• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • 55 साल का इंजीनियर 37 साल की सर्विस में कैसे बन गया करोड़ों का मालिक, जानें पूरी 'कुंडली'

55 साल का इंजीनियर 37 साल की सर्विस में कैसे बन गया करोड़ों का मालिक, जानें पूरी 'कुंडली'

ईओडब्लूय ने टीएंडसीपी के भ्रष्ट इंजीनियर विजय दरयानी के घर छापा मारा.

ईओडब्लूय ने टीएंडसीपी के भ्रष्ट इंजीनियर विजय दरयानी के घर छापा मारा.

Madhya Pradesh News: एमपी का एक और भ्रष्ट इंजीनियर ईओडब्ल्यू के शिकंज में आया है. EOW ने देवास के टाउन एंड कंट्री प्लानिंग इंजीनियर विजय दरयानी के घर छापा मारा तो करोड़ों की संपत्ति का खुलासा हुआ. आरोपी के घर से देवास एक्सप्रेस-वे (Dewas Express Way) का नक्शा भी मिला.

  • Share this:

    इंदौर. मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) की आर्थिक राजधानी इंदौर (Indore) में EOW के छापे से हड़कंप मचा हुआ है. दो दिन पहले टीम ने जब देवास के टाउन एंड कंट्री प्लानिंग (T&CP) इंजीनियर विजय दरयानी के घर छापा मारा तो खुद टीम को पता नहीं था कि इतने बड़े घोटाले का खुलासा हो जाएगा. खुलासा भी  ऐसा, जिसका सीधा संबंध प्रदेश और देश के विकास से है. छापे में विजय के घर से देवास एक्सप्रेस-वे (Dewas Express Way) का नक्शा मिला. इस नक्शे का जिक्र सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने हाल ही में प्रदेश के दौरे के वक्त किया था. अब ये सवाल खड़ा हो गया है कि क्या आरोपी इस नक्शे को लीक कर करोड़पति बना?

    EOW के छापे में भ्रष्ट इंजीनियर विजय के पास करोड़ों की प्रॉपर्टी मिली है. अधिकारी इस सोच में पड़ गए हैं कि महज 500 रुपये के वेतन से करियर शुरू करने वाला इंजीनियर 37 साल की सर्विस में करोड़पति कैसे बन गया. अधिकारियों को शक है कि आरोपी जिस विभाग में है उसका फायदा उठाकर वहां जमकर भ्रष्टाचार किया है. क्योंकि, टाउन एंड कंट्री प्लानिंग वो विभाग है, जो जमीनों का भविष्य तय करता है. वहां क्या बनेगा-कैसे बनेगा की योजना बनाता है. यही विभाग सरकार को बताता है कि जमीनों का इस्तेमाल किस काम के लिए हो सकता है. यही विभाग बताता है कि मॉल कहां बनेंगे और हाईवे कहां से निकलेंगे.

    ये है भ्रष्टाचारी की कहानी

    जानकारी के मुताबिक, विजय दरयानी ने 1984 में नौकरी की शरुआत की. वह टाउन एंड कंट्री प्लानिंग में नक्शा ट्रेसर बन गया. उस वक्त उसकी सैलरी 500 रुपये थी. इस वक्त नक्शा ट्रेसर की तनख्वाह 50 हजार रुपये है. विजय ने 37 साल की नौकरी में भूमाफियों, बिल्डरों से संबंध बनाए और जमकर भ्रष्टाचार किया. Eow ने जब विजय के घर की तलाश ली, तब कई महत्वपूर्ण दस्तावेज उसके हाथ लगे. सबसे अहम दस्तावेज मिला 2031 की मास्टर प्लानिंग का नक्शा. सूत्रों के मुताबिक, आने वाले सालों में देवास के नजदीक से एक्सप्रेस-वे निकलने वाला है. इसके लिए कुछ दिन पहले प्रदेश दौरे पर आए सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने इस प्लानिंग की चर्चा भी की थी.

    इस तरह होता था पूरा खेल
    बताया जा रहा है कि भ्रष्टाचार करने वाले इस तरह की योजना की पूरी जानकारी पहले ही भू-माफिया और बिल्डर को दे देते हैं. इस तरह वे उस जमीन के आसपास की जमीनों पर इन्वेस्टमेंट करते हैं और भविष्य में करोड़ों रुपये कमाते हैं. इसका एक हिस्सा भ्रष्टाचारी को दिया जाता है. इसी तरह ही विजय दरयानी ने अपनी नौकरी में करोड़ों रुपये कमाए. बता दें, विजय दरियानी के घर से देवास T&CP विभाग की जॉइंट डायरेक्टर अनिता कुरोठे की मुहर भी मिली है. कुछ साल पहले अनीता और विजय एक साथ इंदौर ऑफिस में ही काम करते थे. डायरेक्टर अनीता पर लोकायुक्त की कार्रवाई हुई थी. वर्तमान में दोनों देवास में पदस्थ हैं.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज