मणिपुर में पहली बार कमल खिलाने का इनाम, मोदी कैबिनेट में मंत्री बनेंगे प्रहलाद पटेल!
Jabalpur News in Hindi

मणिपुर में पहली बार कमल खिलाने का इनाम, मोदी कैबिनेट में मंत्री बनेंगे प्रहलाद पटेल!
Photo-Facebook

कैबिनेट में शामिल किए जाने वाले जिन नामों पर चर्चा हो रही है उनमें मध्य प्रदेश के दमोह से सांसद प्रहलाद पटेल का नाम भी शामिल है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 1, 2017, 8:56 AM IST
  • Share this:
लंबे इंतजार के बाद आखिरकार नरेंद्र मोदी मंत्रिमंडल में फेरबदल की घड़ी नजदीक आ गई. कैबिनेट में शामिल किए जाने वाले जिन नामों पर चर्चा हो रही है उनमें मध्य प्रदेश के दमोह से सांसद प्रहलाद पटेल का नाम भी शामिल है.

दमोह सांसद प्रहलाद पटेल को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का करीबी माना जाता है. अमित शाह के नेतृत्व में ही प्रहलाद पटेल को मणिपुर की जिम्मेदारी सौंपी गई थी. इस साल मणिपुर चुनाव में प्रहलाद पटेल के राजनीतिक कौशल से ही कमल खिला था और भाजपा पहली बार राज्य की सत्ता पर काबिज हुई थी.

मणिपुर की 60-सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस 28 सीटों के साथ सबसे बड़ी पार्टी थी. भाजपा को सिर्फ 21 सीटें मिल पाई थीं, लेकिन कांग्रेस के अलावा अन्य विधायकों के समर्थन के साथ भाजपा सरकार बनाने में सफल रही थी.



मध्यप्रदेश की राजनीति में उमा भारती के करीबी रहे प्रहलाद पटेल को भाजपा की इस फायर ब्रांड नेता के राजनीतिक करियर में आए उतार-चढ़ाव का खामियाजा उठाना पड़ा था. हालांकि, प्रहलाद पटेल ने संघर्ष का माद्दा रखते हुए अपना वजूद बचाए रखा और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को भी अपनी काबिलियत का लोहा मनवाया.



कौन है प्रहलाद पटेल
-प्रहलाद पटेल का जन्म 28 जून 1960 को नरसिंहपुर जिले के गोटेगांव नगर में हुआ था.

-बीएससी की शिक्षा आदर्श विज्ञान महाविद्यालय,जबलपुर एवं एलएलबी की शिक्षा विश्वविद्यालय शिक्षा विभाग रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय (मध्य प्रदेश) से की है.

-छात्र जीवन में सन 1980-81 में साइंस कॉलेज-विश्ववद्यालय छात्र संघठन जबलपुर के अध्यक्ष रहे.

-1984 से सहयोग क्रीड़ा मंडल के संस्थापक सदस्य के रूप में अहम भूमिका निभा रहे है.

-वर्ष 1986-90 तक सचिव युवा मोर्चा भारतीय जनता पार्टी एवं इसी समय युवा मोर्चा मध्य प्रदेश के जनरल सेक्रेटरी रहे.

-वर्ष 1989 प्रथम बार नौवीं लोकसभा में सांसद निर्वाचित हुए.

-वर्ष 1990-91 में खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति समिति एवं कृषि मंत्रालय में सदस्य रहे.

-वर्ष 1996 में ग्यारहवीं लोकसभा में दूसरी बार सांसद बने.

-वर्ष 1999 में तेरहवीं लोकसभा में तीसरी बार सांसद बने.

-वर्ष 2003 में केंद्रीय कोयला राज्य मंत्री बनाए गए

-वर्ष 2011 में नर्मदा स्वच्छता अभियान के तहत नर्मदा को दूषित होने से बचाने के लिए नरसिंहपुर जिले में 110 किमी पदयात्रा की.

-वर्ष 2012 सितम्बर में भारतीय जनता मजदूर महासंघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष रहते दिल्ली में लाखों मजदूरों की रैली का आयोजन.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading