लाइव टीवी

मिलिए जबलपुर के Mr Yogi से जो ट्रैफिक सिग्नल पर करता है शीर्षासन
Jabalpur News in Hindi

Prateek Mohan Awasthi | News18 Madhya Pradesh
Updated: February 19, 2020, 6:35 PM IST
मिलिए जबलपुर के Mr Yogi से जो ट्रैफिक सिग्नल पर करता है शीर्षासन
ट्रैफिक नियमों के प्रति जागरुकता लाने के लिए योगा

सुदीप के इस शीर्षासन के पीछे एक सबक है. कुछ समय पहले जबलपुर में उनका एक्सिडेंट हो गया था. वो हेलमेट पहने थे इसलिए जान बच गयी. बस उस दिन ही उन्होंने तय कर लिया कि वो लोगों को हेलमेट पहनने के लिए जागरुक करेंगे.

  • Share this:
जबलपुर.डांसिंग कॉप और छात्रा के बाद अब एक योगी (Yogi) सामने आया है जो वाहन चालकों को हेलमेट (Helmet) पहनने के लिए जागरुक कर रहा है. ये योगी जबलपुर (jabalpur) का एक युवा है जो ट्रैफिक फोर्स का सदस्य है. इसे आप शहर के किसी भी व्यस्त चौराहे पर ट्रैफिक सिग्नल (traffic signal) के पास शीर्षासन करते देख सकते हैं.

ट्रैफिक सिग्नल पर यातायात नियमों के प्रति जागरुक करने के लिए इंदौर में डांसिंग कॉप और एमबीए छात्रा डांस करते दिखी थी. अब जबलपुर में हेल्मेट पहनकर शीर्षासन करते देखा है. जबलपुर में ट्रैफिक फोर्स के एक सदस्य सुदीप ने हेलमेट के प्रति जागरुकता लाने के लिए नई पहल शुरू की है. वो बीच चौराहे पर हेलमेट पहनकर शीर्षासन कर रहे हैं. रेड लाइट होने पर यहां रुकने वाले चालकों का ध्यान अपने आप ही उनकी ओर जाता है. लोग पहले अचरज से देखते हैं. थोड़ी ही देर में उन्हें माजरा समझ आ जाता है. फिर सुदीप उठते हैं और हेलमेट ना पहनने वाले चालकों को समझाते हैं कि ज़िंदगी अनमोल है. अपना सिर बचाइए.

अपने साथ हुई सड़क दुर्घटना से मिली प्रेरणा
ट्रैफिक पुलिस को सहयोग करने के मकसद से सुदीप युवा ट्रैफिक फोर्स के साथ जुड़े हैं. वो ट्रैफिक में सहयोग करते हैं.सुदीप के इस शीर्षासन के पीछे एक सबक है. कुछ समय पहले जबलपुर में उनका एक्सिडेंट हो गया था. वो हेलमेट पहने थे इसलिए जान बच गयी. बस उस दिन ही उन्होंने तय कर लिया कि वो लोगों को हेलमेट पहनने के लिए जागरुक करेंगे. सुदीप कहते हैं, जिस तरह योग में आसनों का राजा शीर्षासन है वैसे ही शरीर का बॉस सिर है. और हेलमेट इस सिर का मुकुट है.



खुश है ट्रैफिक पुलिस
ट्रैफिक पुलिस सुदीप से मिल रहे इस सहयोग से खुश है. एएसपी ट्रैफिक, अमृत मीणा का मानना है कि आम लोगों में यातायात नियमों का पालन कराने के लिए जागरुकता लाने की ज़रूरत है.आम लोगों में अगर सोच पैदा हो जाए तो बड़े हादसों से बचा जा सकता है. सुदीप ने दुर्घटना से सबक लिया वो खुश किस्मत थे कि उनकी जान बच गयी. इसलिए दुर्घटना का इंतज़ार क्यों. उससे पहले ही अपनी जान बचाइए और स्कूटर चलाते वक्त हेलमेट पहनिए.

ये भी पढ़ें-मध्य प्रदेश में अब 15 दिन में मिल जाएगा नये उद्योग लगाने का लायसेंस

यूनियन कार्बाइड का प्रोडेक्शन ऑपरेटर शकील गिरफ्तार,एंबुलेंस में पहुंचा कोर्ट

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जबलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 19, 2020, 6:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,095

     
  • कुल केस

    5,734

     
  • ठीक हुए

    472

     
  • मृत्यु

    166

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (08:00 AM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,099,679

     
  • कुल केस

    1,518,773

    +813
  • ठीक हुए

    330,589

     
  • मृत्यु

    88,505

    +50
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर