होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /इंदौर की गृहिणियों के हाथ का बना खाना अब पहुंचेगा देश-दुनिया तक, आप भी लीजिए व्यंजनों का स्वाद

इंदौर की गृहिणियों के हाथ का बना खाना अब पहुंचेगा देश-दुनिया तक, आप भी लीजिए व्यंजनों का स्वाद

इंदौर में गृहणियों के हाथ से बनाए स्वादिष्ट व्यंजनों को अब नया बाजार मिलने जा रहा है.

इंदौर में गृहणियों के हाथ से बनाए स्वादिष्ट व्यंजनों को अब नया बाजार मिलने जा रहा है.

Indore News. शहर के युवाओं ने शैफ लैब नाम का स्टार्टअप शुरू किया है,जो महिला सशक्तिकरण की दिशा में मील का पत्थर साबित ह ...अधिक पढ़ें

इंदौर. देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में एक और नवाचार हो रहा है. गृहिणियों के बनाए व्यंजनों को अब नया प्लेटफॉर्म दिया जा रहा है. घर में बना खाना खासकर मालवा के लजीज व्यंजन अब दूर दूर तक लोगों तक पहुंचेंगे. शहर के युवा एक स्टार्ट अप गृहिणियों के लिए शुरू कर रहे हैं. इसके लिए ऐप भी होगा जो बुधवार को महापौर पुष्यमित्र भार्गव लॉन्च करेंगे.

देश के सबसे स्वच्छ शहर इंदौर में एक और नवाचार किया जा रहा है. यहां पर घर की महिलाओं के हाथों से बने व्यंजनों को अब लोगों तक पहुंचाया जाएगा. आमतौर पर हर गृहिणी कोई ना कोई ऐसी लजीज डिश बनाती हैं जिसके लिए वो ना केवल परिवार बल्कि रिश्तेदारों और दोस्तों में भी तारीफ पाती हैं. लेकिन उनका टैलेंट जीवनभर घर में ही रह जाता है. ऐसी घरेलू महिलाओं को प्लेटफार्म देने के लिए इस सेवा की शुरूआत की जा रही है. मकसद यही है कि उनके बनाए पकवानों को दुनियाभर में तारीफ के साथ इनकम भी मिले.

महिलाओं के लिए युवाओं का स्टार्टअप
शहर के युवाओं ने शैफ लैब नाम का स्टार्टअप शुरू किया है,जो महिला सशक्तिकरण की दिशा में मील का पत्थर साबित हो सकता है. शेफ लैब के फाउंडर रिशु मुटनेजा और प्रमोटर जसदीप सिंह ने बताया कि कुछ समय से शहर के पारंपरिक रेस्टोरेंट बंद होते जा रहे हैं. इसकी वजह से यहां का स्वाद जो शहर की लीगेसी है, उस पर संकट छा रहा है. इसलिए शहर के स्वाद को पुनर्स्थापित करने के लिए मेयर पुष्यमित्र भार्गव की पहल पर ये कदम उठाया गया है. इससे न केवल मालवा के पारंपरिक व्यंजनों को बढ़ावा मिलेगा,बल्कि लोगों को कम पैसों में घर जैसा खाना भी मिल सकेगा.

ये भी पढ़ें- बयान पर विवाद : मोहन भागवत से दिग्विजय का सवाल, संघ प्रमुख बताएं-क्या हमारे शास्त्र गलत हैं..

ऑनलाइन डिलेवरी-तीन सौ राइडर्स
एक एप बनाया गया है जिसमें गृहिणियां अधिकतम पांच सिग्नेचर डिश रजिस्टर्ड करा सकती हैं. उनकी डिशेज को शहर स्वाद के शौकीन ऑनलाइन आर्डर कर बुला सकते हैं. ऑनलाइन डिलेवरी के लिए तीन सौ राइडर्स को इस स्टार्टअप से जोड़ा गया है. इसके जरिए घरेलू महिलाएं अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियां निभाते हुए अपनी एक्सट्रा कमाई भी कर पाएंगी. इस काम के लिए जरूरी फूड लाइसेंस और गुमाश्ता लाइसेंस में उनकी मदद की जाएगी. साथ ही फूड डिलेवरी के लिए राइडर और स्टैंडर्ड पैकेजिंग भी उपलब्ध कराई जाएंगी. उनकी डिशेज की ऑन लाइन और ऑफलाइन मार्केटिंग भी शैफ लैब करेगा.

घर बैठे बनें उद्यमी
क्वालिटी कंट्रोल के लिए स्टार रेटिंग सिस्टम होगा,जिसमें कस्टमर रेटिंग देंगे. किसी डिश की अच्छी रेटिंग होगी तो उन्हें छोटी -बड़ी पार्टियों के ऑर्डर भी मिलेंगे. इस तरह घर बैठे महिलाओं की उद्यमी बनने की राह खुल जाएगी. वे समाज में साधारण गृहिणी से सुपर वूमन की तरह अपनी पहचान बना सकती हैं. रिषु मुटनेजा ने बताया कि वे राइडर्स के लिए ई बाइक प्रीफर कर रहे हैं. जिसमें अभी तक 300 राइडर्स ने रजिस्ट्रेशन करा लिया है. वे उन्हें लोन दिलवाने में भी मदद कर रहे हैं, क्योंकि एक फूड डिलेवरी बॉय रोजाना सौ किलोमीटर बाइक चलाता है. इंदौर में तकरीबन दो हजार डिलेवरी बॉय हैं जो रोज अमूमन 4 लाख रुपए का पेट्रोल जला रहे हैं. यानि महीने का करीब सवा करोड़ का पेट्रोल जलता है और प्रदूषण भी बढ़ता है. ई बाइक से उसे रोजाना 40 रुपए की चार्जिंग करना होगी और महिने में उसे छह हजार के पेट्रोल की बजाय चार्जिंग पर सिर्फ 1200 रुपए खर्च करने होंगे. फूड डिलेवरी के लिए रेस्टोरेंट को भी भारी भरकम कमीशन से मुक्ति मिलेगी.

7 फरवरी को लॉन्च होगा शैफ लैब
फिलहाल देश में दो ही बड़ी कंपनियां फूड डिलीवरी कर रहीं हैं इसलिए वे अपनी शर्तें रेस्त्रां पर थोपती हैं. यही वजह है कि रेस्त्रां का कमीशन 7 फीसदी से बढ़कर 30 फीसदी तक पहुंच गया है. भारी भरकम कमीशन के कारण कई रेस्त्रां बंद हो गए हैं. ग्राहक भी कमीशन के कारण महंगी डिशेज लेने के लिए मजबूर हैं. ऐसे में महंगे होते जा रहे खानपान में ये नया स्टार्ट अप मददगार साबित होगा. ये नाम मात्र के कमीशन पर सस्ते दाम पर घरेलू डिशेज उपलब्ध कराएगा. इस शैफ लैब की लांचिंग मेयर पुष्यमित्र भार्गव 7 फरवरी को करेंगे.

Tags: Indore news. MP news, Madhya pradesh latest news

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें