AK 47 की तस्करी : पुलिस ने रिटायर्ड आर्मर के घर की तलाशी ली

तस्करी के इस रैकेट में पुरुषोत्तम की पत्नी सहित COD का सुपरवायजर सुरेश ठाकुर शामिल था. इस मामले में अब तक 7 लोगों की गिरफ़्तारी हो चुकी है.

News18 Madhya Pradesh
Updated: September 14, 2018, 4:22 PM IST
AK 47 की तस्करी : पुलिस ने रिटायर्ड आर्मर के घर की तलाशी ली
रिटायर्ड आर्मर के घर की तलाशी
News18 Madhya Pradesh
Updated: September 14, 2018, 4:22 PM IST
प्रतीक मोहन अवस्थी

जबलपुर के सुरक्षा संस्थान से AK47 तस्करी केस में पुलिस जांच और आगे बढ़ी. पुलिस ने इस केस के मुख्य आरोपी पुरुषोत्तम लाल रजक के घर जाकर पड़ताल की. इस केस में अब तक 7 आरोपियों की गिरफ़्तारी हो चुकी है.

जबलपुर की COD से AK47 रायफल तस्करी का मुख्य आरोपी फौज का रिटायर्ड शस्त्रसाज पुरुषोत्तम लाल रजक है. पुलिस उसे अपने साथ लेकर उसके घर पहुंची. पुरुषोत्तम लाल यहां की पंचशील कॉलोनी में रहता है. टीम ने यहां उसके घर की तलाशी ली. पुलिस यहां हथियारों और उससे संबंधित उपकरणों की खोजबीन के लिए गयी थी.

जबलपुर के सुरक्षा संस्थान से AK47 रायफल्स की तस्करी के तार बिहार के मुंगेर से जुड़े हुए हैं. 29 अगस्त को मुंगेर में इमरान नाम का व्यक्ति पुलिस की पकड़ में आया था, जिसके पास से AK 47 रायफल बरामद की गयी थी. इमरान से पूछताछ हुई तो पता चला कि रायफल तस्करी कर लायी गयी थी और इसके तार सीधे जबलपुर की COD से जुड़े मिले. सुरक्षा संस्थान से 70 रायफल्स की तस्करी की पुष्टि हो चुकी है. आशंका है कि 100 से ज़्यादा हथियारों की तस्करी की गयी है.

तस्करी के इस रैकेट में पुरुषोत्तम की पत्नी सहित COD का सुपरवायजर सुरेश ठाकुर शामिल था. इस मामले में अब तक 7 लोगों की गिरफ़्तारी हो चुकी है. पुलिस जांच के दायरे में सीओडी के और भी कई अफसर और कर्मचारी हैं.

पुलिस और सुरक्षा एजेंसियां इस नज़रिए से भी जांच कर रही हैं कि AK47 की ये तस्करी कहीं नक्सलियों या आतंकवादियों के लिए तो नहीं की जा रही थी. इसके तार ढाका से तो नहीं जुड़े हुए थे. पुलिस देश और दुनिया में 2012 के बाद हुए उन आतंकी हमलों के केस की भी पड़ताल कर रही है, जहां AK47 रायफल्स का इस्तेमाल किया गया.

ये भी पढ़ें - चुनावी घोषणापत्र में शराबबंदी का ऐलान कर बड़ा दांव लगाने की तैयारी में कांग्रेस

AK 47 तस्करी का कनेक्शन देश-दुनिया के आतंकी हमलों से तो नहीं !
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर