COVID-19 से बचाव के साधन के रूप में गमछे और रुमाल पर लगी पाबंदी वापस
Indore News in Hindi

COVID-19 से बचाव के साधन के रूप में गमछे और रुमाल पर लगी पाबंदी वापस
राज्य में कोरोना वायरस के संक्रमण से अब तक 20 लोगों की मौत हो चुकी है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

इंदौर (Indore) में जिला प्रशासन को कोविड-19 (COVID-19) से बचाव के साधन के रूप में गमछे और रुमाल पर लगाई गई पाबंदी को आम और खास लोगों की आपत्तियों के बाद वापस लेना पड़ा है.

  • Share this:
  • fb
  • twitter
  • linkedin
इंदौर. मध्य प्रदेश के इंदौर (Indore) में जिला प्रशासन को कोविड-19 (COVID-19) से बचाव के साधन के रूप में गमछे और रुमाल पर लगाई गई पाबंदी को आम और खास लोगों की आपत्तियों के बाद वापस लेना पड़ा है. इंदौर, देश में कोरोना वायरस से सबसे ज्यादा प्रभावित जिलों में शामिल है, जहां लॉकडाउन में लगातार छूट दिए जाने पर अलग-अलग गतिविधियां बढ़ रही हैं. इसके साथ ही, सार्वजनिक स्थलों पर लोगों की भीड़ दिखायी देने लगी है.

अधिकारियों ने शनिवार को बताया था कि जिलाधिकारी मनीष सिंह ने शुक्रवार रात जारी आदेश में कहा था, ‘जिले की सीमाओं के भीतर समस्त व्यक्तियों के लिए बाध्यकारी होगा कि वे अपने घर के बाहर अनिवार्यत: सर्जिकल मास्क पहनकर रहेंगे. रुमाल, गमछे आदि का मास्क के रूप में उपयोग किया जाना प्रतिबंधित रहेगा तथा इन्हें मास्क की श्रेणी में शामिल नहीं किया जाएगा.’ उन्होंने बताया कि यह आदेश महामारी रोग अधिनियम 1897 और राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम 2005 के तहत कोविड-19 से आम लोगों के बचाव के उपाय करने के लिए जारी किया गया था.

सुलभ तथा सुविधाजनक है गमछा
बहरहाल, इंदौर लोकसभा क्षेत्र के बीजेपी सांसद शंकर लालवानी ने बताया कि इस आदेश की जानकारी मिलते ही उन्होंने जिला प्रशासन से संपर्क किया था और जनता के हित में इसमें बदलाव का अनुरोध किया था. उन्होंने कहा, ‘गमछा ज्यादातर लोगों के लिए सुलभ तथा सुविधाजनक रहता है और कोविड-19 से बचाव के लिए भी इसका इस्तेमाल किया जा सकता है. कई लोग गर्मी के मौसम में लू से बचने के लिए पहले ही इसका उपयोग कर रहे हैं.’



प्रशासन के इस आदेश को लेकर सोशल मीडिया पर भी यह कहते हुए सवाल खड़े किये गये थे कि खुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोविड-19 से बचाव के लिये गमछे का इस्तेमाल कर रहे हैं. आपत्तियों के बाद जिलाधिकारी ने अपने पुराने आदेश में बदलाव करते हुए कोविड-19 से बचाव के साधन के रूप में गमछे और रुमाल पर लगी पाबंदी हटा दी है. जिलाधिकारी के संशोधित आदेश में कहा गया है कि अब लोग अपने घर से बाहर निकलने पर मुंह पर अलग-अलग तरह के मास्क के साथ ही गमछा और दो परतों वाला रुमाल भी इस्तेमाल कर सकेंगे.



मुंह नहीं ढंकने पर देना होगा जुर्माना
जिलाधिकारी ने अपने आदेश में यह प्रावधान भी किया है कि घर से बाहर निकलने पर मुंह ढंकने के साधन नहीं अपनाने वाले व्यक्ति से 100 रुपए का जुर्माना मौके पर ही वसूला जाएगा. व्यावसायिक संस्थानों, दफ्तरों आदि कार्यक्षेत्रों में लोगों द्वारा मुंह नहीं ढंकने पर संबंधित संस्थान के प्रभारी या प्रमुख से 1,000 रुपए से लेकर 10,000 रुपए तक का जुर्माना तत्काल वसूला जाएगा. कोविड-19 का प्रकोप कायम रहने के कारण मद्देनजर इंदौर जिला रेड जोन में बना हुआ है. आधिकारिक जानकारी के मुताबिक जिले में इस महामारी के अब तक 3,431 मरीज मिले हैं. इनमें से 129 लोगों की इलाज के दौरान मौत हो गयी है.

ये भी पढ़ें - 

NDA 2.0 के एक साल पूरा होने पर बोले CM शिवराज सिंह- मोदी नाम में छुपा है मंत्र

दिल्‍ली में Corona विस्‍फोट से हरियाणा सतर्क, सीमाएं सील
First published: May 30, 2020, 4:13 PM IST
अगली ख़बर

फोटो

corona virus btn
corona virus btn
Loading