होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /JABALPUR NEWS : गांव-गांव में घर-घर पहुंचेगा नर्मदा जल, नल लग गए हैं बस अब पानी का इंतजार

JABALPUR NEWS : गांव-गांव में घर-घर पहुंचेगा नर्मदा जल, नल लग गए हैं बस अब पानी का इंतजार

भेड़ाघाट में कई घरों में नल लग चुके हैं. हर घर में नल लगाना है और 24 घंटे पानी पहुंचाना है.

भेड़ाघाट में कई घरों में नल लग चुके हैं. हर घर में नल लगाना है और 24 घंटे पानी पहुंचाना है.

जबलपुर जिले के कई ऐसे ग्रामीण इलाके ऐसे हैं जहां आज भी लोग पीने के पानी के लिए तरस जाते हैं. इन इलाकों में गर्मियों में ...अधिक पढ़ें

जबलपुर. बहुत जल्द ही जबलपुर (Jabalpur) जिले के कई ग्रामीण इलाकों में घर घर नर्मदा (Narmada jal) जल मिलने लगेगा. काम तो 2017 में शुरू हो गया था लेकिन बीच में कोरोना के कारण कुछ दिक्कत आ गयी थी लेकिन अब काम ने फिर रफ्तार पकड़ ली है. 257 करोड़ रुपये की मध्य प्रदेश शहरी विकास परियोजना के तहत ये काम किया जाना है.

मध्य प्रदेश शहरी विकास परियोजना के तहत जबलपुर के आसपास के साथ ग्रामीण इलाकों में पेयजल योजना शुरू की जाना थी. साल 2017 में लम्हेटाघाट में प्रोजेक्ट की शुरुआत की गई थी जिसकी लागत करीब 257 करोड़ों रुपए है. इसमें नर्मदा नदी का पानी इंटेक वैल लम्हेटाघाट से लिया जाएगा. पानी के शुद्धिकरण के लिए 31 एमएलडी का शुद्धिकरण संयंत्र भी लगाया गया है. उसके बाद साफ पानी को तकरीबन डेढ़ सौ किलोमीटर लंबी पाइप लाइन के जरिए भेड़ाघाट, पाटन, कटंगी, मझौली, पनागर और सिहोरा जैसे ग्रामीण इलाकों में घर-घर तक पहुंचाया जाएगा. इसके लिए जमीनी स्तर पर काम शुरू हो गया है.

योजना पर अगर नजर डालें तो

-इस योजना की कुल निर्माण लागत 257 करोड़ रुपए है.
– वर्ष 2018 की जनसंख्या 152208 और वर्ष 2048 तक 221965 जनसंख्या के अनुमान के मुताबिक योजना को पूरा किया जा रहा है.
– फिलहाल योजना का 80 फीसदी काम पूरा हो चुका है.
– सभी ग्रामीण क्षेत्रों में जल प्रदाय करने के लिए साफ पानी की पाइप लाइन की कुल लंबाई 159.01 किलोमीटर और जल वितरण के लिए 328.5 किलोमीटर लाइन बिछाई जाएगी
– अक्टूबर 2021 में भेड़ाघाट नगर परिषद को, दिसंबर 2021 तक पाटन, कटंगी और मझोली को नर्मदा जल घर-घर मिलने लगेगा.

ये भी पढ़ें-महाकाल मंदिर में VVIP श्रद्धालुओं को 100 रुपये में मिलेगा ई-पास, जल्द खुलेगा नया दफ्तर

पानी का इंतजार
भेड़ाघाट में कई घरों में नल लग चुके हैं. हर घर में नल लगाना है और 24 घंटे पानी पहुंचाना है. लोगों के घरों में नल लग गए हैं तो लोगों की उम्मीदें भी बढ़ गई हैं. उनका कहना है प्रशासन नल तो लगा कर चला गया लेकिन फिलहाल पानी नहीं आ रहा है. उम्मीद है कि 2 से 3 महीनों में घर-घर तक 24 घंटे पानी मिलने लगेगा.

पानी का संकट
जबलपुर जिले के कई ऐसे ग्रामीण इलाके ऐसे हैं जहां आज भी लोग पीने के पानी के लिए तरस जाते हैं. इन इलाकों में गर्मियों में भीषण जलसंकट का सामना करना पड़ता है. लम्हेटाघाट में बन रहे इस प्रोजेक्ट का निरीक्षण करने बीजेपी विधायक अजय विश्नोई भी पहुंचे. उनका कहना है कोरोना संकट काल के कारण इस परियोजना में देरी हुई है. लेकिन आने वाले कुछ ही महीनों में भेड़ाघाट समेत अन्य ग्रामीण इलाकों में पानी की सप्लाई शुरू हो जाएगी. इस परियोजना में वर्तमान के साथ-साथ आने वाले 30 साल तक की जनसंख्या को ध्यान में आधार पर काम किया जा रहा है.

Tags: Jabalpur news, Narmada River, Water supply

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें