MP: प्रवासी श्रमिकों ने महाकौशल और विंध्य इलाके में मचाई खलबली, कोरोना की रफ्तार बढ़ी

एमपी के महाकौशल और विंध्य इलाके में कोरोना संक्रमण बढ़ा
एमपी के महाकौशल और विंध्य इलाके में कोरोना संक्रमण बढ़ा

माना जा रहा है कि जब से प्रवासी श्रमिकों (Migrant Labors) की आवाजाही बढ़ी है उसके बाद से ही उन क्षेत्रों में भी कोरोना (Coronavirus) तेजी से फैल रहा है जहां अब तक कोरोना की आमद तक नहीं हुई थी.

  • Share this:
जबलपुर. मध्य प्रदेश के महाकौशल और विंध्य इलाके में कोरोना (corona) की रफ्तार ने लोगों की चिंता बढ़ा दी है. माना जा रहा है कि प्रवासी श्रमिकों (migrants labours) के लौटने की वजह से संक्रमण और भी तेज़ी से फैल रहा है. श्रमिकों के घर लौटने के बाद से इलाके के हर जिले में कोरोना मरीज मिल रहे हैं. ताजा अपडेट के मुताबिक करीब एक हफ्ते से रोजाना कोरोना पॉजिटिव केस मिल रहे हैं. विंध्य के उमरिया, शहडोल, नरसिंहपुर, सतना और रीवा में कोरोना के केस बढ़ रहे हैं.महाकौशल विंध्य के जिलों में अन्य प्रदेशों से लौटे प्रवासी मजदूरों के कारण करीब 1 सप्ताह से रोज नए मामले सामने आ रहे हैं.

उमरिया और जबलपुर में 3-3 नए मरीज जबकि शहडोल, नरसिंहपुर और सतना में एक-एक नए संक्रमित मरीज मिले हैं. नरसिंहपुर जिले में यह दूसरा पॉजिटिव मरीज मिला है जो 33 वर्षीय व्यक्ति है. यह 19 मई को श्रमिक स्पेशल ट्रेन से मुंबई से चलकर जबलपुर आया था. जिसके बाद जबलपुर जिला प्रशासन ने उसे बस से करेली भेजा था. हालांकि करेली अस्पताल में जांच के बाद उसे क्वारेंटाइन भी किया गया और रविवार को उसकी रिपोर्ट पॉजिटिव निकली.

उमरिया में 5 मरीज़
वही उमरिया जिले में 3 नए मरीज मिले हैं इनमें से दो मानपुर और एक पाली ब्लॉक का प्रवासी श्रमिक बताया जा रहा है. मानपुर के दो पॉजिटिव मरीज में से एक वृद्ध महिला मरीज की मौत हो चुकी है. जिले में अब करीब 5 मरीज हैं.
लगातार बढ़ रहे हैं मरीज़


सतना, शहडोल, रीवा में भी कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या अचानक बढ़ गई है. सतना में  एक नया पॉजिटिव केस सामने आया है जिससे अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 19 हो गयी है. इनमें से 1 की मौत और 4 लोग स्वस्थ हो चुके हैं. वही शहडोल में 2 नए मामले सामने आए हैं जिसमें एक व्यवहारी के बुढ़वा का तो दूसरा वह पादुका का है. रीवा में दो नए कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं जिससे कुल संख्या अब 31 हो गयी है. इनमें से 2 स्वस्थ हो चुके हैं.

प्रवासी श्रमिक दे रहे कोरोना को रफ्तार
माना जा रहा है कि जब से प्रवासी श्रमिकों की आवाजाही बढ़ी है उसके बाद से ही उन क्षेत्रों में भी कोरोना तेजी से फैल रहा है जहां अब तक कोरोना की आमद तक नहीं हुई थी. श्रमिकों के आने का सिलसिला अभी लगातार जारी है. अब देखना होगा कि जिला प्रशासन या फिर प्रदेश सरकार अपने स्तर से प्रवासी श्रमिकों के लिए क्या योजना बनाती है ताकि कोरोना के संक्रमण की रफ्तार कम हो सके.

ये भी पढ़ें-

कौन है भोपाल जेल में बंद जमाती सोहेल, जिसकी गिरफ्तारी पर कांग्रेस को है ऐतराज

ये पुलिस थाना नहीं अन्नदाता का दर है, 60 दिन में खाने के 54 हजार पैकेट बांटे

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज