होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /MP: जबलपुर में छत से गिरते ही लड़की को पड़ा दिल का दौरा, अनोखी सर्जरी से बची जान

MP: जबलपुर में छत से गिरते ही लड़की को पड़ा दिल का दौरा, अनोखी सर्जरी से बची जान

Jabalpur News: सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी की यह ऑपरेशन पूरी तरह से नि:शुल्क हुआ. (File pic)

Jabalpur News: सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी की यह ऑपरेशन पूरी तरह से नि:शुल्क हुआ. (File pic)

Jabalpur News: डॉक्टर उमा महेश्वर ने बताया कि सर्जरी के एक दिन बाद ही लड़की चलने-फिरने लगी. बच्ची में जो सांस फूलने वाल ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- अभिषेक त्रिपाठी

जबलपुर. मध्यप्रदेश के जबलपुर में अनोखा मामला सामने आया है. यहां छत से नीचे गिरने से 16 वर्षीय लड़की को न केवल गंभीर दिल का दौरा पड़ा, बल्कि उसकी हृदय की धमनी भी फट गई. धमनी के फटने से दिल में तीन छेद हो गए, जिससे उसकी सांस फूलने लगीं. परिजन ने किशोरी को जबलपुर में उसे मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया लेकिन हालत में सुधार नहीं दिखाई दिया. जिसके बाद वह निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया.

जांच हुई तो पता चला कि उसके दिल में 3 छेद हैं, अचानक छत से गिरने में उसकी धमनी फट गई थी. लड़की की हालत काफी नाजुक थी, डॉक्टरों ने रात में ही ऑपरेशन किया. सबसे महत्वपूर्ण बात यह थी की यह ऑपरेशन पूरी तरह से नि:शुल्क हुआ.

बिना चीर फाड़ वाली हुई सर्जरी
पीडियाट्रिक इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. केएल उमामहेश्वर ने इकोकार्डियोग्राफी या एंजियोग्राफी की मदद से लड़की की हृदय धमनी के फटने का पता लगाया, जिसके बाद डॉ उमामहेश्वर, कार्डियक सर्जन डॉ सुदीप चौधरी और एनेस्थिसियोलॉजिस्ट डॉ सुनील जैन की टीम ने धमनी में तीन छिद्रों में बिना टांके और चीरे के दो छतरियों (चिकित्सा उपकरण) की मदद से बंद कर दिया. सर्जरी में किसी प्रकार से चीर-फाड़ नहीं की गई, और इसे ऑपरेशन करने में लगभग दो से ढाई घंटे का समय लगा.

पहली बार सामने आया ऐसा मामला
डॉक्टर उमा महेश्वर ने बताया कि उनके 14 साल की चिकित्सा सेवा में पहली बार इस तरह का केस सामने आया है. ऊंचाई से गिरने पर न केवल दिल का दौरा पड़ा, बल्कि धमनी भी फट गई। दिल में तीन सुराग बंद करना जरूरी था। ऐसे मामलों में आमतौर पर ओपन हार्ट सर्जरी की जाती है, लेकिन पीड़ित की ओपन हार्ट सर्जरी करना बेहद जटिल और जोखिम भरा था। इसलिए इन छेदों को बिना चीरा लगाए बंद कर दिया गया।

डॉक्टरों बोले- कुदरत का करिश्मा
डॉक्टर उमा महेश्वर ने बताया कि सर्जरी के एक दिन बाद ही लड़की चलने-फिरने लगी. बच्ची में जो सांस फूलने वाली समस्या भी थी, वह भी अब खत्म हो गई है.

इसी के साथ अब वह आम जीवन जी सकती है.

Tags: AIIMS Study, Heart attack, Jabalpur Medical College, Jabalpur news, Medical Students, Mp news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें