होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /एमपी की सबसे बड़ी बैंक डकैती : मण्णपुरम के गहनों में लगा था जीपीएस, ऐसे पकड़ में आए डकैत

एमपी की सबसे बड़ी बैंक डकैती : मण्णपुरम के गहनों में लगा था जीपीएस, ऐसे पकड़ में आए डकैत

Biggest Bank Robbery in MP.सभी कुख्यात बदमाश बिहार के एक शातिर गैंग के सदस्य हैं. सभी आरोपी सुबोध सिंह गैंग से ताल्लुक रखते हैं.

Biggest Bank Robbery in MP.सभी कुख्यात बदमाश बिहार के एक शातिर गैंग के सदस्य हैं. सभी आरोपी सुबोध सिंह गैंग से ताल्लुक रखते हैं.

Mannapuram Bank Robbery : यह सभी कुख्यात बदमाश बिहार के एक शातिर गैंग के सदस्य हैं. सभी आरोपी सुबोध सिंह गैंग से ताल्लु ...अधिक पढ़ें

जबलपुर. एमपी के सबसे बड़े डकैती कांड कटनी जिले में मण्णपुरम गोल्ड लोन फाइनेंस कंपनी की घटना की नयी परतें खुल रही हैं. इस मामले में पकड़े गए दोनों ही आरोपी नए-नए राज उगल रहे हैं. जो गहने चुराए गए थे उसमें लगे जीपीएस से इन आरोपियों की लोकेशन का पता चला था और उसी के सहारे पुलिस इन तक पहुंची. अभी इनके चार साथी फरार हैं. पुलिस तीन राज्यों में आरोपियों की तलाश कर रही है.

जबलपुर रेंज के डीआईजी एसपीएस परिहार ने बताया कि 26 नवंबर 2011 को हुई डकैती के मामले में आरोपी तकरीबन 50 दिन से रैकी कर रहे थे. उसके बाद उन्होंने इस घटना को अंजाम दिया है. खास बात यह है कि जिस गैंग से यह आरोपी आते हैं उसने देश भर में तकरीबन 300 किलो सोना अब तक चोरी किया है.

2 आरोपी हाथ लगे बाकी फरार

कटनी जिले के बरगवां स्थित मन्नापुरम गोल्ड लोन फाइनेंस कंपनी लिमिटेड में हुई डकैती की वारदात ने पूरे प्रदेश में सनसनी मचा दी थी. यह प्रदेश की अब तक की सबसे बड़ी गोल्ड डकैती भी कही जा रही है. बिहार से आए बदमाशों ने दिनदहाड़े इस बड़ी डकैती को अंजाम दिया था. फिलहाल पुलिस ने दो आरोपियों को उसी दिन गिरफ्तार कर लिया था लेकिन अभी भी चोरी की गई सोने की ज्वैलरी और नकदी बरामद नहीं हो पाई है. पुलिस ने इस मामले में जिन दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है उनमें पटना बिहार के रहने वाले शुभम तिवारी और बक्सर बिहार के रहने वाले अंकुश साहू से कई राज उगलवाए हैं.

ग्राहक बनकर 50 दिन तक रैकी

जबलपुर रेंज के डीआईजी ने बताया कि आरोपियों ने डकैती डालने से पहले खुद ग्राहक बनकर लगातार रैकी की थी. वह 50 दिन पूर्व ही कटनी के पास एक किराए के मकान पर रह रहे थे जो फर्जी आईडी लेकर अनुबंधित किया गया था. ना केवल बैंक की रैकी की गई बल्कि किस रास्ते से भागना है बदमाश इसकी भी लगातार रैकी कर रहे थे. आरोपी जबलपुर, डिंडोरी ,मंडला ,निवास तक अलग-अलग क्षेत्रों में पहुंचे थे. भागने के लिए रास्ते की पूरी जानकारी जुटाई थी.

ये भी पढ़ें-कर न चुकाने वाले हजारों उपभोक्ताओं की संपत्ति कुर्क होगी, जबलपुर नगर निगम ने की तैयारी

पहले हुलिया बदला फिर नंबर प्लेट

आरोपी इतने शातिर हैं कि उन्होंने डकैती की वारदात को अंजाम देने की पहले ही पूरी तैयारी कर रखी थी. 6 में से दो आरोपियों ने बघताजी में फर्जी आईडी के आधार पर एक मकान किराये पर लिया था. जबकि अन्य आरोपियों ने स्लीमनाबाद में फर्जी आईडी पर एक किराए का मकान ले रखा था. जब वारदात को अंजाम देकर आरोपी फरार हुए तो उसके बाद बघराजी स्थित किराए के मकान पर पहुंचे थे. वहां पहले उन्होंने अपना हुलिया बदला और फिर बाइक की नंबर प्लेट बदलकर रफूचक्कर हो गए.

गहनों में लगे जीपीएस ट्रैकर ने पकड़वाया

इस पूरे घटनाक्रम की कड़ी सोने के आभूषणों में लगा जीपीएस ट्रैकर था जिसके दम पर पुलिस को यह सूचना मिली कि आरोपी कुंडम के रास्ते  निवास होते हुए फरार होना चाह रहे हैं. इसलिए पहले से ही निवास पुलिस सतर्क थी. दो बाइक पर सवार आरोपी वहीं से निकले लेकिन पुलिस सिर्फ दो को ही पकड़ पायी बाकी सारे भाग निकले.

बिहारी गैंग ने 300 किलो सोना चुराया

एक और खास बात जो पुलिस के हाथ लगी है वह बताती है कि यह सभी कुख्यात बदमाश बिहार के एक शातिर गैंग के सदस्य हैं. सभी आरोपी सुबोध सिंह गैंग से ताल्लुक रखते हैं. पकड़े गए आरोपी शुभम तिवारी और अंकुश साहू ने बताया कि उनके अन्य 4 साथी अखिलेश उर्फ विकास,अर्जुन उर्फ पीयूष, मिथिलेश उर्फ धर्मेंद्र और अमित उर्फ विक्कू ने मिलकर इस वारदात को अंजाम दिया है. पुलिस के मुताबिक यह गैंग देशभर में कई वारदातों को अंजाम दे चुकी है और अपुष्ट जानकारी के मुताबिक तकरीबन 300 किलो सोना यह गैंग  चुरा चुकी है.

गिरफ्तारी पर 30 हजार का इनाम

फिलहाल सभी आरोपियों की गिरफ्तारी पर पुलिस ने 30 हज़ार का इनाम घोषित कर रखा है. राजस्थान, बिहार समेत छत्तीसगढ़ राज्य में अलर्ट रखा गया है. जानकारी के मुताबिक आरोपी इन राज्यों में हो सकते हैं. सभी की गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार इन तीन राज्यों की पुलिस से मदद मांग रही है.

Tags: Bank Robbery, Jabalpur news, Jabalpur Police

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें