Assembly Banner 2021

Jabalpur : 3 बार चुनाव जीत चुके पार्षदों को कांग्रेस नहीं देगी टिकट, युवाओं को मिलेगा मौका

jabalpur- युवा उम्मीदवारों की उम्मीद जाग गयी है.

jabalpur- युवा उम्मीदवारों की उम्मीद जाग गयी है.

Jabalpur-शहर के 79 वार्डों में से करीब 16 वार्ड ऐसे हैं जिन पर जीत की हैट्रिक लगा चुके उम्मीदवार अपनी दावेदारी कर रहे हैं.

  • Share this:
जबलपुर.नगरीय निकाय चुनाव (Urban body election) की तारीखों के ऐलान से पहले कांग्रेस (Congress) के उन दावेदारों के लिए एक बुरी खबर आई है जो तीन बार पार्षद का चुनाव जीत चुके हैं. पार्टी अब उन लोगों को टिकट नहीं देगी,बल्कि उनकी जगह वॉर्ड के युवा उम्मीदवारों को मौका दिया जाएगा.हालांकि उन वेटरन लीडर्स का पत्ता साफ नहीं होगा बल्कि उन्हें संगठन में मौका दिया जाएगा.

कांग्रेस कमेटी की ओर से एक नई गाइड लाइन तैयार की गई है.इसमें तय किया गया है कि जो पार्षद तीन बार चुनाव जीत चुके हैं यानि हैट्रिक मार चुके हैं उन्हें इस बार टिकट नहीं दिया जाएगा.अब उनके वार्ड में युवा योग्य उम्मीदवारों का पार्टी मौका देगी.हालांकि आखिरी फैसला चयन समिति करेगी.हैट्रिक मार चुके नेताओं को संगठन में नई जिम्मेदारी दी जाएगी.नये उम्मीदवार का चयन निकाय चुनाव के लिए बनायी गयी समिति करेगी.

युवाओं को उम्मीद
कांग्रेस के इस बड़े फैसले से एक और जहां ऐसे उम्मीदवारों के सपनों पर पानी फिर गया है,वहीं युवा उम्मीदवारों की उम्मीद जाग गयी है.निकाय चुनाव से पहले कांग्रेस में पार्षद पद के लिए उम्मीदवारों का चयन कहीं विवादों में ना घिर जाए.ऐसा इसलिए क्योंकि कांग्रेस ने प्राथमिक तौर पर प्रत्याशी चयन के लिए जो रणनीति बनाई है उसमें कई चेहरे मायूस हो सकते हैं. कांग्रेस नगर अध्यक्ष और जिला चुनाव समिति के प्रमुख दिनेश यादव ने बताया कि पार्टी ने नई गाइडलाइन तैयार की है.इसके तहत जीत की हैट्रिक लगा चुके पार्षद उम्मीदवारों को अब संगठन में बड़ी जिम्मेदारी दी जाएगी,क्योंकि ऐसे वार्डों में अन्य चेहरे भी हैं जो महत्वकांक्षा लिए बैठे हैं. लंबे समय से पार्टी के कार्यकर्ता के रूप में सक्रिय हैं. अब उन्हें भी पार्टी मौका देने की तैयारी कर रही है.शहर के 79 वार्डों में से करीब 16 वार्ड ऐसे जिन पर जीत की हैट्रिक लगा चुके उम्मीदवार अपनी दावेदारी कर रहे हैं.



जीत हो टिकट का मंत्र
भाजपा कांग्रेस की स्ट्रेटेजी से वास्ता नहीं रखती.उसका मानना है किसी भी चुनाव में जरूरी होती है जीत.वार्ड पर पार्टी अपने अपने स्तर पर सर्वे कराती है. ऐसे में जिताऊ उम्मीदवार पर दांव लगाना कोई गलत बात नहीं.भले ही वह जीत की हैट्रिक क्यों ना लगा बैठा हो.लेकिन फिर भी राजनीति में हर किसी की महत्वकांक्षा होती है ऐसे में युवाओं को मौका देने में भी कोई गुरेज़ नहीं है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज