लाइव टीवी
Elec-widget

कलेक्टर के औचक छापे से रेत माफियाओं में हड़कंप, माइनिंग विभाग के अधिकारियों को लगाई फटकार

Pavan Patel | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 14, 2019, 8:26 PM IST
कलेक्टर के औचक छापे से रेत माफियाओं में हड़कंप, माइनिंग विभाग के अधिकारियों को लगाई फटकार
कलेक्टर ने तत्काल अवैध रेत खनन पर की कार्रवाई.

मध्य प्रदेश सरकार (Madhya Pradesh Government) द्वारा अधिकारियों को अपने क्षेत्र में घूम कर अवैध रेत खनन का निरीक्षण करने का निर्देश असर दिखा रहा है. जबकि जबलुपर में कलेक्टर भरत यादव (Collector Bharat Yadav) के औचक निरीक्षण से रेत माफियाओं में हड़कंप मच गया है.

  • Share this:
जबलपुर. मध्य प्रदेश सरकार (Madhya Pradesh Government) द्वारा अधिकारियों को अपने क्षेत्र में घूम कर निरीक्षण करने के निर्देश का अब असर दिखने लगा है. जबलपुर में कलेक्टर भरत यादव (Collector Bharat Yadav) ने आज सुबह से ग्रामीण क्षेत्रों में दौरा किया. इस दौरान कई स्थानों पर शासकीय कार्यों एवं योजनाओं में लापरवाही पाई, जिसके बाद अधिकारियों को इसके लिए जमकर फटकार भी लगाई. यही नहीं, ग्रामीण क्षेत्रों के निरीक्षण के दौरान शाम 5 बजे कलेक्टर जब पनागर (Panagar) पहुंचे तो वहां उन्हें ग्रामीणों ने परियट एवं हिरन नदी में अवैध रेत खनन (Illegal Sand mining) की जानकारी दी, जिसके बाद कलेक्टर अपने अमले के साथ नदियों के किनारे चल रहे घाटों पर पहुंच गए. हिरन नदी से लगे इमलिया एवं मदना गांव में कलेक्टर को नदी से अवैध खनन करते हुए रेत माफियाओं के गुर्गे मिले, तो इसके बाद उनका पारा सातवें आसमान पर पहुंच गया. कलेक्‍टर ने तत्काल अपने अमले को रेत खनन में लगे उपकरण और नाव जब्त करने के निर्देश दिए.

तत्काल माइनिंग अधिकारी को बुलाकर लगाई फटकार
अवैध रेत खनन देखकर उन्होंने माइनिंग विभाग के अधिकारियों को भी तत्काल तलब किया और मौके पर बुलाकर जमकर फटकार लगाई. कलेक्टर भरत यादव ने माइनिंग अधिकारियों को उपकरण जब्त कर कार्रवाई करने के निर्देश के साथ सभी रेत घाटों पर सघन चैकिंग अभियान चलाने को कहा है. कलेक्टर के इस औचक निरीक्षण और त्वरित कार्रवाई से न सिर्फ भ्रष्टाचार करने वाले अधिकारियों में खौफ है बल्कि अवैध काम करने वाले माफिया भी सकते में आ गए हैं.

jabalpur
पनागर के परियट और इमलिया गांव में नाव लगाकर निकाली जा रही थी रेत.


इसी तरह होती रहे कार्रवाई
आम जनता में प्रशासन के प्रति विश्वास बढ़ रहा है, लोग उम्मीद कर रहे हैं कि यदि इसी तरह वरिष्ठ अधिकारी चैकन्ने रहेंगे तो अधिकारियों और कर्मचारियों को भी चैकन्ना रहना पड़ेगा. प्रदेश सरकार द्वारा जनता में विश्वास बनाए रखने के लिए हाल ही में निर्देश जारी किए गए थे कि सभी जिलों में कलेक्टर एवं अन्य अधिकारी जनता के बीच पहुंचकर शासन की योजनाओं के क्रियान्वयन की जानकारी लें. साथ ही जनता की समस्याओं से भी रू-ब-रू हों. इसके बाद ही अधिकारियों ने जमीनी कवायद शुरू की है.

ये भी पढ़ें
Loading...

क्या 'शपथ' से सुधरेगी मध्‍य प्रदेश की शिक्षा व्यवस्था?

इस वजह से शिवराज के धाकड़ मंत्री जयभान सिंह पवैया को मिली थी हार, ऐसे हुआ खुलासा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जबलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 14, 2019, 8:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...