होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /MP: सतना के छोटे से गांव से अर्चना ने जगाई अलख, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने किया सम्मानित

MP: सतना के छोटे से गांव से अर्चना ने जगाई अलख, राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने किया सम्मानित

Jabalpur News: अर्चना ने वर्ष 2017 में राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) में जॉइन किया.

Jabalpur News: अर्चना ने वर्ष 2017 में राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) में जॉइन किया.

Jabalpur News: अर्चना जिला मुख्यालय से महज 45 किलोमीटर दूर नागौद तहसील के छोटे से गांव अमकुई निवासी गरीब किसान रामऔतार ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट- अभिषेक त्रिपाठी/प्रदीप कश्यप

जबलपुर. मध्यप्रदेश के सतना जिले की रहने वाली गरीब किसान की (22) वर्षीय बेटी को 24 सितंबर को दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने समाजसेवा के प्रति उसके उत्कृष्ट कार्यों को लेकर प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया. दरअसल, भारत सरकार युवा कार्यक्रम खेल मंत्रालय द्वारा राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) पुरस्कार वर्ष 2020-21 सत्र के लिए सतना जिले के अमकुई ग्राम निवासी किसान रामऔतार कुशवाहा की 22 वर्षीय बेटी अर्चना कुशवाहा का चयन किया गया था.

जिले की नागौद तहसील के छोटे से गांव अमकुई  की निवासी किसान की बेटी का इतने बड़े पायदान को हासिल करना गौरव की बात है. पूरे देशभर में 40 लाख से अधिक स्वयं सेवकों का चयन इस पुरस्कार के लिए किया गया है. आपको बता दें कि सतना जिले के साथ-साथ छात्रा अर्चना कुशवाहा को प्रदेश के अन्य जिलों में भी 40 से अधिक पुरस्कारों से नवाजा जा चुका है. वहीं छात्रा ने राज्य एवं राष्ट्रीय स्तर के विभिन्न आयोजनों में चयनित होकर संस्था जिले एवं राज्य को गौरवान्वित किया है. अर्चना बचपन से ही पढ़ाई के साथ-साथ समाजसेवा के लिए अग्रसर रहती थीं, तब से लेकर आज तक अर्चना समाजसेवा में निरंतर जुटी हुई हैं.

अर्चना ने वर्ष 2017 में राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) में जॉइन किया. उसके बाद उन्होंने कोरोना काल की बड़ी बीमारी के समय भी गरीब और असहाय लोगों की मदद की.

छोटे से गांव की रहने वाली हैं अर्चना
अर्चना जिला मुख्यालय से महज 45 किलोमीटर दूर नागौद तहसील के छोटे से गांव अमकुई निवासी गरीब किसान रामऔतार कुशवाहा की बेटी हैं. अर्चना वर्तमान में 22 वर्ष की हैं, वह अपने घर में सबसे बड़ी हैं, उसके छोटे दो भाई अजय कुशवाहा उम्र 19 वर्ष और विजय कुशवाहा उम्र 16 वर्ष हैं. इसके अलावा उसके माता पिता हैं. अर्चना ने अपनी शिक्षा कक्षा 1 से 10वीं तक की पढ़ाई गांव के बाबा नींव करौरी हाईस्कूल से पूरी की और कक्षा 11वीं से 12वीं तक शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय जसो से. शासकीय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय रीवा रोड से (बीए) ग्रेजुएशन और अब वर्तमान में वह एमए चतुर्थ सेमेस्टर में अध्ययनरत हैं.

माता-पिता और गुरू को दिया श्रेय
इस बारे में अर्चना कुशवाहा ने बताया कि उन्हें बचपन से ही समाजसेवा से लगाव है, और वह समाजसेवा में कभी पीछे नहीं रहती. अर्चना ने वर्ष 2017 में शासकीय महाविद्यालय में दाखिला लेने के बाद उनकी मुलाकात हिंदी साहित्य की प्रोफेसर क्रांति मिश्रा से हुई और उनके द्वारा अर्चना ने राष्ट्रीय सेवा योजना (NSS) को जॉइन किया. इसके बाद अर्चना ने लगातार सामाजिक कार्यों में जुटी हुई हैं. इस पुरस्कार का श्रेय अर्चना ने अपने माता-पिता एवं प्रोफेसर क्रांति मिश्रा को दिया है.

प्रशासनिक सेवा में जाना लक्ष्य
अर्चना ने बताया कि माता पिता एवं गुरुजनों की प्रेरणा, मार्गदर्शन और सहयोग से आज वह इस पुरस्कार को प्राप्त करने में सफल हुई. समाज सेवा में कार्यरत रहने का मंच राष्ट्रीय सेवा योजना के द्वारा मिला है. राष्ट्रीय सेवा योजना से उन्हें एक नई पहचान मिली है और वे आगें भी निरंतर स्वैच्छिक सामाजिक कार्यों के लिए अपनी भूमिका निर्वहन करती रहेंगी.

अर्चना का आगे का लक्ष्य प्रशासनिक सेवा में जाना है. इसके लिए वे तैयारी भी कर रही है.

Tags: Chief Minister Shivraj Singh Chouhan, Draupadi murmu, Jabalpur news, Madhya pradesh news live, MP News Today, President of India

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें