इंदौर: देश का दूसरा सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार, जल्द शुरू होगा संक्रमितों का इलाज

इंदौर में देश का सबसे बड़ा कोविड सेंटर बनकर तैयार.

इंदौर में देश का सबसे बड़ा कोविड सेंटर बनकर तैयार.

इंदौर में बेकाबू होते कोरोना संक्रमण की चैन को तोड़ने के लिए देश का दूसरा सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर बनकर तैयार हो चुका है. खंडवा रोड़ पर राधास्वामी सत्संग भवन में मां अहिल्या कोविड केयर सेंटर बनाया गया है. यहां 6 हजार बेड तक बढ़ाने की क्षमता है.

  • Last Updated: April 22, 2021, 6:10 PM IST
  • Share this:
इंदौर. इंदौर में बेकाबू हो चुके कोरोना संक्रमण (Corona Infection) की चेन को तोड़ने के लिए देश का दूसरा सबसे बड़ा कोविड केयर सेंटर (country second largest covid care center) बनकर तैयार हो चुका है. खंडवा रोड़ पर राधास्वामी सत्संग भवन पर मां अहिल्या कोविड केयर सेंटर (Ma Ahilya covid care center) बनाया गया है. यहां 6 हजार बेड तक बढ़ाने की क्षमता है, लेकिन फिलहाल 600 बेड के साथ सेंटर की शुरुआज की जा रही है. वहीं, पहले चरण के तहत 2 हजार बेड भी जल्द तैयार कर लिए जाएंगे. इस सेंटर पर मरीजों के इलाज की जिम्मेदारी शहर के चार बड़े अस्पतालों को सौपी गई है.

सेंटर पर मरीजों के लिए ऑक्सीजन की व्यवस्था के साथ ही खाने के अलावा गर्म और ठंडे पानी की व्यवस्था रहेगी. सेंटर में केवल उन्हीं मरीजों को भर्ती किया जाएगा जो कि इंदौर जिले के रहने वाले हैं जिन्हें थाना स्तर पर बनाई गई रैपिड टेस्ट की टीम रैफर करेंगी. सेंटर का प्रभारी मंत्री तुलसी सिलावट को बनाया गया है. वहीं, अलग अलग स्तर के सरकारी अधिकारी ड्यूटी पर तैनात रहेंगे. सेंटर में सेवा के लिए RSS के कार्यकर्ता भी मौजूद रहेगें जो सेवा देंगे, मरीजों का ख्याल रखेंगे, मरीजो की सुरक्षा और मॉनिटरिंग के लिए पूरे परिसर में CCTV कैमरे लगाए गये हैं.

रामायण महाभारत और IPL देख सकेंगे मरीज 

कोविड सेंटर से शहर को एक बड़ी राहत मिलेगी, यहां लोगों के मनोरंजन की भी व्यवस्था की गई है. कलेक्टर मनीष सिंह के मुताबिक कोविड केयर इस अस्थायी हॉस्पिटल को देवी अहिल्या बाई का नाम दिया गया है. यहां मरीजों की सुविधा को देखते हुए एक लैब भी तैयार की जा रही है. इसमें RTPCR जांच को छोड़कर सभी जांचें की जा सकेंगी. यहां मरीजों को भेजने से पहले रैपिड रिस्पांस टीम उनकी स्क्रीनिंग करेगी. यहां वे ही मरीज भर्ती होंगे जिन्हें ऑक्सीजन की जरूरत नहीं होगी. इस अस्थायी अस्पताल में मरीजों के मनोरंजन के लिए 10 एलईडी स्क्रीन लगाई गई हैं. इन पर रामायण, महाभारत और IPL जैसे प्रोग्राम का प्रसारण होगा.
कोविड सेंटर के लिए दो ऑक्सीजन प्लांट लगेंगे 

यहां 2.5 करोड़ रुपए की लागत से लगने वाले 2 ऑक्सीजन प्लांट का काम भी शुरू हो गया है. यहां लगने वाले 2 ऑक्सीजन प्लांटों से लगभग 900 लीटर प्रति घंटा ऑक्सीजन उपलब्ध होगी.  इसमें गरीब तबके से लेकर मध्यम वर्ग के लोगों के लिए इलाज के लिए फैसिलिटी रहेगी साथ ही चार बड़े हॉस्पिटल के डॉक्टर इस पूरे कोविड केयर के जिम्मेदारी संम्भालेंगे. कोविड केयर सेंटर में मरीजो को भोजन पानी के साथ हल्दी युक्त दूध और प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए काढा भी दिया जाएगा. यह सारा प्रबंध कोविड केयर सेंटर के भीतर ही किया जाएगा, यहां सामान्य कोई भी मरीज स्वतः नही जा सकेगा, उसके लिए आरआरटी और कोविड केयर सेंटर की ही अनुशंशा आवश्यक होगी. कोविड केयर सेंटर को देखते हुए आईटी पार्क चौराहा से यातायात भी डायवर्ट किया गया है.

इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह के मुताबिक कोविड केयर सेंटर बनकर पूरी तरह तैयार है, आज ही इससे संबंधित सूची बुलवा ली जाएगी. जल्द ही इसे आम जनता के लिए शुरू कर दिया जाएगा, इसमें वही मरीज होंगे जिनमे कोरोना संक्रमण के मामूली लक्षण है, और उनके परिवार में आईशोलेशन की व्यवस्था नही है, साथ ही उनके कारण संक्रमण भी अधिक नही फैलेगा, इससे जल्द शहर में कोरोना संक्रमण से राहत मिलेगी.



योगा प्राणायाम कराया जाएगा, हल्दी वाला दूध मिलेगा 

कोविड राज्य सलाहकार समिति के सदस्य निशांत खरे के मुताबिक शुरुआती चरण में चार ब्लॉक से शुरुआत की जा रही है, कुछ ब्लॉक में ऑक्सीजनरेटर मशीन भी रखी गई है. ताकि मरीज को आवश्यकता पड़ने पर उसे ऑक्सीजन भी दी जा सके, यदि किसी मरीज की सेहत बिगड़ती है तो उसे महज 30 मिनिट के भीतर हॉस्पिटल में शिफ्ट करने का प्रबंध किया गया है. नोडल अधिकारी अमित मालाकर के मुताबिक भर्ती मरीजो को मेडिकेशन के साथ मेडिटेशन भी दिया जाएगा, उन्हें सुबह के वक़्त योगा प्रणायाम करवाने पर जोर दिया जाएगा, मरीजों को चिकित्सीय सलाह के अनुसार पांच वक़्त के भोजन के अतिरिक्त हल्दी युक्त दूध और काढ़ा दिया जाएगा ताकि उनकी प्रतिरोधक क्षमता बढ़ सके.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज