Home /News /madhya-pradesh /

Madhya Pradesh: संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर का बयान, 'टंट्या मामा का ताबीज करेगा सबकी रक्षा'

Madhya Pradesh: संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर का बयान, 'टंट्या मामा का ताबीज करेगा सबकी रक्षा'

Indore. संस्कृति और पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर का कहना है मामा टंट्या भील सबकी रक्षा करते हैं.

Indore. संस्कृति और पर्यटन मंत्री उषा ठाकुर का कहना है मामा टंट्या भील सबकी रक्षा करते हैं.

Indore news : कोरोना काल में मास्क न लगाने वाली एमपी की मंत्री उषा ठाकुर ने अब कहा टंट्या मामा के ताबीज से बीमार लोग स्वस्थ होते हैं. 4 दिसंबर को मामा का बलिदान दिवस है. इस दिन यहां 1 लाख लोगों की भीड़ जुटने का अनुमान है. कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच इतने लोगों के इकट्ठा होने पर उषा ठाकुर बोलीं कि किसी को कुछ नहीं होगा. मामा के ताबीज से तो बीमार लोग ठीक हो जाते हैं.

अधिक पढ़ें ...

इंदौर. मध्य प्रदेश की संस्कृति मंत्री उषा ठाकुर (Usha Thakur) ने फिर अजीबोगरीब बयान दिया है. उन्होंने कोरोना से बचाव का ये मंत्र दिया है कि मामा टंट्या भील के ताबीज से बीमार लोग स्वस्थ होते हैं. प्रसंग ये है कि टंट्या भील का 4 दिसंबर को बलिदान दिवस है. इंदौर (Indore) के नजदीक पातालपानी में इस दिन मेला लगता है जिसमें आदिवासी समाज के सैकड़ों लोग शामिल होते हैं. कोरोना काल में इतनी बड़ी जमावट चिंता का विषय है.

उषा ठाकुर शिवराज कैबिनेट में पर्यटन और संस्कृति मंत्री हैं. कोरोना काल में इन्हीं ने मास्क नहीं लगाया था और तभी भी ऐसा ही कुछ बयान दिया था.

ताबीज करेगा कमाल
कोरोना काल में मास्क न लगाने वाली एमपी की मंत्री उषा ठाकुर ने अब इंदौर में कहा टंट्या मामा के ताबीज से बीमार लोग स्वस्थ होते हैं. मामा टंट्या भील का बलिदान स्थल पातालपानी असीम आस्था का केन्द्र है. 4 दिसंबर को मामा का बलिदान दिवस है. इस दिन यहां 1 लाख लोगों की भीड़ जुटने का अनुमान है. कोरोना संक्रमण के खतरे के बीच इतने लोगों के इकट्ठा होने के सवाल पर उषा ठाकुर बोलीं कि किसी को कुछ नहीं होगा. मामा के ताबीज से तो बीमार लोग ठीक हो जाते हैं.

ये भी पढ़ें- MP के इस शहर में कचरा बाहर फेंका तो घर के सामने दिन भर होगी रामधुन, वानर सेना भी आएगी

मास्क न लगाने पर चर्चा में आयी थीं
कोरोना की दूसरी लहर के दौरान मास्क न लगाने पर भी उषा ठाकुर चर्चा में आयी थीं. तब उन्होंने कहा था कि शंख बजाने और यज्ञ- हवन करने से कोरोना नहीं होता है. जबकि विश्व स्वास्थ्य संगठन से लेकर केन्द्र और राज्य सरकारें और स्थानीय प्रशासन भी सबसे कोरोना गाइड लाइन का पालन करा रहा था. इसमें मास्क और सोशल डिस्टेंस सबसे पहली शर्त है.

ये बयान भी चर्चा में था
इससे पहले आदिवासी दिवस पर अवकाश की मांग पर भी उषा ठाकुर ने कुछ ऐसा ही बयान दिया था. छुट्टी की मांग कांग्रेस ने की थी. इस पर संस्कृति मंत्री बोली थीं कि ऐसे तो फिर पूरे साल 365 दिन छुट्टी कर देनी चाहिए. कोई भी दिवस हो उस दिन खूब काम होना चाहिए ना की अवकाश होने चाहिए. अवकाश के बजाए उस दिन ज्यादा काम करना चाहिए. आदिवासी जैसा मेहनतकश और मेहनत से काम करने वाला कोई दूसरे समाज नहीं है. छुट्टी लेकर क्या करना. बल्कि खूब काम करना चाहिए. अवकाश की मांग आम आदमी की नहीं है. यह मांग एक वर्ग विशेष की है जो प्रदेश की सुख शांति को भंग करना चाहता है.

Tags: Corona Pandemic, Indore news, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर