जबलपुर : चंद घंटों की बारिश में पानी पानी हुआ शहर, टेबल पर बैठकर गुजारी रात
Jabalpur News in Hindi

जबलपुर : चंद घंटों की बारिश में पानी पानी हुआ शहर, टेबल पर बैठकर गुजारी रात
बार-बार फोन करने पर भी नगर निगम से मदद नहीं पहुंची

जबलपुर (Jabalpur) में हुई मूसलाधार बारिश (Heavy rain fall) ने शहर के ड्रेनेज सिस्टम की पोल खोलकर रख दी. शहर में पानी निकासी के इंतजाम नहीं हैं इसलिए थोड़ी देर की बारिश में ही कई इलाकों में जलभराव का नजारा दिखने लगा.

  • Share this:
जबलपुर. लंबे इंतजार के बाद जबलपुर (Jabalpur) शहर में बारिश (Rain) की ऐसी झड़ी लगी कि सब घबरा उठे. रविवार देर रात से जारी मूसलाधार बारिश (Heavy rain fall) में शहर के कई इलाके जलमग्न हो गए. जहां नजर डालो हर तरफ बस पानी ही पानी नजर आ रहा है. कुछ इलाकों में तो 3-3 फीट तक पानी भर गया है और कई घरों में पानी घुस गया है. शहर के कई इलाकों में मूसलाधार बारिश की वजह से लोगों ने जागकर रात गुजारी.

जबलपुर में देर रात से सुबह तक हुई मूसलाधार बारिश से लोग हलकान हो उठे. शहर के शिव नगर, मदन महल, गढ़ा सहित अन्य रिहायशी बस्ती में तो हाल और भी बुरा हो गया. सिर्फ चंद घंटों की बारिश में ये इलाके लबालब हो गए. पानी इतनी तेज रफ्तार से बरस रहा था कि थोड़ी ही देर में सड़कें और गलियों में जलजमाव हो गया और बारिश का पानी घरों में घुस गया.





इन बस्तियों में घर के अंदर 3-3 फीट पानी भर गया था. लोगों को रात जागकर काटनी पड़ी. हालात ये थे कि बच्चे-बुज़ुर्ग सहित परिवार के सदस्यों ने टेबल-कुर्सी पर चढ़कर रात गुजारी. डर ये था कि अगर बारिश इसी रफ्तार से होती रही तो घरों में और ज़्यादा पानी भर जाएगा. नगर निगम समेत प्रशासनिक अमले को लगातार खबर भेजने के बाद भी सहायता के लिए कोई भी टीमें वहां नहीं पहुंचीं.

अधूरे विकास की बलि चढ़ी जनता
शहर में चंद घंटों की बारिश में जलभराव का मुख्य कारण यही है कि शहर में पानी निकासी के इंतज़ाम नहीं हैं. नालियां चोक हैं. ड्रेनेज सिस्टम ठीक नहीं है, स्टॉर्म वॉटर ड्रेनेज प्रोजेक्ट का काम हो या फिर सीवर लाइन का, सब अधूरा पड़ा है. यही वजह है कि हर बार बारिश के मौसम में जलभराव की समस्या से लोगों को जूझना पड़ता है. शहर के हृदय स्थल सिविक सेंटर क्षेत्र में भी तालाब का नजारा था. इस क्षेत्र में निजी सहित कई सरकारी दफ्तर भी हैं. यहां भी जल निकासी ना होने के कारण पानी लबालब भरा रहा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज