लाइव टीवी

एसपी ने लिया एक्‍शन, अब भोपाल के फॉरेंसिक एक्सपर्ट करेंगे 'खटुआ हत्याकांड' की जांच

Pavan Patel | News18 Madhya Pradesh
Updated: October 7, 2019, 7:57 PM IST
एसपी ने लिया एक्‍शन, अब भोपाल के फॉरेंसिक एक्सपर्ट करेंगे 'खटुआ हत्याकांड' की जांच
जबलपुर एसपी ने नए सिरे से शुरू की घटना की जांच.

गन कैरिज फैक्‍ट्री (Gun Carriage Factory) में बनी धनुष तोप में चायनीज कलपुर्जों के उपयोग की जांच के दौरान फैक्ट्री के जेडब्ल्यूएम एससी खटुआ (JWM SC Khatua) की हत्या हुई थी. इस मामले में अब एसपी अमित सिंह ने नए सिरे से जांच शुरू की है.

  • Share this:
जबलपुर. गन कैरिज फैक्‍ट्री (Gun Carriage Factory) में बनी धनुष तोप में चाइनीज बेयरिंग के इस्तेमाल के खुलासे के बाद से लगातार इस प्रकरण में घटनाक्रम बदलता रहा है. कभी सीबीआई (CBI) की जांच तो कभी फैक्ट्री के जेडब्ल्यूएम एससी खटुआ (JWM SC Khatua) की हत्या ने इस घोटाले को गंभीर रूप दे दिया. अब एक बार फिर जबलपुर पुलिस इस मामले में नए सिरे से जांच करने की तैयारी में है, जिसके लिए भोपाल के फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स (Forensic  Experts) की भी मदद ली जा रही है. आपको बता दें कि जबलपुर की गन कैरिज फैक्ट्री में बनी एके 47 बिहार के मुंगेर जिले के विधायक अनंत कुमार सिंह के घर पर पाई गई थी.

एसपी अमित सिंह ने कही ये बात
जबलपुर के एसपी अमित सिंह के मुताबिक भारतीय सेना के लिए बनाई जाने वाली धनुष तोप में घटिया किस्म के चीनी कलपुर्जे लगाने का मामला बेहद संगीन है. इसकी जांच के दौरान सीबीआई की टीम द्वारा जेडब्ल्यूएम एससी खटुआ के घर पर छापा मारना और फिर उन्हें दिल्ली सीबीआई ऑफिस बुलाना. यह सब बेहद चैंकाने वाली घटनाएं थीं. इस मामले में मोड़ तब आया, जब 16 जनवरी को खटुआ सीबीआई ऑफिस दिल्ली जाने के लिए निकले, लेकिन गायब हो गए. एसपी अमित सिंह के अनुसार जबलपुर हाई कोर्ट भी मृत अधिकारी की पत्नी मौसमी खाटुआ की याचिका पर सुनवाई करते हुए उनसे जवाब मांग चुका है जिस पर उन्होंने मामले की जांच जारी होने की जानकारी दी थी.

जीसीएफ के पहाड़ी क्षेत्र में मिली खटुआ की लाश

दिल्‍ली स्थित सीबीआई मुख्‍यालय जाने के दौरान गायब हुए खटुआ की लाश 5 फरवरी 2019 को जीसीएफ के पहाड़ी क्षेत्र में पत्थरों के बीच मिली थी. मामले की जांच चल रही थी कि बीच में ही पुलिस मुख्यालय से इस सनसनीखेज हत्याकांड पर जबलपुर एसपी अमित सिंह का अभिमत मांगा गया था, जिसमें उन्होंने मामले की जांच सीबीआई को सौंपने की सिफारिश कर दी. हालांकि पुलिस मुख्यालय ने अब तक मामले की जांच पूरी तरह से सीबीआई को नहीं सौंपी है, लिहाजा इस हत्याकांड में जबलपुर पुलिस की भूमिका अभी भी महत्वपूर्ण है.

फॉरेंसिक एक्सपर्ट्स तलाशेंगे सबूत
एसपी का कहना है कि पुलिस की जांच धीमी जरुर है, लेकिन उनकी कोशिश असली गुनाहगार तक पहुंचने की है. जब तक मामला सीबीआई के सुपुर्द नहीं किया जाता, तब तक इसकी जांच जबलपुर पुलिस को ही करनी है, लिहाजा जबलपुर पुलिस की मांग पर अब राजधानी भोपाल से पुलिस के फॉरेन्सिक एक्सपर्ट्स जबलपुर आने वाले हैं. एक्सपर्ट्स की टीम मौका ए वारदात पर जाकर खटुआ हत्याकांड का रीक्रिएशन करेगी और जानने की कोशिश करेगी कि आखिर उनकी हत्या कैसे की गई और इसके पीछे कौन लोग हो सकते हैं.
Loading...

बिहार के विधायक के घर मिली जबलपुर में बनी एके 47
एके 47 मामले में जबलपुर पुलिस ने अब मुंगेर जेल अधीक्षक से पकड़े गए 9 आरोपियों के संबंध में जानकारी मांगी है. जबलपुर की सीओडी से चोरी हुई एके 47 के मामले में अधूरी पड़ी जांच को अंजाम से पहुंचाने के लिए एसपी अमित सिंह ने ये कवायद शुरू की है. गौरतलब है कि जबलपुर की गन कैरिज फैक्ट्री में बनी एके 47 बिहार के मुंगेर जिले के विधायक अनंत कुमार सिंह के घर पर पाई गई थी, जिन्हें जबलपुर की फैक्ट्री में पदस्थ स्टोर मैनेजर सुरेश ठाकुर और आर्मोरर पुरूषोत्तम रजक ने बेची थी.  फिलहाल दोनों (पुरूषोत्तम रजक और सुरेश ठाकुर ) मुख्य आरोपियों के साथ ही अन्य 7 आरोपी भी मुंगेर की जेल में बंद हैं, जिन्हें ट्रांजिट रिमांड पर जबलपुर लाने के प्रयास किए जा रहे हैं.

ये भी पढ़ें

निकाय चुनाव: महापौर चुनाव के अध्‍यादेश को लेकर BJP-कांग्रेस में घमासान, राज्‍यपाल ले रहे हैं एक्‍सपर्ट की राय

'गांधी संकल्प यात्रा' में आखिर क्यों शामिल नहीं हो रहीं साध्वी प्रज्ञा!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जबलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 7, 2019, 7:36 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...