अंधविश्वासः 20 दिन पहले बेटी की मौत हो गई, इसलिए महिला ने 2 साल की मासूम का घोंट दिया गला

पुलिस मामले की जांच कर रही है. (प्रतिकात्मक तस्वीर)

पुलिस मामले की जांच कर रही है. (प्रतिकात्मक तस्वीर)

Crime in MP: मध्य प्रदेश के जबलपुर में जादू-टोने के संदेह में महिला ने पड़ोसी की 2 साल की बेटी की हत्या कर दी. मासूम को खाना खिलाने के बहाने ले जाकर वारदात को दिया अंजाम.

  • Share this:

जबलपुर. जिले के कंचनपुर रविंद्र के बाड़ा में उस वक्त हड़कंप मच गया जब एक बच्ची के मर्डर की खबर फैली. पता चला कि पड़ोस में रहने वाली महिला ने ही 2 साल की बच्ची का गला घोंट दिया. पुलिस ने महिला को हिरासत में ले लिया है. पूछताछ में अंधविश्वास और जादू-टोने का अजीबो-गरीब कारण सामने आया है.

जानकारी के मुताबिक, अधारताल थाना को दोपहर में सूचना मिली की किसी महिला ने 2 साल की बच्ची का मर्डर कर दिया है. सूचना मिलते ही पुलिस वहां पहुंची और बबीता नाम की महिला को गिरफ्तार किया. पुलिस पूछताछ में बबीता ने बताया कि उसने शक के चलते बच्ची की हत्या कर दी.

खिलाने के बहाने बच्ची को घर में ले गई और मार दिया

पुलिस के मुताबिक, बबीता की एक माह की बेटी की मौत 20 दिन पहले हो गई थी. उसे शक था कि उसकी पड़ोसन ने जादू-टोना करके उसकी बेटी को मारा है. इसी शक के चलते और अपनी बेटी की मौत का बदला लेने के लिए उसने यह कदम उठाया. वारदात को अंजाम देने के लिए बबीता दोपहर घर के बाहर खेल रही 2 साल की मासूम को खिलाने के बहाने घर ले गई और उसका गला घोंट दिया.

Youtube Video

डराने वाले हैं महिला अपराध के मामले

साल 2020 में प्रतिदिन 137 महिलाओं के साथ कोई ना कोई अपराध हुआ है. मध्य प्रदेश पुलिस रिकॉर्ड के आंकड़े यह भयावह तस्वीर पेश कर रहे हैं जिसमें साल भर में महिलाओं के साथ अलग-अलग अपराधों में 49823 मामले दर्ज किए गए. महिला अपराधों के मामले में मध्य प्रदेश, देश की राजधानी बनने की राह पर है. तमाम दावों और प्रयासों के बावजूद भी यह कलंक मध्यप्रदेश के माथे से नहीं मिट पा रहा है.



लॉकडाउन में जारी रहे अपराध

हालात यह हैं कि कोविड-19 के दौरान लगाए गए लॉकडाउन में भी प्रदेश में महिला अपराधों में कमी नहीं आई. मध्य प्रदेश पुलिस की ओर से हर माह जारी किए जाने वाली रिपोर्ट में कुछ ऐसे आंकड़े निकल कर सामने आए हैं जिन्हें सुनकर आप हैरान रह जाएंगे. मध्य प्रदेश पुलिस रिकॉर्ड के मुताबिक पिछले 12 महीनों में ही चार हजार से ज्यादा दुष्कर्म और 6 हजार अपहरण के मामले सामने आ चुके हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज