Assembly Banner 2021

Jabalpur News : अब तक नहीं सुलझी धनुष तोप में हुए भ्रष्टाचार और उसकी जांच से जुड़े अफसर की हत्या की गुत्थी

एस सी खाटुआ की लाश 5 फरवरी 2019 को पहाड़ियों में पड़ी मिली थी,

एस सी खाटुआ की लाश 5 फरवरी 2019 को पहाड़ियों में पड़ी मिली थी,

Jabalpur : खाटुआ हत्याकाण्ड में मृतक की पत्नि मौसमी खाटुआ की याचिका पर जबलपुर हाईकोर्ट भी जबलपुर (Jabalpur) पुलिस को जांच में तेजी लाने के निर्देश दे चुका है.लेकिन अब तक कोई पुख्ता सुराग ना मिल पाने से पुलिस की जांच ठप्प पड़ी है

  • Share this:
जबलपुर.जबलपुर (Jabalpur) की गन कैरिज फैक्ट्री में हुए भ्रष्टाचार और फिर एक अफसर की मौत की गुत्थी अब तक नहीं सुलझ पायी है.सबसे ताकतवर तोप का तमगा रखने वाली धनुष में चीनी कलपुर्जों की आपूर्ति और उससे जुड़े अधिकारी एससी खाटुआ की हत्या का मामला मानो किसी फाइल में बंद सा हो गया है. 2019 में हुई इस हत्या का राज़ आज भी राज़ ही है.मामले की जांच कर रही पुलिस के हाथ अब तक आरोपियों के गिरेबां तक नहीं पहुंच पाए हैं. जबकि 5 बड़ी जांच एजेंसी इस मामले की पड़ताल में जुटी हैं.

धनुष तोप में जर्मनी की बजाय घटिया किस्म के चीनी कलपुर्जे लगाने के मामले में सीबीआई की जांच में फंसे, जबलपुर की गन कैरिज फैक्ट्री के अधिकारी एस सी खाटुआ की हत्या अब तक पुलिस के लिए अबूझ पहेली बनी हुई है. हत्याकाण्ड के करीब दो साल बाद भी पुलिस के हाथ खाली हैं. अब जबलपुर के आईजी बीएस चैहान ने मामले में नए तथ्यो के आधार पर जांच मे तेजी लाने की बात कही है.जबलपुर के आईजी ने कुबूल किया है कि जबलपुर पुलिस खाटुआ हत्याकाण्ड की जांच में अब तक नाकाम ही साबित हुई है जबकि उन्होंने आरोपियों की गिरफ्तारी पर 25 हजार का इनाम घोषित किया था.

खाटुआ की डायरी में थे दलालों के नाम
आईजी के मुताबिक जबलपुर पुलिस इस हत्याकाण्ड की जांच में सीबीआई की भी मदद लेगी.क्योंकि सीबीआई की पूछताछ के बाद ही खाटुआ लापता हुए थे और फिर उनकी लाश पाई गई थी.हालांकि इस ब्लाइंड मर्डर में अब तक आरोपियों का कोई सुराग नहीं लगा है. लेकिन अंदेशा है कि देश भर की कई कंपनियों के दलाल खाटुआ के संपर्क में थे. 17 जनवरी 2019 को खाटुआ के लापता होने से ठीक एक हफ्ते पहले 10 जनवरी को सीबीआई ने खाटुआ के घर और दफ्तर से जो दस्तावेज जब्त किए थे उनमें कलपुर्जों की टेंडरिंग प्रक्रिया से जुड़ी कुछ कंपनियों के दलालों के नाम मिले थे.



पहाड़ियों में मिली थी लाश
इस हत्याकाण्ड में मृतक की पत्नि मौसमी खाटुआ की याचिका पर जबलपुर हाईकोर्ट भी जबलपुर पुलिस को जांच में तेजी लाने के निर्देश दे चुका है.लेकिन अब तक कोई पुख्ता सुराग ना मिल पाने से पुलिस की जांच ठप्प पड़ी है.10 जनवरी 2019 को दिल्ली सीबीआई ने जबलपुर आकर जीसीएफ के जूनियर वर्क्स मैनेजर एससी खाटुआ से लंबी पूछताछ की थी.उसके बाद 17 जनवरी को खाटुआ लापता हो गए थे. फिर 5 फरवरी को उनकी लाश जबलपुर में पाटबाबा की पहाड़ियों में पाई गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज