अपने बयान के कारण फिर विवाद में घिर गए मंत्री तुलसीराम सिलावट, बोले- फसलों को लगा कोरोना वायरस
Indore News in Hindi

अपने बयान के कारण फिर विवाद में घिर गए मंत्री तुलसीराम सिलावट, बोले- फसलों को लगा कोरोना वायरस
इससे पहले सिलावट ने-सांवेर की एक सभा में पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बता दिया था.

कांग्रेस (Congress) ने कहा-अब विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के लिए ये खोज का विषय है कि प्रदेश के एक कैबिनेट मंत्री ने बता दिया है कि कोरोना बीमारी सोयाबीन की फसल में हो सकती है. इससे बीजेपी के मंत्रियों के दिमाग का स्तर और ज्ञान का स्तर पता चलता है

  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश के जल साधन मंत्री तुलसी सिलावट (Tulsiram Silvat) अपने हालिया बयान के कारण फिर चर्चा में हैं. उन्होंने सोयाबीन की फसलों मे कोरोना वायरस (corona virus) लगने की बात कहकर सबको चौंका दिया.उन्होंने उस मंच से ये बात कही जिस पर सीएम शिवराज सिंह चौहान (cm shivra) खुद मौजूद थे. मंत्री का ये बयान किसानों के बीच तो चर्चा का विषय बना ही कांग्रेस उन्हें ज्ञानपीठ पुरस्कार देने की सलाह दे रही है.

फसलों में लगा कोरोना वायरस- सिलावट
प्रदेश के किसानों जुड़े जल संसाधन औऱ मछली पालन विभाग के मंत्री तुलसी सिलावट एक बार फिर अपने बयान की वजह से चर्चा में आ गए. दरअसल सीएम शिवराज सिंह चौहान के इंदौर दौरे के दौरान उन्होने मंच से कहा था कि सोयाबीन की फसल कोरोना वायरस की वजह से बर्बाद हुई है जिसका मुआवजा सरकार देगी. लेकिन मंत्रीजी को ये नहीं मालूम है कि सोयाबीन की फसल पीले मोजेक रोग के कारण खराब हुई है. दो दिन पहले ही तुलसी सिलावट ने खुद खेतों में जाकर फसलों का जायजा लिया था. लेकिन मंत्रीजी शायद कोरोना काल की वजह से फ्लो में ये सब बोल गए. और तो और उन्हें अपनी गलती का भी एहसास नहीं हुआ. वो अपना भाषण देते रहे इस दौरान उन्होंने सोयाबीन की फसलों के सर्वे निर्देश भी दिया.

मंत्री को दिया जाए ज्ञानपीठ पुरस्कार - कांग्रेस
मंत्री तुलसी सिलावट, फसलों में कोरोना वायरस का बयान देकर कांग्रेस के निशाने पर आ गए हैं.कांग्रेस के  प्रदेश प्रवक्ता  नीलाभ शुक्ला ने चुटकी लेते हुए कहा, तुलसी सिलावट वरिष्ठ मंत्री हैं. उन्हें भारी भरकम विभाग प्रदेश सरकार ने दे रखा है. अब विश्व स्वास्थ्य संगठन के लिए ये खोज का विषय है कि प्रदेश के एक कैबिनेट मंत्री ने बता दिया है कि कोरोना बीमारी सोयाबीन की फसल में हो सकती है. इससे बीजेपी के मंत्रियों के दिमाग का स्तर और ज्ञान का स्तर पता चलता है. उन्हें ये नहीं पता कि फसलों में कोरोना नहीं होता मनुष्यों में होता है. ये बेतुकी बातें जब इतने वरिष्ठ मंत्री कर रहे हैं तो बाकी मंत्रियों का क्या हाल होगा आपको इससे अंदाज लग जाएगा.हालांकि ऐसे मंत्री को तो ज्ञानपीठ पुरस्कार मिलना चाहिए क्योंकि जिस चीज का पता बड़े बड़े वैज्ञानिक नहीं लगा पाए उसे मंत्री जी ने पता लगा लिया.



बीजेपी ने दी सफाई
उधर बीजेपी मंत्री तुलसी सिलावट के बयान के बाद बैकफुट पर नजर आ रही है. सांवेर से पूर्व विधायक और वर्तमान में बीजेपी के जिलाध्यक्ष राजेश सोनकर ने सफाई दी कि मंत्री जी फ्लो में ये बात बोल गए. उनका कहने का आशय ये था कि कोई वायरस है जिसकी वजह से फसलों को नुकसान हुआ है. कांग्रेस को उपचुनाव में कोई मुद्दा नही मिल रहा है इसलिए वो बेवजह के मुद्दे उठा रही है.

सिंधिया को मप्र का सीएम बता चुके हैं सीएम
इससे पहले कई बार मंत्रीजी की जुबान फिसल चुकी है. उन्होंने सांवेर की एक सभा में पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को मध्यप्रदेश का मुख्यमंत्री बता दिया था. उनके भाषण के वीडियो को कांग्रेस ने जमकर वायरल किया था. लेकिन इस बार उनकी जुबान नहीं फिसली बल्कि उन्होंने पूरे दम खम से कहा सोयाबीन की फसल कोरोना वायरस से खराब हुई और उसके बाद वह हंसी का पात्र बन गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज