कोरोना से ठीक हुए 70% लोगों को मानसिक रोग, कहीं रेमडेसिविर जैसी दवाओं का असर तो नहीं

मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के विशेषज्ञों का अध्ययन कहता है कि कोरोना को मात देने के बाद व्यक्ति मानसिक रोग की तरफ बढ़ रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

मध्य प्रदेश के जबलपुर जिले के विशेषज्ञों का अध्ययन कहता है कि कोरोना को मात देने के बाद व्यक्ति मानसिक रोग की तरफ बढ़ रहा है. (सांकेतिक तस्वीर)

जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ रत्नेश कुरारिया के मुताबिक मरीजों ने कोरोना संक्रमण को तो मात दे दी, लेकिन मानसिक रोग से ग्रसित 70 प्रतिशत मरीज अब चिकित्सकों के पास पहुंच रहे हैं.

  • Last Updated: June 2, 2021, 8:22 AM IST
  • Share this:

जबलपुर. कोरोना संक्रमण से स्वस्थ्य हुए 70 फीसदी मरीज मानसिक रोग के लक्षणों से ग्रसित हो गए हैं. यह बात सरकारी आंकड़ों में भी दर्ज हुई है. जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ रत्नेश कुरारिया के मुताबिक मरीजों ने  कोरोना संक्रमण को तो मात दे दी, लेकिन मानसिक रोग से ग्रसित 70 प्रतिशत मरीज अब चिकित्सकों के पास पहुंच रहे हैं. इन मरीजों में प्रमुख रूप से एंजाइटी और डिप्रेशन के मरीज पाए जा रहे हैं.

जिले के मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी  के मुताबिक कोरोना संक्रमण से स्वस्थ हुए मरीजों में मानसिक रोग के लक्षणों की मुख्य वजह अत्यंत भय का माहौल या फिर जीवन के प्रति शंका भी पाई गई है. ऐसे मरीजों को अमूमन कामकाज में अरुचि और मनोवृत्ति में आशंका बढ़ी है. किसी भी काम को करने में सफलता और असफलता के बीच एक गहन अध्ययन भी देखा जा रहा है.

इस तरह नजर रख रहे डॉक्टर

कोरोना से स्वस्थ हुए मरीजों में लगातार बढ़ रहे मनोरोग के लक्षणों को देखते हुए एक मनोचिकित्सक की ड्यूटी कोरोना कंट्रोल रूम में भी लगा दी गई है. ताकि, ऐसे सभी मरीज टेलीकॉलिंग के जरिए भी चिकित्सक से परामर्श ले सकें. अब तक कोविड-19 पोस्ट इफेक्ट के रूप में ब्लैक फंगस वाइट फंगस या क्रीम फंगस संक्रमित मरीज देखे जा रहे थे लेकिन अचानक से मानसिक रोगों के लक्षण से ग्रसित मरीजों की संख्या में इजाफा कई सवाल खड़े कर रहा है.
आप भी कराएं अपनी जांच

इस बात की जांच की जा रही है क्या अनावश्यक दी गई दवाओं, रेमडेसीवीर इंजेक्शन, फेबिफ्लू, टेमी फ्लू या स्टेरॉडय का रिएक्शन तो मरीजों पर नहीं हो रहा. ऐसे तमाम सवाल अब खड़े हो रहे हैं. डॉक्टर्स का कहना है कि अगर आप भी कोरोना से स्वस्थ हुए हैं और किसी मानसिक रोग के लक्षण खुद में पा रहे हों तो तुरंत चिकित्सक से संपर्क करें.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज