एक Tweet ने शुरू कराया MP के इस सबसे बड़े फ्लाईओवर का काम, लंबे समय से हो रही थी राजनीति

प्रदेश का सबसे बड़ा फ्लाई ओवर (Flyover) लंबे समय से टेंडर (Tender) के खेल में फंसा हुआ है. अब राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा (Rajyasabha Mp Vivek Tankha) के एक ट्वीट के बाद केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने इसके लिए 163 करोड़ रूपयों की राशि स्वीकृत की है.

Prateek Mohan Awasthi | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 31, 2019, 1:10 PM IST
एक Tweet ने शुरू कराया MP के इस सबसे बड़े फ्लाईओवर का काम, लंबे समय से हो रही थी राजनीति
टेंडरों के खेल में अटका है इस एलिवेटेड फ्लाईओवर का काम
Prateek Mohan Awasthi | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 31, 2019, 1:10 PM IST
6 महीने से टेंडर (Tender) की प्रक्रिया मे फंसे 5.90 किलोमीटर लंबे ऐलीवेटिड फ्लाईओवर (Elevated Flyover) का काम अब तक शुरू नहीं हो पाया है. 758 करोड़ से अधिक की लागत से बनने वाले प्रदेश के इस सबसे बड़े फ्लाई ओवर में कई बार ठेके निरस्त हो चुके हैं. इस मामले पर राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा (Rajya Sabha MP Vivek Tankha) के एक ट्वीट के बाद केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Union Minister Nitin Gadkari) ने तत्काल 163 करोड़ की राशि इस प्रोजेक्ट के लिए स्वीकृत कर दी है. अब ये फ्लाईओवर कब बनकर तैयार होता है, ये देखने वाली बात होगी.

राजनीति में अटका प्रदेश का सबसे बड़ा फ्लाईओवर
प्रदेश का सबसे बड़ा फ्लाईओवर कितना ऊंचा और कितना बड़ा बनेगा इसका तो पता नहीं, लेकिन लगता है इस बड़े काम के लिए प्रदेश स्तर पर शायद उतनी ही छोटी राजनीति शुरू हो गई है. बड़े जतन के बाद प्रदेश के सबसे बड़े ऐलीवेटिड फ्लाईओवर का भूमिपूजन भी हुआ. केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी और प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा भी कार्यक्रम मे शामिल हुए. 22 फरवरी को हुए भूमिपूजन के बाद लगा मानों कुछ ही दिनों में शहर को मिली ऐतिहासिक सौगात का काम चालू हो जाएगा. लेकिन आज तक इस फ्लाईओवर के मामले में अगर कुछ हुआ तो वो सिर्फ राजनीति.

News - फरवरी में केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी और प्रदेश के लोक निर्माण मंत्री सज्जन सिंह वर्मा  इसके भूमिपूजन में शामिल हुए थे
फरवरी में केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी और प्रदेश के मंत्री सज्जन सिंह वर्मा इसके भूमिपूजन में शामिल हुए थे


ट्वीट से आगे बढ़ा काम
फ्लाईओवर का ये मामला इन दिनों और अधिक गर्माया एक टवीट के ज़रिए, जिसमे राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने फ्लाईओवर का प्रोजेक्ट निरस्त हो जाने की बात कह दी. बात दिल्ली पहुंची तो तत्काल 163 करोड़ रूपए की राशि स्वीकृत की गई, साथ ही एक पत्र भी प्रदेश सरकार तक पहुंचा. इसकी पुष्टि करते हुए राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने मीडिया से कहा कि प्रोजेक्ट निरस्त हो जाने का ट्वीट हल्ला मचाने के लिए था, ताकि काम आगे बढ़े. अब उनका भी ये प्रयास होगा कि जल्द ये काम चालू हो.


कई बार रुक चुका है इस फ्लाईओवर का काम
इससे पहले कई बार इस ऐलीवेटिड फ्लाईओवर का ठेका निरस्त हो चुका है.
>> सबसे पहले गुजरात की रंजीत बिल्डकॉन कंपनी ने इस ऐलीवेटिड फ्लाईओवर के निर्माण का ठेका लिया. पीडब्ल्यूडी के अनुबंध की शर्तों का पालन न कर पाने की वजह से ठेका निरस्त कर दिया गया. कंपनी द्वारा दी गई 616 लाख रूपए की राशि को भी जब्त कर लिया गया.

>> ठेका निरस्त होने के बाद 8 मार्च को फ्लाइओवर का ऑनलाइन टेंडर फिर से जारी कर दिया गया लेकिन आचार संहिता लगने से 4 माह के लिए टेंडर की प्रक्रिया टल गई.

>> इसके बाद फिर ठेका हुआ और उसे निरस्त कर दिया गया.

इस मामले में प्रभारी मंत्री प्रियव्रत सिंह ने भी जल्द काम चालू होने का आश्वासन दिया है लेकिन अब तक फ्लाईओवर के लिए चल रही खींचतान शहर के विकास को कोसों पीछे छोड़ रही है.

भी पढ़ें -
एक्ट्रेस ने बिल्डिंग से कूद कर की आत्महत्या, सामने आई ये वजह
इस शख्स की वजह से असम में लागू हुआ NRC, जानिए 10 साल पहले कैसे शुरू हुआ सफर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जबलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 1:10 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...