जबलपुर में कोरोना की 3rd वेव को लेकर अलर्ट हुआ प्रशासन, लोगों से मास्क पहनने और दूरी बनाए रखने

जबलपुर में कोरोना की थर्ड वेव का खतरा हो गया है. (प्रतिकात्मक तस्वीर)

जबलपुर में कोरोना की थर्ड वेव का खतरा हो गया है. (प्रतिकात्मक तस्वीर)

जबलपुर में स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है. देश में बढ़ रहे कोरोना के मामले. जबलपुर में कोरोना गाइड लाइन का पालन नहीं हो रहा है. स्वास्थ्य विभाग ने सभी से मास्क पहनने और सोशल डिस्टेंसिंग की अपील की है.

  • Last Updated: February 21, 2021, 9:13 AM IST
  • Share this:
जबलपुर. देश भर में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिले का स्वास्थ्य महकमा अलर्ट हो गया है. क्योंकि, मां नर्मदा की जन्मोत्सव पर नर्मदा घाटों पर लाखों की संख्या में लोग जुटे थे, जिनमें से किसी ने भी कोरोना प्रोटोकॉल का पालन नहीं किया. ना तो किसी के मुंह पर मास्क था और ना ही किसी तरह की सोशल डिस्टेंसिंग. ऐसे में जिले के चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनीष मिश्रा ने कोरोना संक्रमण के लिहाज से चिंता जाहिर की है.

डॉ. मिश्रा ने आम जनता से अपील की है कि वे पहले की तरह अलर्ट रहें और मास्क पहनने के साथ-साथ दो गज की दूरी का पालन भी करें. स्पष्ट है कि जिस तरीके से मुंबई और इंदौर में लगातार मरीजों की संख्या बढ़ी है ऐसा ही कुछ अनुमान शहर के लिए भी जताया जा रहा है. कोरोना हिस्ट्री को देखें तो मुंबई और इंदौर से शहर की कनेक्टिविटी ज्यादा देखी गई है और हर बार 14- 15 दिन के बाद कोरोना का  स्ट्रेन जबलपुर पहुंचा है.

फिलहाल रिकवरी रेट बेहतर 

यह शहर के लिए अच्छी बात है कि विगत कुछ दिनों से कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा इकाई अंक में ही आ रहा है. जिले में अब तक कुल 16523 व्यक्ति कोरोना संक्रमित पाए गए हैं, जबकि 16140 मरीज स्वस्थ हो गए हैं. जिले में अब तक कुल 252 मरीजों की कोरोना से मौत हुई है, वहीं रिकवरी रेट अब 97. 68 है. फिलहाल की स्थिति शहर के लिए तसल्ली करने वाली है. लेकिन, कोरोना की थर्ड वेव ने एक बार फिर स्वास्थ्य महकमे की नींद उड़ा दी है. बेशक इस अलर्ट को लेकर अब आम जनता को गंभीरता बरतनी बेहद आवश्यक है.
देश में बढ़ने लगा वायरस

भारत में एक बार फिर कोरोना संक्रमण के मामले बढ़ने लगे है. पिछले 28 दिन बाद कोरोना के नए केस ने 14 हजार के आंकड़े को छुआ है. कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच एक और डराने वाली खबर सामने आई है. एम्‍स प्रमुख डॉ. रणदीप गुलेरिया ने आशंका जताते हुए कहा है कि भारत में कोरोना का नया स्‍ट्रेन पहले से ज्‍यादा संक्रामक हो सकता है. डॉ. गुलेरिया ने कहा कि भारत में कोरोना वायरस के प्रति हर्ड इम्‍युनिटी बनने की बात एक मिथक है, क्‍योंकि इसके लिए देश की 80 फीसदी आबादी में कोरोना वायरस से लड़ने के लिए एंटीबॉडी डेवलेप होनी चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज