अपना शहर चुनें

States

अब वकील बिना इजाज़त नहीं कर पाएंगे हड़ताल, एडवोकेट एक्ट 1961 में संशोधन

जबलपुर हाईकोर्ट
जबलपुर हाईकोर्ट

सरकार के इस फैसले से वकील नाराज़ हैं. उन्होंने इस संशोधन को गलत बताया है और अब वो सरकार के इस फैसले को चुनौती देने की तैयारी में हैं.

  • Share this:
मध्यप्रदेश में वकील अब बिना इजाज़त हड़ताल नहीं कर पाएंगे. सरकार ने एडव्होकेट एक्ट 1961 के प्रावधानों मे संशोधन कर इस संबंध में आदेश जारी कर दिया है.

पूरे प्रदेश में अब वकीलों की हड़ताल पर सरकार ने बैरिकेट लगा दिया है. सभी अदालतों को सरकार ने आदेश दे दिया है. मध्यप्रदेश सरकार ने एडव्होकेट एक्ट 1961 के प्रावधानों में संशोधन किया है. वकीलों की हड़ताल के संबंध में जबलपुर हाईकोर्ट में एक याचिका लगायी गयी थी. वकील प्रवीण पांडेय ने ये याचिका लगायी थी. इसमें हड़ताल के कारण पक्षकारों को होने वाली परेशानी का ज़िक्र किया गया था.

ये भी पढ़ें -MP में 9 सीनियर IAS अफसर इधऱ से उधर, सलीना सिंह ACS उच्च शिक्षा



याचिका का निपटारा होने के बाद सरकार ने इस एडव्होकेट एक्ट 1961 की धारा 34 के तहत नया संशोधन कर दिया है. अब जो नयी व्यवस्था की गयी है उसमें प्रदेश व्यापी हड़ताल के लिए मुख्य न्यायाधीश से इजाज़त लेना ज़रूरी होगा. ज़िला स्तर पर ज़िला सत्र न्यायाधीश इसकी इजाज़त देंगे.
ये भी पढ़ें - ज्योतिरादित्य सिंधिया की पत्नी के बाद अब एमपी की सियासत में साधना सिंह की एंट्री की चर्चा

सरकार के इस फैसले से वकील नाराज़ हैं. उन्होंने इस संशोधन को गलत बताया है और अब वो सरकार के इस फैसले को चुनौती देने की तैयारी में हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज