व्यापमं महाघोटाले की जांच तेज, पेंडिंग शिकायतों में बयान दर्ज होने शुरू, जल्द होंगी FIR

Manoj Rathore | News18Hindi
Updated: August 29, 2019, 5:10 AM IST
व्यापमं महाघोटाले की जांच तेज, पेंडिंग शिकायतों में बयान दर्ज होने शुरू, जल्द होंगी FIR
मामले में पूर्व शिकायतों को लेकर अब बयान दर्ज होने शुरू हो गए हैं. (सीएम कमलनाथ का फाइल फोटो)

डॉ. आनंद राय के 5 घंटे तक बयान हुए दर्ज, एसटीएफ मुख्यालय में तेजी से चल रही कार्रवाई, एसटीएफ ने व्यापमं, कॉलेजों और दूसरी संस्थाओं से मांगे दस्तावेज

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 29, 2019, 5:10 AM IST
  • Share this:
सत्ता में आने से पहले कांग्रेस (Congress) ने व्यापमं घोटाले (Vyapam scam) की जांच का वादा किया था. अब जब कांग्रेस सत्ता में आ गई है, तो उसने अपने इस वादे को पूरा करना भी शुरू कर दिया है. व्यावसायिक परीक्षा मंडल यानि व्यापमं घोटाले की पुरानी शिकायतों की जांच के लिए स्पेशल टास्क फोर्स (STF) की तीन एसआईटी का गठन किया गया है. ये एसआईटी भोपाल, इंदौर और ग्वालियर के एसपी (SP) एसटीएफ के नेतृत्व में काम कर रही हैं. कुल पेंडिंग 197 शिकायतों की जांच की जा रही है. पेंडिंग शिकायतों की संख्या 197 से भी ज्यादा है, लेकिन मौजूदा दौर में एसटीएफ के अधिकारी चिन्हित 197 शिकायतों की जांच कर रहे हैं. इन्हीं शिकायतों में शामिल इंदौर के व्हीसल ब्लोअर आंनद राय के बयान दर्ज किए गए. भोपाल के जहांगीरबाद में स्थित एसटीएफ मुख्यालय में एसपी राजेश सिंह भदौरिया ने करीब पांच घंटे तक बयान दर्ज किए.

ये हैं आनंद राय की शिकायत

  • पीएमटी 2010 में बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज सागर में फर्जी तरीके से कई छात्रों को प्रवेश दिए गए.


  • गांधी मेडिकल कॉलेज भोपाल में 2009 बैच के स्टूडेंट गुरु प्रसाद द्विवेदी ने फर्जी तरीके से एडमीशन लिया.

  • प्री मेडिकल टेस्ट में व्यावसायिक परीक्षा मंडल के अधिकारियों की मिली भगत से फर्जी चयन और करोड़ों का लेनदेन किया गया.

  • पीएमटी 2012, 2013 घोटाले में निजी मेडिकल कॉलेजों की भूमिका रही.

  • Loading...

  • इंदौर निवासी रुबी सिंह का फर्जी चयन किया गया.

  • प्राइवेट मेडिकल कॉलेज के मालिक, रैकेटियर्स, मीडिलमैन, इंपर्सोनेटर्स और स्कोरर्स ने मिलकर स्टेट

  • कोटे की सीटों पर गलत तरीके से अपात्र छात्रों को प्रवेश दिया गया.

  • परिवहन आरक्षक परीक्षा 2012 में हुई अनियमितता और रिश्वत देकर नियुक्त हुए दिनेश रघुवंशी और हेमंत रघुवंशी की जांच की जाए.


घोटाले से जुड़ी 1200 शिकायत
आनंद राय की पेंडिंग शिकायतों पर उनके बयान दर्ज किए गए हैं. इसके साथ ही अन्य कई शिकायतों की जांच की जा रही है. जिनमें अलग-अलग लोगों के बयान लिए जाना हैं. एसटीएफ ने शिकायतों की जांच के लिए व्यापमं, कॉलेजों के साथ दूसरी संस्थाओं से तमाम दस्तावेजों को मांगा है. अब जल्द ही इन शिकायतों में आरोपियों को चिन्हित कर एफआईआर की कार्रवाई की जाएगी. अभी एसटीएफ 197 चिन्हित शिकायतों की जांच कर रही है. दावा किया जा रहा है कि पेंडिंग शिकायतों की संख्या 1200 है. इसके अलावा नई शिकायतें भी आ रही हैं.

दर्ज की जाएगी एफआईआर
मध्यप्रदेश एसटीएफ के एडीजी अशोक अवस्थी ने कहा कि पेंडिंग शिकायतों की जांच के लिए इंदौर, भोपाल और ग्वालियर में एसआईटी का गठन किया गया है. तीनों जिलों के एसपी एसआईटी को लीड कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि शिकायतों से जुड़े लोगों के बयान दर्ज किए जा रहे हैं. जांच में तथ्यों के आधार पर एफआईआर भी दर्ज की जाएगी और आरोपियों को सलाखों के पीछे पहुंचाने का काम भी किया जाएगा.

सालों से पेंडिंग है शिकायत
व्हीसल ब्लोअर आनंद राय ने कहा कि मेरी शिकायतें सालों से पेंडिंग हैं. अब उन पर एसटीएफ के अधिकारी बयान ले रहे हैं. पीएमटी के अलावा भी व्यापमं की कई परीक्षाओं में फर्जीवाड़ा किया गया है. डीमेट में भी व्यापक पैमाने में घोटाला हुआ था.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए इंदौर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 29, 2019, 5:10 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...