लाइव टीवी
Elec-widget

जबलपुर में बंद हो गई सस्ती प्याज की सरकारी दुकान, ये है कारण

Prateek Mohan Awasthi | News18 Madhya Pradesh
Updated: November 29, 2019, 3:41 PM IST
जबलपुर में बंद हो गई सस्ती प्याज की सरकारी दुकान, ये है कारण
जहां बारदाने की दुकान है वहीं खुली थी सस्ती प्याज की सरकारी दुकान

महंगे दामों के चलते आम आदमी को रुला रही प्याज (Onion) के आगे प्रशासन ने भी हार मान ली है. 11 नवंबर को जबलपुर जिले (Jabalpur) में शुरू हुई 52 रुपए प्रति किलो में प्याज की उचित बिक्री पर रोक लग गई है. कृषि उपज मंडी की दुकान पर जिला प्रशासन ने उचित मूल्य पर बिक्री का स्टॉल लगाया था, आज वह स्टॉल बंद हो गया है.

  • Share this:
जबलपुर. मध्य प्रदेश के जबलपुर में कृषि उपज मंडी (Krishi Upaj Mandi) की दुकान पर जिला प्रशासन ने आम आदमी के लिए प्याज बिक्री का स्टाल लगाया था वहां अब प्याज की जगह बारदानों की बिक्री शुरू हो गई है. इस बात से ये समझा जा सकता है कि प्याज के आगे प्रशासन भी हार मान गया है. आम जनता तो दूर की बात है प्रशासन भी प्याज से परेशान है. बेतहाशा दामों पर बिक रही प्याज ने कई सालों के रिकॉर्ड को तोड़ दिया है. मध्य प्रदेश में जहां अनेक जिलों में प्याज सेंचुरी मार चुकी है, वहीं जबलपुर में करीब 90 रूपए प्रति किलो में प्याज बिक रही है.

52 रुपए प्रति किलो में प्रशासन ने शुरू की थी बिक्री
गौरतलब है कि 11 नवंबर को जिला प्रशासन द्वारा 52 रुपए प्रति किलो में अच्छी क्वालिटी की प्याज की बिक्री शुरू की गई थी. शहरवासी भी स्टॉल से अच्छी गुणवत्ता वाली प्याज मात्र 52 रुपए में खरीद पा रहे थे, लेकिन जिस तरह से प्याज के दामों में उछाल आया उसके आगे जिला प्रशासन भी कुछ नहीं कर पाया. आलम यह है कि अब उचित मूल्य का तो पता नहीं बल्कि काउंटर भी नदारद हो चुका है. स्पष्ट है कि प्याज़ पर प्रशासनिक कड़ाई से भी कोई कंट्रोल नहीं रहा. इस मामले में आलू प्याज थोक विक्रेता संघ के अध्यक्ष ने न्यूज़ 18 से बातचीत करते हुए बताया कि प्याज की आवक ही महंगे दाम में हो रही है, ऐसे में जिला प्रशासन का सहयोग कर पाना किसी के लिए भी मुमकिन नहीं है.

व्यापारियों ने खड़े किए हाथ 

अलवर राजस्थान से आ रही अच्छी गुणवत्ता की प्याज भी थोक दाम में 68 रुपए प्रति किलो पड़ रही है. ऐसे में प्रशासन के साथ मिलकर 52 रूपए में प्याज बेचना मुमकिन नहीं है. यही वजह है कि व्यापारियों ने उचित मूल्य की बिक्री की योजना से अपने हाथ खड़े कर लिए हैं. जबलपुर शहर में दो तरह की प्याज बिक रही है. एक प्याज वह है जो अतिवृष्टि के चलते खराब है और शहरवासी उसे 40 रुपए प्रति किलो में भी खरीद सकते हैं, जबकि दूसरी ओर अच्छी क्वालिटी की प्याज है जो करीब 90 रुपए प्रति किलो तक बिक रही है. व्यापारियों की दलील है कि प्याज में यह तेजी करीब 1 माह तक बरकरार रहेगी, जिसके बाद वापस सामान्य दरों पर प्याज की बिक्री शुरू हो सकती है.

ये भी पढ़ें -
कमलनाथ सरकार की चुनावी जमावट, निकाय चुनाव से पहले हटाए जाएंगे बीजेपी के ये 'कृपापात्र अफसर'
Loading...

2 बच्चों सहित घर छोड़कर गयी पत्नी, पंचायत ने पति पर ठोक दिया जुर्माना

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जबलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 29, 2019, 3:41 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...