Good News: मध्य प्रदेश मे ही मिलेगी Black Fungus की दवा, अब नहीं रहना पड़ेगा दूसरे राज्यों पर निर्भर

अब मध्य प्रदेश में ही मिलेगी ब्लैक फंगस की दवा.

अब मध्य प्रदेश में ही मिलेगी ब्लैक फंगस की दवा.

मध्यप्रदेश में कोरोना के साथ बढ़ते ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए राहत भरी खबर हैं. कोरोना के बाद ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों और इलाज के लिए जरूरी एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन का उत्पादन अब जबलपुर में शुरू होने जा रहा है.

  • Share this:

जबलपुर. अब प्रदेश मे ही मिलेगी ब्लैग फंगस की संजीवनी , प्रदेश की निरर्भता होगी खत्म ... पढ़िए ये खास खबर मध्यप्रदेश में कोरोना के साथ बढ़ते ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए राहत भरी खबर हैं. कोरोना के बाद ब्लैक फंगस के बढ़ते मामलों और इलाज के लिए जरूरी एम्फोटेरिसिन-बी इंजेक्शन का उत्पादन अब जबलपुर में शुरू होने जा रहा है.

20 जून से मिल सकते है इंजेक्शन

जबलपुर की रेवा क्योर लाइफ साइंसेज दवा कंपनी इंजेक्शन बनाएगी. कंपनी को सरकार की तरफ से उत्पादन संबंधी लाइसेंस भी जारी कर दिया गया है. ब्लैक फंगस  के इलाज में सबसे बड़ी बाधा इसके इंजेक्शन की कमी को बताया जा रहा है. सरकारी स्तर पर इसकी खरीदी कर मेडिकल कॉलेज को इंजेक्शन तो उपलब्ध कराए जा रहे है. लेकिन फिर भी बढ़ते मामलों के चलते कमी लगातार बनी हुई है. लिहाजा इमरजेंसी को देखते हुए रेवा क्योर लाइफ साइंसेज कंपनी सामने आई. उमरिया-डुंगरिया स्थित रेवा क्योर लाइफ साइंसेज कंपनी एंटी कैंसर इंजेक्शन बनाती है. देश की कई बड़ी व नामी कंपनियों से उनका टाइअप है.

कंपनी प्रदेश सरकार से लाइसेंस मिलने के बाद वह रॉ-मटैरियल की व्यवस्था में जुटी हुई है. स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही कम्पनी को रॉ-मटैरियल मिलने की उम्मीद है. इसके बाद वह इंजेक्शन बनाना शुरू करेंगे. कंपनी एंड यूरोपियन मेडीसिन एजेंसी से अप्रूव्ड है. अभी देश में एक ही कंपनी इंजेक्शन बना रही है. जिसके चलते आपूर्ति नही हो पा रही है अब जब प्रदेश के ही इंजेक्शन का उत्पादन होगा तो ना केवल पर्याप्त इंजेक्शन उपलब्ध हो पाएंगे बल्कि दाम भी कम होगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज