Assembly Banner 2021

मिलिए इंदौर के इन ‘भागीरथियों’ से, जिन्होंने सूख चुकी नदी को फिर से किया जिंदा

ग्रामीणों ने आपसी सहयोग से बनाया डैम (फोटो- एएनआई)

ग्रामीणों ने आपसी सहयोग से बनाया डैम (फोटो- एएनआई)

इलाके के ग्रामीण 10 सालों से पानी की समस्या से जूझ रहे थे. ऐसे में उन्हें नदी को पुनर्जीवित कर बांध बनाने का विचार आया.

  • Share this:
मध्य प्रदेश में इंदौर के कनाड़िया गांव के लोगों ने जल संरक्षण को लेकर मिशाल पेश की है. यहां ग्रामीणों ने आपसी सहयोग से एक नदी को पुनर्जीवित कर दिया है. साथ ही एक इंजीनियर की मदद से इस नदी पर छोटे से बांध का भी निर्माण किया है. इलाके के ग्रामीण पानी की समस्या से जूझ रहे थे. ऐसे में उन्हें नदी को पुनर्जीवित कर बांध बनाने का विचार आया. जिसके बाद उन्होंने पैसे जुटाए और फिर एक इंजीनियर की मदद से छोटे से बांध का भी निर्माण कर लिया.

स्थानीय लोगों ने बताया कि इलाके में करीब दस साल से पानी की समस्या थी. हर साल मार्च-अप्रैल का महीना आते-आते कुएं-तालाब के पानी सूख जाते थे. इसके बाद उन्हें या तो जंगल से पानी भरकर लाना पड़ता था या फिर टैंकर से पानी मंगाने के लिए पैसे खर्च करने पड़ते थे. लेकिन, डैम बनने के बाद अब आस-पास का वाटर लेवल रिचार्ज हो गया है. जिसकी वजह से अब लोगों को जल संकट का सामना नहीं करना पड़ता है.





लोगों ने दी प्रतिक्रिया-
वहीं, खबर को समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा ट्वीट किए जाने के बाद आम लोगों ने भी इस पर प्रतिक्रिया दी है. कुछ यूजर ने लिखा है कि सरकार को ऐसे लोगों को प्रोत्साहिक करना चाहिए. वहीं कुछ ने ग्रामीणों को पद्म अवॉर्ड से सम्मानित करने की भी बात लिखी है.

ये भी पढ़ें- मां ने बुखार में तपते नवजात को दूध पिलाने से किया इंकार, कहा- खूबसूरती घट जाएगी

ये भी पढे़ं-PHOTOS: विद्यालय की बजाय मदिरालय पहुंचे गुरुजी,फिर किया ये..
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज