पूर्व CM कमलनाथ ने CM शिवराज से मांगा- MP में हुई डेढ़ लाख लोगों की मौत का हिसाब

कमलनाथ इससे पहले कोरोना को इंडियन वेरियंट बताकर विवाद में फंस चुके हैं.

कमलनाथ इससे पहले कोरोना को इंडियन वेरियंट बताकर विवाद में फंस चुके हैं.

Bhopal. पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ (Kamalnath) ने एक बार फिर प्रदेश सरकार को घेरा. उन्होंने शिवराज सिंह चौहान (CM Shivraj) से सीधा सवाल किया कि आखिर प्रदेश में इतनी लाशों का जिम्मेदार कौन है. और किस वजह से इनकी मौत हुई है.

  • Share this:

जबलपुर. पूर्व CM कमलनाथ ने CM शिवराज से MP में हुई डेढ़ लाख लोगों की मौत का हिसाब मांगा है. कोरोना को इंडियन वैरियंट, भारत बदनाम जैसे बयान के बाद अब पूर्व सीएम कमलनाथ (Kamalnath) ने दावा किया है कि मध्य प्रदेश में एक साल में डेढ़ लाख लोगों की मौत हो चुकी है. उन्होंने कहा श्मशान घाट और कब्रिस्तान के आंकड़ों को क्यों छुपा रही है सरकार. सरकार बताए कि इन लोगों की मौत कैसे हुई.

मैहर से लौटते वक्त कुछ देर के लिए जबलपुर विमान तल पर रुके पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने एक बार फिर प्रदेश सरकार को घेरा. उन्होंने शिवराज सिंह चौहान से सीधा सवाल किया कि आखिर प्रदेश में इतनी लाशों का जिम्मेदार कौन है. और किस वजह से इनकी मौत हुई है. उन्होंने दावा कि कोरोना से प्रदेश में डेढ़ लाख लोग मारे जा चुके हैं.

कोविड माफिया

नकली रेमडेसिविर मामले में भी पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने सरकार को घेरने की कोशिश की. उनका स्पष्ट कहना था कि आखिर यह नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन आए कहां से. हालातों को देखकर लगता है कि प्रदेश में एक नया कोविड माफिया जन्म ले चुका है. जहां पहले उनसे चंदा लिया जाता है और फिर मनमानी करने की छूट दे दी जाती है. वैक्सिनेशन को लेकर भी पूर्व मुख्यमंत्री सरकार को आड़े हाथों लेने से नहीं चूके. कमलनाथ ने कहा चुनाव के कारण 45 वर्ष आयु वर्ग के वोटर्स को लुभाने के लिए वैक्सीनेशन का बड़ा दावा तो कर दिया गया लेकिन वैक्सीन ही उपलब्ध नहीं थी. आंकड़े बताते हैं कि अपने खुद के देश को छोड़ अन्य देशों को सरकार ने 6 करोड़ से ज्यादा की वैक्सीन भेज दी.


'पूरा विश्व भारत पर हंस रहा है'

हाल ही में देश में सुर्खियों में आए बाबा रामदेव और एलोपैथी विवाद पर भी कमलनाथ ने अपनी बेबाक राय रखी. उनका कहना था कि एलोपैथी और आयुर्वेद में विवाद नहीं होना चाहिए. ट्विटर विवाद के मसले पर पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने केंद्र को भी जमकर खरी-खोटी सुनाई. उनका कहना था कि आज के हालात ऐसे बन गए हैं जब पूरा विश्व भारत के प्रजातंत्र पर हंस रहा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज