खाटुआ हत्याकांड: डेढ़ साल बाद भी कातिल गिरफ्त से बाहर, IG ने घोषित किया 25 हजार इनाम
Jabalpur News in Hindi

खाटुआ हत्याकांड: डेढ़ साल बाद भी कातिल गिरफ्त से बाहर, IG ने घोषित किया 25 हजार इनाम
(फाइल फोटो)

जबलपुर आईजी ने इस केस में आरोपियों पर 25 हजार का इनाम घोषित करने के अलावा पुलिस को नए सिरे से इस केस की जांच के आदेश दिए हैं. उनके मुताबिक पुलिस इस ब्लाइंड मर्डर केस की जांच में सीबीआई (CBI) की भी मदद लेगी

  • Share this:
जबलपुर. जबलपुर (Jabalpur) के आईजी ने माना है कि पुलिस खाटुआ हत्याकांड (Khatua Murder Case) की जांच में अब तक नाकाम साबित हुई है. उन्होंने आरोपियों पर 25 हजार का इनाम घोषित करने के अलावा पुलिस को नए सिरे से इस केस की जांच के आदेश दिए हैं. आईजी के मुताबिक जबलपुर पुलिस (Jabalpur Police) इस हत्याकांड की जांच में सीबीआई (CBI) की भी मदद लेगी. क्योंकि केंद्रीय एजेंसी की पूछताछ के बाद ही खाटुआ अचानक लापता हुए थे और फिर उनकी लाश पाई गई थी.

कई कंपनियों के दलाल थे खाटुआ के संपर्क में
हालांकि इस ब्लाइंड मर्डर केस में पुलिस के हाथ अब तक आरोपियों का कोई सुराग नहीं लगा है. लेकिन अंदेशा है कि देश भर की कई कंपनियों के दलाल खाटुआ के संपर्क में थे. 17 जनवरी, 2019 को खाटुआ के लापता होने से एक हफ्ते पहले 10 जनवरी को सीबीआई ने उनके घर और दफ्तर से कई दस्तावेज जब्त किए थे. इनमें कलपुर्जों की टेंडरिंग प्रक्रिया से जुड़ी कुछ कंपनियों के दलालों के नाम मिले थे. इस हत्याकांड में मृतक की पत्नी मौसमी खाटुआ की याचिका पर जबलपुर हाईकोर्ट भी पुलिस को जांच में तेजी लाने के निर्देश दे चुकी है. लेकिन अब तक कोई पुख्ता सुराग ना मिल पाने से पुलिस की जांच ठप पड़ी है.

बता दें कि 10 जनवरी, 2019 को सीबीआई ने दिल्ली से जबलपुर आकर जीसीएफ के जूनियर वर्क्स मैनेजर (JWM) एस.सी खाटुआ से लंबी पूछताछ की थी. इसके हफ्ते भर बाद 17 जनवरी से वो अचानक लापता हो गए थे. जिसके बाद पांच फरवरी को उनकी लाश जबलपुर में पाटबाबा की पहाड़ियों में पाई गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading