लॉकडाउन में 'A' कैटेगरी में शामिल हुआ नर्मदा का जल, पानी इतना साफ कि बिना फिल्टर बुझा लो प्यास

नर्मदा का जल ए कैटेगरी में शामिल हुआ

नर्मदा का जल ए कैटेगरी में शामिल हुआ

Jabalpur News: मां नर्मदा के निर्मल जल की तस्वीर एक बार फिर लोगों का मन मोह रही है. यहां का पानी इतना शुद्ध दिख रहा है कि उसे सीधे पिया जा सकता है. अनलॉक के दौरान श्रद्धालुओं ने पूजन पाठ के नाम पर मां नर्मदा के आंचल को मैला कर दिया था.

  • Share this:

जबलपुर. लॉकडाउन में कोरोना संक्रमण के खतरे को लेकर एक ओर जहां लोग अपने घरों में कैद हैं, वहीं इस बीच प्रकृति को निखरने का फिर मौका मिल गया है. बीते साल भी हमने देखा था कि किस तरीके से वन क्षेत्र में बढ़ोतरी हुई थी और देशभर की नदियां स्वच्छ हो चली थीं. जो काम करोड़ों की योजनाएं नहीं कर सकी वो लॉकडाउन ने कर दिखाया.

जबलपुर में कलकल बहती मां नर्मदा (Narmada River) और उनका साफ सुथरा रूप एक बार फिर लॉकडाउन की वजह से ही संभव हो गया है. ठीक 1 साल बाद एक बार फिर मां नर्मदा के निर्मल जल की तस्वीर मन मोह रही है. यहां का पानी इतना शुद्ध दिख रहा है कि उसे सीधे पिया जा सकता है. अनलॉक के दौरान श्रद्धालुओं ने पूजन पाठ के नाम पर मां नर्मदा के आंचल को मैला कर दिया था. जगह-जगह दीपदान विसर्जन की सामग्री से मां नर्मदा लगातार प्रदूषित हो रही थी. अब जब लॉकडाउन लगा है तो एक बार फिर आम जनता को सीख लेने का मौका मिला है कि किस तरीके से मां समान पूजनीय मां नर्मदा के धार्मिक और वैज्ञानिक मूल्यों को संरक्षित रखा जाए.

Youtube Video

मां नर्मदा के घाटों पर मौजूद नाविक लॉकडाउन के चलते इन दिनों बेरोजगारी के माहौल में हैं, लेकिन वह भी अपने दुख दर्द को भूल मां की सेवा में जुटे रहते हैं. उनका भी यही मानना है कि मां नर्मदा का स्वरूप काफी स्वच्छ हो गया है, जिसे देख मन काफी प्रसन्न है. मध्य प्रदेश प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के संचालक के मुताबिक इन दिनों मां नर्मदा का जल ए कैटेगरी का हो गया है. लॉकडाउन के चलते इतना सार्थक असर मां नर्मदा के जल स्तर की गुणवत्ता पर पड़ा है कि अब सीधे श्रद्धालु जल को पी भी सकते हैं. बैक्टीरिया लेवल भी काफी सुधर गया है. जिसकी मुख्य वजह श्रद्धालुओं का नर्मदा घाट में स्नान कपड़े धोना और विसर्जन सामग्री ना डालने से हुआ है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज