Corona काल में विपक्ष का सवाल, सरकार बताए रेमडेसिविर आए 4 हजार, लगे 12 हजार, क्यों और कैसे?

मप्र के पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत ने सरकार से दवाओं के ऑडिट की मांग की है.

मप्र के पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत ने सरकार से दवाओं के ऑडिट की मांग की है.

Corona काल में विपक्ष ने सरकार से सवाल किया है. पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत ने सरकार से कहा है कि दवाओं और इंजेक्शन का ऑडिट किया जाए. पता चलना चाहिए कितनी दवाएं आईं और कितनी इस्तेमाल हुईं.

  • Last Updated: May 17, 2021, 1:37 PM IST
  • Share this:

जबलपुर. कोरोना आपदा में इस्तेमाल हुए इंजेक्शन और दवाओं को लेकर विपक्ष अब सरकार से ऑडिट मांग रहा है. पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत में सरकार से कोरोना काल में उपयोग में लाई गई रेमडेसिविर इंजेक्शन, आवश्यक दवाओं में शामिल फेबीफ्लू, टेमीफ्लू समेत अन्य दवाओं की आपूर्ति और मध्य प्रदेश में इसकी खपत को लेकर ऑडिट की मांग की है.

पूर्व वित्त मंत्री का मानना है कि अगर 4000 रेमडेसिविर इंजेक्शन मध्य प्रदेश में आए, लेकिन अस्पतालों में 12000 इंजेक्शन लग गए तो आखिर इतनी बड़ी खेप कहां से आई. सरकार को इस पर स्थिति स्पष्ट करनी चाहिए. पूर्व वित्त मंत्री ने यह भी आरोप लगाया कि न जाने कितनी नकली दवाएं प्रदेश में खपा दी गईं.

पहले ही सामने आ चुका बड़ा रैकेट- भनोत

पूर्व वित्त मंत्री तरुण भनोत ने कहा- ऐसा नहीं है कि सारी दवाएं नकली हों लेकिन फिर भी अचानक कोरोना की दूसरी लहर में मरीजों की मौत और स्वास्थ्य में आए परिवर्तन को लेकर अब दवाओं पर भी प्रश्नचिन्ह उठने लगा है. नकली रेमडेसिविर का रैकेट पहले ही सामने आ चुका है. ऐसे में आशंका है कि आवश्यक दवाओं की भी कॉपी कर नकली दवाओं को बाजार में वितरित कर दिया हो.
सरकार ने किया दावा- कंट्रोल हो रहा कोरोना

संक्रमण की दर लगातार घट रही है जो गिरकर 9 फीसदी पर आ गयी है. वहीं रिकवरी रेट बढ़कर 90 प्रतिशत के पास पहुंचने वाला है. कोरोना कर्फ्यू (Corona curfew) के कारण हालात नियंत्रण में आते दिख रहे हैं. मध्य प्रदेश सरकार के प्रवक्ता और गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा निरंतर मॉनिटरिंग और जनता के सहयोग से कोरोना नियंत्रण की स्थिति में आता जा रहा है. उन्होंने बताया कोरोना से बीमार होने वाले मरीज़ों की दर अब 9.1 रह गई है जबकि उसके मुकाबले रिकवरी की दर बढ़कर 87.5 प्रतिशत हो गई है. पिछले 24 घंटे में कोरोना के नए पॉजिटिव 6136 केस आए हैं.

जबकि स्वस्थ होने वालों की संख्या 11691 है, जो ठीक हो कर घर लौट गए. प्रदेश के उत्तरी इलाकों के जिलों में संक्रमण की दर 9% के नीचे आ गई है. प्रदेश के अधिकांश जिले जिलों में संक्रमण की दर डबल डिजिट के अंदर आ गई है. कल 66 हजार से अधिक सैंपल लिए गए, हर रोज 60 हजार से अधिक सैंपल लिए जा रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज