Positive India : संकट के दौर में अरबपति हुआ पश्चिम मध्य रेलवे, दो महीने में हुआ ये कमाल

JABALPUR. प.म.रेलवे ने कुल मिलाकर 2 महीनों में 7.63 मीट्रिक टन माल की ढुलाई की गई जो पिछले साल के मुकाबले दोगुनी है

JABALPUR. प.म.रेलवे ने कुल मिलाकर 2 महीनों में 7.63 मीट्रिक टन माल की ढुलाई की गई जो पिछले साल के मुकाबले दोगुनी है

Jabalpur. Lockdown में जब यात्री ट्रेनें बंद थीं ऐसे समय में भी रेलवे (Railway) ने माल ढुलाई करके कमाई का नया रिकॉर्ड बना डाला. रेलवे की मालवाहक ट्रेनों की स्पीड अब दोगुनी हो गई है. इस वजह से मैन्युफैक्चरर सहित सप्लायर और अन्य लोग अब रेलवे परिवहन को ज्यादा तवज्जो दे रहे हैं.

  • Share this:

जबलपुर. लॉकडाउन (Lockdown) के दूसरे चरण में जब सभी की रफ्तार पर ब्रेक (Break) लग गया था ऐसे समय में रेलवे ने इस कदर रफ्तार पकड़ी की दो ही महीनों में 650 करोड़ रुपए की कमाई कर डाली. सुनने में अजीब जरूर लगेगा लेकिन यह कीर्तिमान पश्चिम मध्य रेल जोन की बिजनेस यूनिट ने कर दिखाया है. अप्रैल और मई महीने में ही 6 अरब से ज्यादा की कमाई कर रेलवे ने प्लेसेंट सरप्राइज सबको दिया है.

जब रेलवे की अधिकांश ट्रेनें बंद हो गईं तो आखिर कैसे रेलवे सिर्फ दो ही महीनों में अरबपति हो गया. यह बात वाकई गौर करने वाली है. रेलवे ने ये अरबों की ये कमाई यात्री परिवहन सुविधा से नहीं बल्कि माल ढुलाई से की. उसके बिजनेस सेक्शन की मेहनत इसमें रही.

2 महीनों में 650 करोड़ से ज़्यादा कमाई

पश्चिम मध्य रेल के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी राहुल जयपुरियार ने बताया कि अप्रैल 2021 में पश्चिम मध्य रेलवे ने 3.79 मीट्रिक टन माल की ढुलाई की. जबकि मई महीने में यही आंकड़ा बढ़कर 3.84 मीट्रिक टन था. कुल मिलाकर 2 महीनों में 7.63 मीट्रिक टन माल की ढुलाई की गई जो पिछले साल के मुकाबले दोगुनी है. पश्चिम मध्य रेल को इन 2 महीनों में 650 करोड़ से ज्यादा की कमाई हुई. जबकि पिछले साल कमाई का यही आंकड़ा 360 करोड़ था.
आयरन ओर से लेकर ट्रैक्टर तक

रेलवे ने लॉक डाउन के दौरान जिस माल की ढुलाई की उसमें कई कीमती मिनरल्स से लेकर ट्रैक्टर तक शामिल हैं. भोपाल से लेकर बांग्लादेश तक ट्रैक्टर सप्लाई का मामला हो या फिर जबलपुर के डुंडी स्टेशन से आयरन ओर भरकर विशाखापट्टनम के पोर्ट तक ले जाना. पश्चिम मध्य रेल ने कई ऐतिहासिक काम माल ढुलाई के मामले में किए हैं.




स्पीड से बनी बात

रेलवे की बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट ने अपनी स्थापना के साथ ही रोज नए कीर्तिमान रचे हैं. यही वजह है कि जब यात्री ट्रेनें बंद थीं ऐसे समय में भी रेलवे ने माल ढुलाई करके कमाई का नया रिकॉर्ड बना डाला. एक और खास बात यह है कि रेलवे की मालवाहक ट्रेनों की स्पीड अब दोगुनी हो गई है. इस वजह से मैन्युफैक्चरर सहित सप्लायर और अन्य लोग अब रेलवे परिवहन को ज्यादा तवज्जो दे रहे हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज