Home /News /madhya-pradesh /

muslim boy married a hindu girl jabalpur high court order to provide security administration demolished house with a bulldozer mpsg

जिस मुस्लिम लड़के के घर पर बुलडोजर चला, हाईकोर्ट ने उसे दी सुरक्षा, सरकार-डीजीपी से जवाब तलब

Jabalpur High Court Decision. जबलपुर हाईकोर्ट ने इस केस में सरकार और डीजीपी से जवाब तलब किया है.

Jabalpur High Court Decision. जबलपुर हाईकोर्ट ने इस केस में सरकार और डीजीपी से जवाब तलब किया है.

Bulldozer campaign in MP. हिंदू लड़की को अगवा कर अपहरण के आरोप में फंसे एक मुस्लिम युवक को जबलपुर हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. हाइकोर्ट ने डिंडोरी निवासी आसिफ खान की गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए पुलिस को आदेश दिया है कि वह जरूरत पड़ने पर युवक को सुरक्षा दे. डिंडोरी में रहने वाले आसिफ खान का उसी के मोहल्ले में रहने वाली एक हिंदू लड़की से अफेयर था. वो उसी युवती के साथ भागकर छत्तीसगढ़ पहुंचा था और दंतेवाड़ा में हिंदू रीति रिवाज से शादी कर ली थी.

अधिक पढ़ें ...

जबलपुर. मध्य प्रदेश में दंगाइयों, बलवाइयों, गुंडे-बदमाशों के खिलाफ जारी बुलडोजर अभियान में एक युवक को जबलपुर हाईकोर्ट ने बड़ी राहत दी है. युवक पर हिंदू लड़की को अगवा कर धर्मांतरण का आरोप था. हाईकोर्ट ने उसकी गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए पुलिस को आदेश दिया है कि ज़रूरत पड़ने पर युवक को सुरक्षा प्रदान करे.

हिंदू लड़की को अगवा कर अपहरण के आरोप में फंसे एक मुस्लिम युवक को जबलपुर हाई कोर्ट से बड़ी राहत मिली है. हाइकोर्ट ने डिंडोरी  निवासी आसिफ खान की गिरफ्तारी पर रोक लगाते हुए पुलिस को आदेश दिया है कि वह जरूरत पड़ने पर युवक को सुरक्षा दे.

हिन्दू लड़की के अपहरण का आरोप
डिंडोरी में रहने वाले आसिफ खान का उसी के मोहल्ले में रहने वाली एक हिंदू लड़की से अफेयर था. वो उसी युवती के साथ भागकर छत्तीसगढ़ पहुंचा था और दंतेवाड़ा में हिंदू रीति रिवाज से शादी कर ली थी. लेकिन अलग-अलग समुदाय के होने के कारण उनकी शादी कानूनी तौर पर मान्य नहीं थी. हाई कोर्ट में हुई सुनवाई के बाद अदालत ने उन्हें स्पेशल मैरिज एक्ट के तहत विवाह करने के आदेश दिए.

ये भी पढ़ें- कांग्रेस का राष्ट्रीय चिंतन शिविर 13 मई से उदयपुर में, MP के नेता को मिली बड़ी जिम्मेदारी

FIR अमान्य करने की मांग
सुनवाई के दौरान साक्षी खुद कोर्ट में हाजिर हुई और उसने बताया कि न तो उसका अपहरण हुआ है और ना ही उसे आसिफ जबरदस्ती ले गया था. बावजूद इसके आसिफ और उसके परिवार के खिलाफ एफ आई आर दर्ज कर ली गई. आसिफ ने भी यह कहा कि हम दोनों बालिग हैं और अपनी मर्जी से शादी की है, लेकिन डिंडोरी पुलिस ने लड़की के परिवार की शिकायत पर एक तरफा कार्रवाई करते हुए अपहरण का केस दर्ज कर लिया. ये सरासर गलत है. सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता आसिफ ने यह मांग भी की कि उस पर दर्ज FIR गलत है जिसे अमान्य किया जाना चाहिए.

बुलडोजर कार्रवाई पर सरकार से जवाब
हाई कोर्ट जस्टिस नंदिता दुबे की एकल पीठ ने प्राथमिक सुनवाई करते हुए प्रदेश सरकार समेत अन्य को नोटिस जारी किये हैं और पूरे मामले पर जवाब तलब किया है. इतना ही नहीं आसिफ के ठिकानों पर हुई बुलडोजर कार्रवाई पर भी हाईकोर्ट ने सरकार और डीजीपी से जवाब मांगा है. मामले पर अगली सुनवाई जून में होगी.

Tags: Jabalpur High Court, Madhya pradesh latest news

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर