Assembly Banner 2021

60 महिलाओं से महिला ने ही ठगे लाखों, सरकारी योजनाओं के नाम पर इस शहर में हुआ ये धोखा

महिलाओं ने सरकारी योजनाओं के नाम पर उनके साथ हुई ठगी की पुलिस में शिकायत की.

महिलाओं ने सरकारी योजनाओं के नाम पर उनके साथ हुई ठगी की पुलिस में शिकायत की.

सरकारी योजनाओं के नाम पर लूट. रूही मनिहार ने खुद को कलेक्ट्रेट का अधिकारी बताकर महिलाओं से वसूल लिए 3 से 20 हजार रुपए. जब उससे रुपए वापस मांगे गए तो उसने वकील भाई की धौंस दी और समझौता करने की बात कही.

  • Last Updated: February 27, 2021, 7:40 AM IST
  • Share this:
इंदौर. मध्य प्रदेश सरकार की संबल योजना के नाम पर एक महिला ने करीब 60 महिलाओं को लाखों का चूना लगा दिया. आरोपी महिला ने बाकायदा कैंप लगाकर इन महिलाओं को ठगा है. महिलाओं को जब इस योजना का लाभ नहीं मिला तो उन्होंने SP से शिकायत की है. SP ने मामले में जांच के आदेश दिए हैं.

दरअसल, पूरा मामला  धार रोड स्थित सम्राट नगर में रहने वाली 60 से अधिक महिलाओं का है. ये महिलाएं अपने साथ हुई धोखाधड़ी की शिकायत लेकर SP महेश चंद्र के पास पहुंचीं. पीड़ित महिलाओं ने SP को बताया कि चंदन नगर में रहने वाली रूही मनिहार ने सम्राट नगर में कई बार कैंप लगाए और संबल योजना का लाभ दिलाने की बात कही. रूही ने संबल योजना, कामकाजी महिला, बीपीएल कार्ड, समग्र आईडी कार्ड सहित कई योजनाओं का लाभ दिलाने का लालच देकर महिलाओं के साथ लाखों रूपये की धोखाधड़ी की है.

वकील भाई की धौंस देकर की समझौते की बात



महिलाओं ने बताया कि रूही ने महिलाओं से 3000 से लेकर 20 हजार रुपए ले लिए, लेकिन कोई लाभ नहीं दिलवाया. रूही खुद को कलेक्टर कार्यालय का अधिकारी बताती है और लंबे समय से फर्जीवाड़ा करती आ रही है. महिलाओं के मुताबिक, जब उन्होंने रूही से पैसे वापस मांगे तो उसने उन्हें अपने वकील भाई की धौंस देकर समझौता करने का लालच भी दिया.
कॉल सेंटर कर्मी ने लगाई फांसी

वहीं, एमआईजी कॉलोनी में कॉल सेंटर के 31 वर्षीय कर्मचारी ने फांसी लगा ली. वह तीन साल से इंदौर में किराये से रहता था. आखिरी बार मां ने उसे फोन किया तो बोला नाइट शिफ्ट चल रही है, सो रहा हूं अब. इसके बाद उसने फांसी लगा ली. पुलिस को उसके पास से सुसाइड नोट नहीं मिला है. एमआईजी पुलिस के मुताबिक, मृतक का नाम प्रिंस जारिया था. वह टेली परफॉर्मेंस कंपनी में कॉलर के रूप में काम करता था. पिता प्रकाश जारिया फौज से रिटायर होने के बाद करेली (नरसिंहपुर) में बैंक के गार्ड की नौकरी करते हैं. परिवार में एक बेटा और बेटी भी है. प्रिंस की मां ने बताया शाम 6 बजे उससे आखिरी बार बात हुई थी. उसने कहा कि नाइट शिफ्ट चल रही है, सो रहा हूं अब. फिर मैंने दूसरे दिन फोन लगाया, लेकिन उसने नहीं उठाया. उसके बाद मकान मालिक को भेजा तो पता चला उसने फांसी लगा ली.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज