जबलपुर के प्रसिद्ध त्रिपुर सुंदरी मंदिर परिसर में भीषण आग, 16 दुकानें और लाखों का माल खाक

जबलपुर के त्रिपुर सुंदरी मंदिर परिसर में आग में 16 दुकानें नष्ट
जबलपुर के त्रिपुर सुंदरी मंदिर परिसर में आग में 16 दुकानें नष्ट

आग पहले दुकानों के पीछे झाड़ियों में लगी थी, जिसने देखते ही देखते मंदिर परिसर में स्थित दुकानों को भी अपने चपेट में ले लिया.

  • Share this:
जबलपुर. त्रिपुर सुंदरी मंदिर परिसर में मंगलवार को भीषण आग (fire) लग गई. आग की चपेट में आने से 16 दुकानें खाक हो गयीं. इनमें रखा लाखों का माल नष्ट हो गया. ये सभी दुकानें पूजन सामग्री की थीं. आग में सब स्वाहा हो गया. जबलपुर के ऐतिहासिक त्रिपुर सुंदरी मंदिर में 19 मई को आग ने तांडव मचाया. यहां मंदिर परिसर में आग लग गयी. जिसने देखते ही देखते एक के बाद एक 16 दुकानों को अपनी चपेट में ले लिया. आग इतनी भीषण थी कि जब तक फायर ब्रिगेड आ पाती तब तक दुकानें खाक हो चुकी थीं. ये दुकानें पूजा के सामान की थीं.

मुश्किल से आग पर काबू पाया
दुकानों में आग लगने की सूचना मिलते ही दुकान मालिक और पुजारी मौके पर पहुंच गए. उन्होंने फौरन इसकी सूचना दमकल विभाग को दी. कुछ ही देर में भेड़ाघाट नगर पंचायत और जबलपुर नगर निगम से करीब 4 गाड़ियां मौके पर पहुंची और आग बुझाने का काम शुरू किया. आग इतनी भीषण थी कि फायर ब्रिगेड कर्मचारियों को इस पर काबू पाने के लिए कड़ी मशक्कत करना पड़ी. बताया जा रहा है कि दुकानों के पीछे लगी झाड़ियों में आग लगी जो बढ़ते-बढ़ते दुकानों तक पहुंच गई.

कर्ज़ लेकर खरीदा था सामान
दुकानें सामान से भरी हुई थीं. 25 मार्च में चैत्र नवरात्रि शुरू होने वाली थी. उस दौरान मंदिर में मेला लगता है. नवरात्र के पूरे 9 दिन बड़ी संख्या में श्रद्धालु यहां पहुंचते हैं. इसे देखते हुए बड़ी मात्रा में पूजा का सामान दुकानदारों ने मंगवा रखा था. लेकिन, 25 मार्च से लॉकडाउन शुरू हो गया और मंदिर बंद हो गया. तब से दुकानें भी बंद थीं इसलिए माल ज्यों का त्यों रखा रह गया. दुकानदारों का कहना है उन्होंने कर्ज लेकर माल खरीदा था. पहले लॉकडाउन के कारण धंधा बंद था और अब आग के कारण सामान भी नष्ट हो गया. अब कर्ज़ कैसे पटाएंगे. दुकान संचालकों ने जिला प्रशासन से मुआवजा देने की मांग की है.



ये भी पढ़ें-

भोपाल में स्मार्ट सिटी कंपनी को बड़ा झटका, NGT ने निर्माण कार्य पर लगाई रोक

लॉक डाउन के दौरान ग्वालियर-चंबल के विकास के लिए क्यों हड़बड़ी में है सरकार!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज