अपना शहर चुनें

States

मजबूर की Lockdown में फंसे परिवार को वापस लाने की गुहार, BJP विधायक बोले- मजदूरी के लिए क्‍यों गए थे?

वायरल ऑडियो में मजूदर के आग्रह पर विधायक तिवारी को कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें असम में कोई नहीं जानता है. (फाइल फोटो)
वायरल ऑडियो में मजूदर के आग्रह पर विधायक तिवारी को कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें असम में कोई नहीं जानता है. (फाइल फोटो)

जबलपुर के पनागर के विधायक सुशील इंदु तिवारी (MLA Sushil Indu Tiwari) का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है.

  • Share this:
जबलपुर. कोरोना वायरस (Coronavirus) के चलते बीते 24 मार्च से पूरे देश में लॉकडाउन (Lockdown) घोषित है. ऐसे में लाखों प्रवासी मजदूर अलग-अलग राज्यों में फंसे हुए हैं. काम न मिलने की वजह से उन्हें खाने के लाले पड़ गए हैं. ऐसे में प्रवासी मजदूर किसी तरह अपने गांव लौटना चाहते हैं. कई मजदूर तो मुंबई, कलकता और दिल्ली जैसे महानगरों से पैदल चलकर ही अपने-अपने राज्यों में लौट गए हैं. हालांकि, नॉर्थ-ईस्ट के राज्यों फंसे कई मजदूर अभी तक अपने घर नहीं लौट पाए हैं. मजदूरों को घर लाने के लिए उनके परिजन अपने स्थानीय नेताओं से प्रार्थना भी कर रहे हैं, लेकिन उनकी बात नहीं सुनी जा रही है. उल्टा उन्हें ही भला-बुरा कहा जा रहा है. कुछ इसी तरह का एक ताजा मामला मध्य प्रदेश के जबलपुर (Jabalpur) में सामने आया है.

नवभारत टाइम्स के मुताबिक,  जबलपुर के पनागर के विधायक सुशील इंदु तिवारी (MLA Sushil Indu Tiwari) का एक ऑडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. इस ऑडियो में एक व्यक्ति को दूसरे राज्य में फंसे हुए मजदूरों को वापस घर लाने के लिए विधायक सुशील इंदु तिवारी से गुहार लगाते हुए सुना जा सकता है. विधायक उनकी बेबसी सुनने के बजाए उल्टा उसी को खरी-खोटी सुना रहे हैं. दरअसल, ऑडियो में मजदूर का एक परिजन अपने संबंधियों को असम से लाने के लिए विधायक से गुहार लगा रहे हैं, लेकिन विधायक महोदय उल्टा मजदूर को ही डांट रहे हैं.

'हमें असम में कोई नहीं जानता'
वायरल ऑडियो में परिजन के आग्रह पर विधायक तिवारी को कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें असम में कोई नहीं जानता है. साथ ही उनके कहने से उसके परिजनों के घर लौटने की व्यवस्था भी नहीं हो सकती है. इसके बाद भी मजदूर का परिजन उनसे असम में फंसे हुए अपने लोगों को लाने के लिए कुछ सहायता करने को कहता है. इतना सुनते ही विधायक जी उसके ऊपर क्रोधित हो जाते हैं. फिर सुशील इंदु तिवारी कहते हैं कि तुम्हारे परिजन मजदूरी के लिए असम क्यों गए थे? क्या मध्य प्रदेश में रोजगार नहीं मिलता है? अंत में मदद करने से इंकार करते हुए विधायक ने उसको सांसद से संपर्क करने का कह दिया. उन्होंने कहा कि सांसद राकेश सिंह से संपर्क करो वे ही तुम्हारी मदद कर सकते हैं.
ये भी पढ़ें- 



गया के SSB कैंप में हुई फायरिंग में यूपी के कांस्टेबल की संदेहास्पद मौत

खुशखबरी! UP में कोरोना पॉजिटिव के मुकाबले ठीक होने वालों का आंकड़ा बढ़ा
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज