Home /News /madhya-pradesh /

पति-पत्नी मिलकर लड़कियों को धकेलते थे 'गंदा धंधे' में, आरोपी ने नाम बदलकर बनवाया था पासपोर्ट

पति-पत्नी मिलकर लड़कियों को धकेलते थे 'गंदा धंधे' में, आरोपी ने नाम बदलकर बनवाया था पासपोर्ट

एमपी पुलिस ने बांग्लादेशी युवतियों को भारत भेजकर देह व्यापार में धकेलने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है.

एमपी पुलिस ने बांग्लादेशी युवतियों को भारत भेजकर देह व्यापार में धकेलने वाले गिरोह का भंडाफोड़ किया है.

Indore News: मध्य प्रदेश पुलिस ने बांग्लादेशी युवतियों को मानव तस्करी (Human Trafficking)  के जरिये भारत भेजकर उन्हें देह व्यापार में धकेलने वाले गिरोह का खुलासा किया है. ये गिरोह बांग्लादेश से युवतियां लाकर उन्हें भारत में देह व्यापर के धंधे में धकेलता था. पुलिस ने सरगना मामून हुसैन समेत आठ सदस्यों को गिरफ्तार किया है. गिरोह के सरगना की गिरफ्तारी पर 20,000 रुपये का इनाम घोषित था. पुलिस के मुताबिक, गुजरे 10 साल में यह गिरोह बहुद बड़ी तादाद में बांग्लादेशी युवतियों को अवैध तौर पर सरहद पार कराते हुए देह व्यापार के लिए भारत के अलग-अलग हिस्सों में भेज चुका है. 

अधिक पढ़ें ...

    इंदौर- मध्य प्रदेश के इंदौर (Indore) में पुलिस ने एक बड़े मानव तस्करी (Human Trafficking) का भंडाफोड़ किया है. ये गिरोह बांग्लादेश (Bangladesh) से युवतियां लाकर उन्हें भारत में देह व्यापर के धंधे में धकेलता था. पुलिस ने सरगना समेत आठ सदस्यों को गिरफ्तार किया है. गिरोह के सरगना मामून हुसैन पर 20,000 रुपये का इनाम घोषित था. पुलिस के मुताबिक, गुजरे 10 साल में यह गिरोह बहुत बड़ी तादाद में बांग्लादेशी युवतियों को अवैध तौर पर सरहद पार कराते हुए देह व्यापार के लिए भारत के अलग-अलग हिस्सों में भेज चुका है. पुलिस अधीक्षक आशुतोष बागरी ने इंदौर में बताया कि गिरोह के गिरफ्तार सरगना की पहचान बांग्लादेशी नागरिक (Bangladeshi Citizen) मामून हुसैन (41) के रूप में हुई है. इन दिनों वह मुंबई में रह रहा था.

    पुलिस अधीक्षक ने बताया, ‘मामून ने करीब 25 साल पहले किशोरावस्था में भारत आने के बाद विजय दत्त के फर्जी नाम से राशन कार्ड बनवा लिया था. राशन कार्ड के बूते उसने इसी फर्जी नाम से आधार कार्ड, मतदाता परिचय पत्र और पासपोर्ट तक बनवा लिया था.’

    बागरी के मुताबिक, मामून की बांग्लादेश में रहने वाली पत्नी भी उसके गिरोह में शामिल है और वह एक गैर सरकारी संगठन से जुड़ी होने का दिखावा करते हुए अनाथ, बेसहारा और जरूरतमंद युवतियों को भारत में घरेलू काम-काज से जुड़ा रोजगार दिलाने के बहाने जाल में फंसाती है. उन्होंने बताया, ‘गुजरे 10 साल में ऐसी हजारों बांग्लादेशी युवतियों को मामून के गिरोह ने अवैध रूप से सरहद पार कराते हुए भारत के अलग-अलग हिस्सों में भेजा और देह व्यापार में धकेल दिया.’

    पुलिस अधीक्षक ने बताया कि मामून ने अलग-अलग शहरों के दलालों को अपने गिरोह से जोड़ रखा था जो देह व्यापार में धकेली गईं बांग्लादेशी युवतियों को मध्यप्रदेश, महाराष्ट्र, गुजरात, तमिलनाडु, कर्नाटक, आंध्र प्रदेश और अन्य राज्यों में ग्राहकों के पास भेजते थे.

    उन्होंने बताया कि मामून भारत में भी एक महिला से ब्याह रचा चुका है और वह विजय दत्त की अपनी फर्जी पहचान के बूते कानून प्रवर्तन एजेंसियों की आंखों में बरसों से धूल झोंक रहा था.

    बागरी ने बताया कि युवतियों की मानव तस्करी और देह व्यापार से मिलने वाली रकम को मामून हवाला के जरिये बांग्लादेश भेजता था. उन्होंने बताया कि मामून के अलावा उसके गिरोह के आठ सदस्यों को भी गिरफ्तार किया गया है जिनमें चार महिलाएं शामिल हैं. मामले की विस्तृत जांच जारी है.
    (भाषा इनपुट के साथ)

    Tags: Human trafficking, Indore news, Mp crime news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर