डॉक्टर ही कर रहे थे रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी, साथियों सहित पकड़े गए

आरोपियों से इंजेक्शन बरामद किए गए

आरोपियों से इंजेक्शन बरामद किए गए

जबलपुर में रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी रुक नहीं रही है. आज फिर 5 लोग इसे ब्लैक में बेचते पकड़े गए. पकड़े गए लोगों में दो डॉक्टर सहित 5 लोग शामिल हैं.

  • Share this:
जबलपुर. जबलपुर (Jabalpur) में फिर से रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी पकड़ी गयी. लेकिन इस बार दो डॉक्टर भी इसमें शामिल थे. दोनों डॉक्टरों (Doctors) सहित कुल 5 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. इनके पास से 4 इंजेक्शन भी बरामद किये गए.

रेमडेसिविर इंजेक्शन कोरोना मरीज़ों के लिए जीवन रक्षक के तौर पर काम करता है. कोरोना महामारी के इस दौर में इसकी काफी डिमांड है. कालाबाज़ारी इसका फायदा उठाकर साढ़े आठ सौ का एक इंजेक्शन हजारों रुपये में बेच रहे हैं. आज पकड़ गए ये आरोपी मरीजों के लिए सप्लाई होने वाले इंजेक्शन में सेंध लगाकर उन्हें मनमाने दामों पर मार्केट में बेच देते थे

दो डॉक्टर भी शामिल

आज किसी मुखबिर ने एसटीएफ को इंजेक्शन की कालाबाज़ारी की सूचना दी. पुलिस ने इलाके की घेराबंदी की और योजना बनाकर सबको गिरफ्तार कर लिया. आरोपियों के पास से 4 इंजेक्शन बरामद किए गए हैं. जो आरोपी पकड़े गए उनमें से दो निजी अस्पतालों में पदस्थ डॉक्टर भी शामिल हैं.
80 हज़ार में 4 डोज

इससे पहले जबलपुर की माढ़ोताल थाना पुलिस ने 16 अप्रैल को तीन आरोपियों को इंजेक्श की कालाबाज़ारी करते पकड़ा था. ये लोग 4 इंजेक्शन 80 हजार में बेच रहे थे. इन लोगों ने भोपाल में भर्ती मरीज़ के रिश्तेदार को ये इंजेक्शन ब्लैक में बेचने के लिए जबलपुर बुलाया था. आरोपियों में एक निजी अस्पताल का कर्मचारी और दूसरा MR था.

हाईकोर्ट हुआ सख्त



मध्यप्रदेश में कोरोना संकट और मरीजों के इलाज में बदइंतजामियों पर जबलपुर हाईकोर्ट ने भी सरकार को मरीज़ों को ऑक्सीजन और रेमडेसिविर इंजेक्शन ज़रूरत पड़ने पर एक महिने के अंदर उपलब्ध कराने का आदेश दिया था. कोर्ट ने कहा था प्रदेश में कोरोना संक्रमण के हालात भयावह हैं. ऐसे हालात में हाईकोर्ट मूकदर्शक बनकर नहीं रह सकता है. अपने आदेश में कोर्ट ने कहा कोरोना के ज़रूरतमंद मरीज को एक घंटे के भीतर इंजेक्शन उपलब्ध होना चाहिए.

रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाज़ारी पर NSA लगेगा

सीएम शिवराज सिंह चौहान ने इसकी कालाबाज़ारी करने वाले के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून यानि NSA के तहत कार्रवाई करने का आदेश दिया था. पिछले दिनों भोपाल, इंदौर और जबलपुर सहित कई ज़िलों में कई लोग इस इंजेक्शन की कालाबाज़ारी करते पकड़े गए हैं. 850 के हिसाब से 4 इंजेक्शन 80 हजार तक में बेचा जा रहा है. इस कालाबाजारी में मेडिकल व्यवसाय से जुड़े लोग ही शामिल हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज