रिटायरमेंट के पहले हेल्थ वर्कर ने क्लर्क को नए नोटों से सिखाया 'ईमानदारी' का सबक
Jabalpur News in Hindi

रिटायरमेंट के पहले हेल्थ वर्कर ने क्लर्क को नए नोटों से सिखाया 'ईमानदारी' का सबक
नोटबंदी के बाद भी मध्य प्रदेश में रिश्वतखोरी के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. अब प्रदेश के सिवनी जिले में जिला अस्पताल में अकाउंटेंट सात हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है.

नोटबंदी के बाद भी मध्य प्रदेश में रिश्वतखोरी के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. अब प्रदेश के सिवनी जिले में जिला अस्पताल में अकाउंटेंट सात हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है.

  • Share this:
नोटबंदी के बाद भी मध्य प्रदेश में रिश्वतखोरी के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे है. अब प्रदेश के सिवनी जिले में जिला अस्पताल में अकाउंटेंट सात हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया है.

जबलपुर लोकायुक्त पुलिस के अनुसार, सिवनी जिले के गोपालगंज में स्वास्थ्य विभाग में पदस्थ वाल्मीकि सोनी की शिकायत पर यह कार्रवाई की गई.

वाल्मीकि सोनी छह दिन बाद 31 दिसंबर को सरकारी नौकरी से रिटायर हो रहे है. उनका पेंशन प्रकरण जिला अस्पताल के कुष्ठ रोग शाखा में क्लर्क सुरेश काकड़े के पास लंबित था.



वाल्मीकि सोनी ने अपनी शिकायत में बताया कि पेंशन प्रकरण बनाने के एवज में सुरेश काकड़े उनसे 10 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहा था. वह रिश्वत की पहली किश्त में तीन हजार रुपए दे चुके थे.



रिश्वत की दूसरी किश्त देने के पहले उन्होंने लोकायुक्त पुलिस को शिकायत कर दी, जिसने शनिवार सुबह सुरेश काकड़े को सात हजार रुपए की रिश्वत लेते हुए धर दबोचा.

लोकायुक्त पुलिस ने सुरेश काकड़े के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के तहत केस दर्ज किया है. कार्रवाई पूरी होने के बाद उसे निजी मुचलके पर रिहा कर दिया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading