अपना शहर चुनें

States

Corona से ठीक होने के 3 दिन बाद पूर्व IPS के बेटे ने दम तोड़ा, डॉक्टरों ने बताई यह वजह

कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होने के बाद रिटायर्ड डीआईजी के बेटे की हुई मौत. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होने के बाद रिटायर्ड डीआईजी के बेटे की हुई मौत. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

पूर्व आईपीएस ऑफिसर और मध्य प्रदेश के रिटायर्ड डीआईजी के बेटे की कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद बिगड़ी तबीयत. इलाज के दौरान हुई मौत की वजह पर डॉक्टरों ने कहा कि यह कोरोना के इलाज का साइड इफेक्ट है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 5, 2020, 2:13 AM IST
  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण (COVID-19 infection) के मामले थमते नजर नहीं आ रहे. ऐसे में इंदौर का एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है, जिसमें कोरोना संक्रमित मरीज की ठीक होने के कुछ दिन बाद मौत हो गई. दरअसल, पूर्व आईपीएस अधिकारी रिटायर्ड डीआईजी अखिलेश झा के बेटे अमृतेश की कोरोना निगेटिव रिपोर्ट आने के बाद मौत हो गई. कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होने के बाद भी मरीज की मौत को लेकर डॉक्टरों का कहना है कि यह कोरोना का साइड इफेक्ट है. ऐसे में जबकि कोरोना वायरस महामारी के बढ़ते संक्रमण ने पूरे देश की चिंताएं बढ़ा दी हैं, बीमारी से उबरने के बाद भी मौत के मामले की खबर से लोग सकते में हैं. मालूम हो कि अमृतेश की शादी इसी महीने 6 दिसंबर को होनी थी, लेकिन इस अनहोनी से परिजन हतप्रभ हैं.

मध्य प्रदेश से प्रकाशित दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक पूर्व आईपीएस अधिकारी अखिलेश झा के बेटे अमृतेश को बीते 18 नवंबर को कोरोना हुआ था. रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद पिता ने अमृतेश को सीएचएल अस्पताल में भर्ती कराया. इलाज के बाद 27 नवंबर को उसकी रिपोर्ट निगेटिव आई तो परिवार ने चैन की सांस ली. हालांकि हॉस्पिटल से डिस्चार्ज होने के बाद भी बेटे को कमजोरी लग रही थी, इसलिए पिता ने हरियाणा के गुरुग्राम स्थित मेदांता अस्पताल से संपर्क किया.





पूर्व आईपीएस ने अखबार के साथ बातचीत में कहा कि मेदांता के डॉक्टर से अप्वाइंटमेंट लेकर वे बेटे के साथ 27 नवंबर को दिल्ली पहुंचे. यहां अस्पताल में एडमिट होने के एक दिन बाद तक अमृतेश ठीक था, लेकिन 29 नवंबर से उसकी तकलीफ बढ़ गई. उन्होंने बताया कि मेदांता में भर्ती अमृतेश के फेफड़े खराब हो गए थे. उसके हृदय की धड़कन नीचे आने लगी थी. डॉक्टरों ने वेंटिलेटर पर रखकर उसका इलाज करने की कोशिश की, लेकिन आखिरकार 30 नवंबर को वह हमें छोड़कर चला गया. उन्होंने बताया कि डॉक्टरों ने कहा कि यह कोरोना के इलाज का साइड इफेक्ट है. पूर्व आईपीएस ने बताया कि उनके बेटे अमृतेश की 6 दिसंबर को शादी होने वाली थी. दिल्ली के मैक्स हॉस्पिटल की एचआर हेड शालिनी के साथ उसकी शादी तय हुई थी.
इधर, सीएचएल अस्पताल में अमृतेश का इलाज करने वाले डॉक्टरों ने कहा कि कोरोना पॉजिटिव होने के बाद यहां उसका इलाज किया गया था. इलाज के बाद एंटीबॉडी रिपोर्ट पॉजिटिव थी. कोविड रिपोर्ट भी निगेटिव आ गई थी, तब उन्हें डिस्चार्ज किया गया. इसके बाद भी उनकी तबीयत कैसे बिगड़ी, यह बताना मुश्किल है. सीएचएल के डॉक्टर ने कहा कि कोरोना के इलाज का साइड इफेक्ट को लेकर कुछ नहीं कहा जा सकता.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज