होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /जबलपुर में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू ने बढ़ायी चिंता : 17 सुअरों के सैम्पल पॉजिटिव, कई इलाके प्रभावित

जबलपुर में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू ने बढ़ायी चिंता : 17 सुअरों के सैम्पल पॉजिटिव, कई इलाके प्रभावित

जबलपुर के बरेला, रांझी, प्रेम सागर और पनागर के सुअरों में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू पाया गया है. इसके बाद जिला प्रशासन ने इन क्षेत्रों को ईपीसेंटर घोषित कर दिया है.

जबलपुर के बरेला, रांझी, प्रेम सागर और पनागर के सुअरों में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू पाया गया है. इसके बाद जिला प्रशासन ने इन क्षेत्रों को ईपीसेंटर घोषित कर दिया है.

Alert : पशु चिकित्सा अधिकारियों का कहना है जिन इलाकों में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू फैला है उन प्रभावित क्षेत्र के सुअरों को ...अधिक पढ़ें

जबलपुर. कोरोना से उबरे जबलपुर जिले में अब अफ्रीकन स्वाइन फ्लू फैल रहा है. जबलपुर में शुकरों में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू ने दस्तक दे दी है.इसने लोगों और प्रशासन सबकी चिंता बढ़ा दी है. हालांकि राहत की बात ये है कि ये सुअरों से इंसान में नहीं फैल रहा है. संक्रमित सुअऱों को तत्काल मारकर उन्हें जमीन में गहराई में दफनाने के निर्देश दिए गए हैं.

जबलपुर में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू फैल रहा है. करीब 17 सुअरों में इसकी पुष्टि हो गयी है. इनके सैंपल टेस्ट के लिए भोपाल भेजे गए थे. लैब में जांच के बाद इनमें संक्रमण की पुष्टि हुई है. जिस इलाके में संक्रमित सुअर मिले हैं वहां तमाम एहतियात बरतने के निर्देश दिए गए हैं.

संक्रमित इलाके एपी सेंटर
जबलपुर के बरेला, रांझी, प्रेम सागर और पनागर के सुअरों में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू पाया गया है. इसके बाद जिला प्रशासन ने इन क्षेत्रों को ईपीसेंटर घोषित कर दिया है. इन इलाकों के एक किलोमीटर के दायरे को प्रभावित और 9 किमी क्षेत्र को सर्विलांस जोन घोषित किया गया है. पिछले दिनों शहर के कई क्षेत्रों में शूकरों की मौत हुई. उसके बाद शहर में हड़कम्प मच गया था. इसी दौरान स्वाइन फ्लू के कई मरीज भी शहर में मिले. इसके बाद पशु पालन एवं डेयरी विभाग ने सुअरों के 21 सैम्पल राष्ट्रीय उच्च सुरक्षा पशु रोग संस्थान भोपाल की लैब में भेजे थे. उसमें से 17 सैम्पल अफ्रीकन स्वाइन फ्लू पॉजिटिव आए हैं.

ये भी पढ़ें- Shocking : सौतेले पिता ने ढाई साल के बेटे की हत्या की, शव बक्से में छुपाकर फरार

जहां संक्रमित सुअर मिलें वहीं मारकर दफनाना होगा
पशु चिकित्सा अधिकारियों का कहना है जिन इलाकों में अफ्रीकन स्वाइन फ्लू फैला है उन प्रभावित क्षेत्र के सुअरों को मानवीय तरीके से मारने और मृत सुअरों के शरीर को उसी जगह दफनाने के निर्देश दिए गए हैं जहां वो मिले हैं. सुअऱों को गहराई में दफनाना होगा. राहत की बात यह है कि अफ्रीकन स्वाइन फ्लू बीमारी इंसानों में नहीं फैलेगी. इसका संक्रमण इंसानों में नहीं फैलेगा. अधिकारियों का कहना है यह बीमारी केवल शुकरों में ही फैल सकती है. इसके अलावा बाकी जानवरों में भी नहीं फैलती है. लेकिन फिर भी एहतियात के तौर पर ऐसे सुकरों की पहचान कर उनका वध किया जा रहा है.

Tags: Jabalpur news, Madhya pradesh news, Swine flu

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें