओलों और बारिश से राहत, इन शहरों के लिए अलर्ट जारी, 36 जिलों में फसलें चौपट

आरोपी ने प्रिंसिपल को किया था मैसेज
आरोपी ने प्रिंसिपल को किए मैसेज में लिखा था कि, मैं तुम्हारे बुरे के लिए हर मंगलवार और शनिवार को निर्जला व्रत रखूंगा. मैं कानून अपने हाथ में लेने जा रहा हूं. सब डिप्रेशन और डार्कनेस देने की कोशिश कर रहे हैं. अब तुम सब समझो मैं पलट के प्रहार करने हर तरफ से सक्षम हूं. तुझे आज गुरुवार के दिन मैं श्राप देता हूं कि जिस तरह तूने मेरे जीवन में अंधकार भरा है, इसी तरह तू और तेरा पूरा परिवार कुत्ते की मौत मरेगा. रोड एक्सीडेंट में मरेंगे सब के सब, एक भी जिंदा नहीं बचेगा. अगर दुनिया में कहीं भी भगवान है तो वो तेरे पूरे परिवार को कुत्ते की मौत मारे. चुल्लू भर पानी ले और डूब मर.

मृत्यु से पहले प्रिंसिपल ने दिया था बयान
आरोपी आशुतोष श्रीवास्तव द्वारा प्रिंसिपल विमुक्ता शर्मा को जिंदा जलाने के बाद उन्हें गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती करवाया गया था. अस्पताल में पुलिस को दिए बयान में उन्होंने बताया था कि 4 से 4:30 बजे के करीब में कॉलेज से घर के लिए कार से निकली रही थी. तभी आशुतोष श्रीवास्तव मेरी गाड़ी के सामने आ गया. मैने ब्रेक लगाया जिसके बाद उसने गाड़ी का गेट खोलकर मुझे बाहर खींचा और पेट्रोल से भरी बाल्टी से पेट्रोल मेरे ऊपर डालकर आग लगा दी.

आरोपी ने कबूला अपना गुनाह
आरोपी ने पुलिस के सामने अपना पूरा गुनाह कबूला है जिसमें उसने कहा कि मैं बीएम कॉलेज में फार्मेसी का पूर्व छात्र हूं. कॉलेज प्रबंधन द्वारा मेरी मार्कशीट नहीं दी गई थी उस पर मैनें 18 अक्टूबर 2022 को कॉलेज के टीचर विजय पटेल को चाकू मार दिया था. 20 फरवरी 2023 को उस मामले की कोर्ट में पेशी थी. एक दिन पहले मैनें टीचर से राजिनामे के लिए बात की थी अगले दिन सुबह कॉलेज आया लेकिन वो नहीं मिले. फिर उन्हें कॉलेज से ही फोन लगाया और समझौता करने से मना कर दिया. फिर महू कोर्ट में पेशी पर गया और वहां से लौटते समय खंडवा रोड़ स्थित पेट्रोल पंप से 700 रुपए का पेट्रोल डलवाकर तेजाजी नगर से एक 50 रुपए की ढक्कन वाली बाल्टी और 39 रुपए का पाइप का टुकड़ा खरीदा. सबकुछ मैनें ऑनलाइन ही खरीदा और नौ मिल पर आकर बाल्टी में करीब 3 लीटर पेट्रोल निकाल लिया. इसके बाद सीधा कॉलेज पहुंचा तो देखा कि मैडम कार में बैठकर जा रही है. मैंने उनकी कार का पीछा किया और मैडम की कार को रोक लिया मैडम जैसे ही कार से उतरकर बाहर आईं मैंने उन पर पेट्रोल डालकर लाइटर से आग लगा दी.

ऑफिस की सिम का किया इस्तेमाल
घटना के छह दिन पहले आरोपी एक शेयर मार्केट कंपनी में काम पर लगा था. कंपनी में काम करने वाले विकास जैन ने दी जानकारी के अनुसार, 14 फरवरी को आशुतोष हमारे यहां नौकरी के लिए इंटरव्यू देने आया था. कम्युनिकेशन स्किल्स और शेयर मार्केट आ अच्छा नॉलेज होने के चलते उसे नौकरी पर रख कंपनी की एक सिम दी थी जिसे क्लाइंट से बात करने के लिए कर्मचारी को दी जाती है. विकास को दूसरे कर्मचारी की सिम दी गई थी, लेकिन दो-तीन दिन काम करने के बाद विकास काम पर नहीं आया. कई बार फोन करने के बाद भी कुछ पता नहीं चला, फिर पता चला कि उसने पेट्रोल डालकर प्रिंसिपल को जला दिया है. मैं नहीं जानता था कि मेरे द्वारा दी गई सिम का वह इस तरह गलत इस्तेमाल करेगा.

Tags: Indore news, Madhya pradesh news, Mp news, क्राइम न्यूज

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें