होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /छात्राओं को कैफे और पब में बुलाते थे प्रोफेसर! जांच कमेटी के सामने क्या बोले आरोपी

छात्राओं को कैफे और पब में बुलाते थे प्रोफेसर! जांच कमेटी के सामने क्या बोले आरोपी

Indore. इंदौर के लॉ कॉलेज में धार्मिक कट्टरता फैलाने के मामले में जांच कमेटी पूछताछ कर रही है

Indore. इंदौर के लॉ कॉलेज में धार्मिक कट्टरता फैलाने के मामले में जांच कमेटी पूछताछ कर रही है

Indore News. विवादास्पद किताब सामूहिक हिंसा एवं दाण्डिक न्याय पद्धति की खरीद को लेकर कहा जा रहा है कि ये किताब 2014 में ...अधिक पढ़ें

इंदौर. इंदौर के एक सरकारी लॉ कॉलेज में धार्मिक कट्टरता फैलाने के मामले की उच्च स्तरीय जांच  जारी है. उच्च शिक्षा विभाग की समिति इसकी जांच कर रही है, अब तक 13 प्रोफेसर और स्टाफ से लिखित में बयान दर्ज करवाए जा चुके हैं. आरोप है कि जांच को भटकाने का प्रयास किया जा रहा है. मामला धार्मिक कट्टरता, लव जिहाद और छात्राओं को कैफे, रेस्टोरेंट और पब में बुलाने का है, लेकिन उसे महज एक किताब पर मोड़ने की कोशिश की जा रही है.

13 प्रोफेसरों के बयान

इंदौर के लॉ कॉलेज में धार्मिक कट्टरता फैलाने के मामले में जांच कमेटी पूछताछ कर रही है, उच्च शिक्षा विभाग की अतिरिक्त संचालक डॉ.किरण सलूजा ने आरोप के घेरे में आए प्रोफेसर अमीक खोखर,डा. मिर्जा मोजिज बेग,डा. फिरोज अहमद मीर,डा. सुहैल अहमद वाणी के साथ प्रो. मिलिंद कुमार गौतम और डा. पूर्णिमा बीसे समेत 13 लोगों के बयान लिए हैं,.

मंत्री के रिश्तेदार का मामला

विवादास्पद किताब सामूहिक हिंसा एवं दाण्डिक न्याय पद्धति की खरीद को लेकर कहा जा रहा है कि ये किताब 2014 में कॉलेज की तत्कालीन प्रिंसिपल डॉ. सुधा सुरेश सिलावट के समय खरीदी गई थी. डॉ. सुधा के पति होलकर साइंस कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. सुरेश सिलावट जांच समिति में शामिल हैं. ये जल संसाधन मंत्री तुलसीराम सिलावट के बड़े भाई हैं. हालांकि अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का कहना है कि ये मामला धार्मिक कट्टरता फैलाने लव जिहाद और छात्राओं के कैफे,रेस्टोरेंट और पब में ले जाने का है. ऐसे में जांच को भटकाने के लिए मंत्री पर आरोप लगाकर मामले को डायवर्ट करने की कोशिश की जा रही है, किताब खरीदने की बात की जा रही है.

ये भी पढ़ें- OMG News : सांई मंदिर में दर्शन करने आया भक्त, बाबा के चरणों में निकले प्राण, Video वायरल

जब किताब पर बैन तो फिर पढ़ाई क्यों

मुख्य मुद्दा ये है कि जब ये है किताब 2015 में बैन हो गई थी,तो इस पुस्तक को कॉलेज में पढ़ाने का औचित्य क्या था. उसको एक एजेंडे के तहत पढ़ाया जा रहा है, समाज में जहर घोलने की कोशिश थी, हम चाहते हैं कि मंत्री के परिवार के लोग हो फिर भी जांच कमेटी निष्पक्ष जांच करे और दोषियों को कड़ी सजा दी जाए.

मंत्री ने मिलायी हां में हां

जल संसाधन मंत्री तुलसी सिलावट का कहना है मामले को भटकाने की कोशिश की जा रही है, जिन लोगों ने ये कृत्य किया उनका स्थान जेल में होना चाहिए, हम कड़ी कार्रवाई करेंगे. किसी भी दोषी को छोड़ा नहीं जाएगा. परिवार पर लगे आरोपों को लेकर कहा कि जो दोषी है, उसको सजा मिलना ही चाहिए, मैं सजा दिलाने में आप सबके साथ हूं, दूसरे कॉलेजों की भी जांच कराई जा रही है,जहां पर भी इस तरह की गतिविधियां मिलेगी,उन पर भी कार्रवाई की जाएगी.

गैर ज़मानती धाराएं

भंवरकुआं थाने में विवादित किताब की लेखिका डॉ. फरहत खान, लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. इनामुर्रहमान,डॉ. मिर्जा मोजिज बेग और अमर लॉ प्रकाशन पर गंभीर धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया है,आरोपियों पर जो धाराएं लगाईं गईं हैं वो गैरजमानती हैं, ऐसे में अब जल्द ही आरोपियों की गिरफ्तारी हो सकती है

Tags: Indore News Update, Love Jihad in MP, Madhya Pradesh News Updates

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें