मध्य प्रदेश में आरएसएस कार्यकर्ता लोगों को मतदान के लिए कर रहे हैं जागरूक

बीजेपी के लिए स्थानीय स्तर पर मतदाताओं की नाराजगी परेशानी का सबब बनी हुई है. ऐसे में संघ परिवार ने मतदाताओं को मनाने की कमान संभाल ली है. संघ के सदस्य सुबह-शाम मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करते नजर आ रहे हैं.

News18 Madhya Pradesh
Updated: November 7, 2018, 10:21 AM IST
मध्य प्रदेश में आरएसएस कार्यकर्ता लोगों को मतदान के लिए कर रहे हैं जागरूक
आरएसएस
News18 Madhya Pradesh
Updated: November 7, 2018, 10:21 AM IST
मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव की तारीख नजदीक आ गई है. इस दौरान बीजेपी के लिए स्थानीय स्तर पर मतदाताओं की नाराजगी परेशानी का सबब बनी हुई है. ऐसे में संघ परिवार ने मतदाताओं को मनाने की कमान संभाल ली है. संघ के सदस्य सुबह-शाम मतदाताओं को मतदान के प्रति जागरूक करते नजर आ रहे हैं.

मध्य प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2018 के पहले हुए कई तरह के सर्वे में यह बात सामने आई है कि स्थानीय स्तर पर बीजेपी को मतदाताओं की नाराजगी का सामना करना पड़ सकता है. इस बात को ध्यान में रखते हुए बीजेपी के नेताओं को स्थानीय स्तर पर मतदाताओं की नाराजगी को दूर करने की बात कही गई है. इसके साथ ही आरएसएस व उसके अनुषांगिक संगठनों ने मतदाताओं से संपर्क साधने का काम शुरू कर दिया है.

राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि आरएसएस मतदाताओं को बीजेपी के पक्ष में वोट करने के लिए अपील कर सकता है. ऐसे में कांग्रेस के लिए राह इतनी आसान नहीं होगी जितना वह सोच रही है. राजनीतिक पंडितों का मानना है कि कांग्रेस के पास ऐसे में एक विकल्प बचता है जिससे वह बीजेपी को टक्कर दे सकें, वह है एंटी इन्कंबेंसी का फैक्टर.

यह भी पढ़ें- प्रत्याशियों की 'अग्नि-परीक्षा', अब भी कई सीटों को लेकर मुश्किल में बीजेपी-कांग्रेस

राजनैतिक विश्लेषकों की सलाह का स्वागत करते हुए कांग्रेस ने कहा कि अब वह एंटी इन्कंबेंसी फैक्टर पर फोकस करेगी. कांग्रेस ने अपने जमीनी कार्यकर्ताओं जैसे मंडल प्रभारी, बूथ प्रभारी और सेक्टर प्रभारी के साथ-साथ संगठन व मोर्चा पदाधिकारियों के माध्यम से राज्य की बीजेपी सरकार की नाकामियों को मतदाताओं तक पहुंचाने की बात कही है.

यह भी पढ़ें- MP : टिकट का इंतज़ार कर रहे बाबूलाल गौर को बीजेपी ने बना दिया स्टार प्रचारक

( शारिक की रिपोर्ट )
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर