Home /News /madhya-pradesh /

EXCLUSIVE: जबलपुर में बने बमों से भारत ने नेस्तनाबूद किए पाक के आतंकी ठिकाने

EXCLUSIVE: जबलपुर में बने बमों से भारत ने नेस्तनाबूद किए पाक के आतंकी ठिकाने

आयुध निर्माणी जबलपुर

आयुध निर्माणी जबलपुर

आतंकियों को नेस्तनाबूद करने वाले 1000 पाउॅन्डर बम जबलपुर की जिस फैक्ट्री में बनते हैं उसके कर्मचारी और अधिकारी अपने काम पर फक्र महसूस कर रहे हैं कि उनके बनाए गए बमों ने आतंकी कैंपों को नष्ट किया.

भारत ने एयर स्ट्राइक में POK के आतंकी कैंपों पर जो बम बरसाए, वे जबलपुर में बने थे. जबलपुर के खमरिया में स्थित ओएफके फैक्ट्री में ये बम तैयार किए जाते हैं. ये 1000 पाउॅन्डर बम हैं. ये बम इतना घातक है कि पलक झपकते ही एक बड़ी बिल्डिंग को ढेर कर सकता है. ये बम थल सेना के साथ साथ जल सेना और वायु सेना को भी यहां से सप्लाई किए जाते हैं.

जैश ए मोहम्मद के आतंकी कैंपों को भारत ने मंगलवार को तबाह कर दिया. वायुसेना के मिराज 2000 फाइटर प्लेन से उन आतंकी कैंपों पर बम बरसाए गए. 12 प्लेन से 1000 किलो बम बरसाए गए. सेना की भाषा में ये 1000 पाउॅन्डर बम कहलाते हैं, लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि ये बम जबलपुर की खमरिया स्थित आयुध निर्माणी में बनाए जाते हैं.

आतंकी कैंपों पर किए गए इस हमले में वायुसेना की भूमिका तो अहम थी लेकिन सेना का सहयोग भी कम नहीं था. कैंपों पर बरसाए गए बम जबलपुर के ओएफके फैक्ट्री में बनते हैं. आयुध निर्माणी खमरिया बीते 12 साल से 1000 पाउॅन्डर बम सेना के लिए बना रही है.

ये भी पढ़ें -जैश के आतंकी कैंपों पर बम बरसाने वाले मिराज 2000 ने ग्वालियर से भरी थी उड़ान!

आतंकियों को नेस्तनाबूद करने वाले 1000 पाउॅन्डर बम जिस फैक्ट्री में बनते हैं उसके कर्मचारी और अधिकारी अपने काम पर फक्र महसूस कर रहे हैं कि उनके बनाए गए बमों ने आतंकी कैंपों को नष्ट किया.
ऑर्डिनेंस फैक्ट्री खमरिया के स्टाफ का कहना है ओएफके में बहुत सारे बम बनाए जाते है. उन्हीं में से एक 1000 पाउॅन्डर बम है. फैक्ट्री का स्टाफ सेना के लिए अपने सर्वस्व योगदान के लिए तैयार है.

ये भी पढ़ें - AIR STRIKE : CM कमलनाथ और उनके मंत्री बोले - जांबाज़ भारतीय सैनिकों को हमारा सलाम

Tags: Air Strike, CRPF, Madhya pradesh news, Pulwama attack, Surgical Strike

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर