• Home
  • »
  • News
  • »
  • madhya-pradesh
  • »
  • Jabalpur News: मुस्लिम बाहुल्य इलाके में कोरोना वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे लोग, सर्वे में खुलासा

Jabalpur News: मुस्लिम बाहुल्य इलाके में कोरोना वैक्सीन लगवाने से कतरा रहे लोग, सर्वे में खुलासा

जबलपुर में टीकाकरण को लेकर सर्वे किया गया है.

जबलपुर में टीकाकरण को लेकर सर्वे किया गया है.

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के जबलपुर (Jabalpur) से सामने आई कोरोना वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) तस्वीर बेहद चिंताजनक है, जहां अल्पसंख्यकों में वैक्सीन के प्रति उत्साह में कमी नजर आ रही है.

  • Share this:

जबलपुर में 8 विधानसभा क्षेत्र हैं. अकेले शहरी चार विधानसभा क्षेत्रों में ही 11 हजार 5000 लोगों ने वैक्सीन की पहली डोज नहीं लगवाई है. इस पर सबसे ज्यादा खराब हालात पूर्व विधानसभा क्षेत्र के हैं. जहां 65000 की आबादी ने अब तक पहला डोज़ तक नहीं लगवाया है. यह वही विधानसभा क्षेत्र है, जहां पर सबसे अधिक मुस्लिम बहुल आबादी निवास करती है. आंकड़े बताते हैं कि 27 सितंबर तक पूरी आबादी को पहली डोज का पूर्ण वैक्सीनेशन हो जाना, जिले में किसी टेढ़ी खीर से कम नहीं 2 लाख 30 हजार की आबादी को 4 दिनों के भीतर वैक्सीनेट करना बेहद मुश्किल साबित हो सकता है. वैक्सीन की तो कोई कमी नहीं है, लेकिन आम जनता की जागरुकता में कमी के चलते महकमे को यह परेशानी झेलनी पड़ रही है.

अलग-अलग उम्र वर्ग के हिसाब से बात करें तो 18 साल से लेकर 45 वर्ष तक के लोगों में 64 फीसदी को पहला डोज लग चुका है. जबकि 24 फीसदी को दूसरा डोज लग चुका है. 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में 93 फ़ीसदी को फर्स्ट डोज, जबकि 61 फ़ीसदी को सेकंड डोज लग चुका है. गर्भवती महिलाओं में 26 फीसदी को वैक्सीन का पहला डोज और 13 फ़ीसदी को सेकंड डोज़ लग चुका है. जबकि फ्रंटलाइन वर्कर और हेल्थ वर्कर 100 प्रतिशत वैक्सीनेट हो चुके हैं.

वैक्सीनेशन के मामले में सबसे निराशाजनक आंकड़े पूर्व विधानसभा क्षेत्र से सामने आए हैं, जिसे पूरा करने के लिए महकमा अलर्ट मोड पर है. मुस्लिम बाहुल्य आबादी का वैक्सीनेशन के प्रति रुझान कम देखना कहीं ना कहीं कोरोना से जंग जीतने में  कठिनाई भरा साबित हो सकता है.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज