इंदौर में बन रही हैं प्‍लास्टिक की सड़कें

प्‍लास्टिक का कचरा अब इंदौर शहर के वातावरण को दूषित नहीं कर सकेगा, क्‍योंकि इसका प्रयोग अब ग्रामीण क्षेत्रों की सड़कों को बनाने के लिए किया जाएगा।

vivek trivedi | News18
Updated: August 5, 2014, 8:25 PM IST
इंदौर में बन रही हैं प्‍लास्टिक की सड़कें
प्‍लास्टिक का कचरा अब इंदौर शहर के वातावरण को दूषित नहीं कर सकेगा, क्‍योंकि इसका प्रयोग अब ग्रामीण क्षेत्रों की सड़कों को बनाने के लिए किया जाएगा।
vivek trivedi | News18
Updated: August 5, 2014, 8:25 PM IST
प्‍लास्टिक का कचरा अब इंदौर शहर के वातावरण को दूषित नहीं कर सकेगा, क्‍योंकि इसका प्रयोग अब ग्रामीण क्षेत्रों की सड़कों को बनाने के लिए किया जाएगा।

डामर के साथ प्‍लास्टिक के कचरे को मिलाया जाएगा, जिससे इस वित्‍तीय वर्ष में शहर की 350 किलोमीटर लंबी सड़क नेटवर्क का निर्माण किया जाएगा। सरकारी एजेंसी और नगर निगम ने सड़क निर्माण करने वाले अधिकारियों को निर्देश दिया है कि वह सड़कों के निर्माण के लिए प्‍लास्टिक के कचरे का उपयोग करें। राज्‍य स्‍तरीय कार्यशाला के दौरान यह जानकारी सड़क निर्माण करने वाले अधिकारियों और ठेकेदारों को दी गई।

‘रोड निर्माण में प्‍लास्टिक कचरे का उपयोग’ पर आयोजित संगोष्‍ठी में कई विशेषज्ञों ने व्‍याख्‍यान दिया।  यह संगोष्‍ठी मध्‍यप्रदेश ग्रामीण सड़क विकास प्राधिकरण द्वारा आयोजित की गई थी।

प्लास्टिक कचरे का उपयोग कर सड़क निर्माण करने के विशेषज्ञ और मदुरै इंजीनियरिंग कॉलेज के डीन डॉ आर वासुदेवन ने लेक्‍चर दिया। इसमें उन्‍होंने बताया कि इस तकनीक का प्रयोग करके कैसे पर्यावरण अनुकूल सड़कों का निर्माण किया जा सकता है।

पिछले साल केन्‍द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) द्वारा 60 प्रमुख शहरों में प्‍लास्टिक के कचरे का आकंलन किया गया था। इस सर्वे के मुताबिक मध्‍यप्रदेश के इंदौर शहर में सबसे अधिक कचरे का उत्‍पादन होता था।

व्‍यवसायिक हब इंदौर देशभर में 14 वीं सबसे बड़ी प्लास्टिक कचरे का निर्माण करने वाला शहर था। सर्वेक्षण के अनुसार, इंदौर में हर दिन 63.40 टन प्लास्टिक कचरे का उत्पन्न होता है। भोपाल, रायपुर और जबलपुर में स्थिति खतरनाक है। इस तकनीक को राष्‍ट्रीय ग्रामीण सड़क विकास एजेंसी ने समर्थन दिया है।

एजेंसी का दावा है कि इस सड़क को प्‍लास्टिक के कचरे का उपयोग करके बनाया जाएगा। यह सड़क कोलतबार की पारंपरिक सड़कों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन करेंगी। इतना ही नहीं यह सड़क जब पानी के साथ संपर्क में आती है तो यह अलग-अलग नहीं होती है।

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर