होम /न्यूज /मध्य प्रदेश /अब जबलपुर आएंगे तो नहीं रहेगा कान्हा, बांधवगढ़ या पेंच जाने का बहाना! जानिए क्यों

अब जबलपुर आएंगे तो नहीं रहेगा कान्हा, बांधवगढ़ या पेंच जाने का बहाना! जानिए क्यों

जबलपुर में जल्द ही वाइल्डलाइफ प्रेमियों के लिए आकर्षण होगा.

जबलपुर में जल्द ही वाइल्डलाइफ प्रेमियों के लिए आकर्षण होगा.

अभी होता यह है कि जबलपुर आने वाले पर्यटकों को नर्मदा नदी और उसके किनारों के नज़ारे तो देखने मिलते हैं, लेकिन शहर में वाइ ...अधिक पढ़ें

रिपोर्ट – अभिषेक त्रिपाठी

जबलपुर. स्थानीय लोगों और पर्यटकों को जल्द ही न्यू भेड़ाघाट क्षेत्र में जंगली जानवर देखने का रोमांच भी नसीब होगा. जलद ही यहां चिड़ियाघर का निर्माण होगा. इसके लिए केंद्र के अधिकारियों एवं मध्यप्रदेश पर्यटन विकास निगम साथ ही ज़िला प्रशासन की टीम एवं वन विभाग की टीम ने इलाके का निरीक्षण किया है. सूत्रों के अनुसार यहां ग्रीन एरिया में 80 एकड़ के कुछ हिस्से से हाइटेंशन लाइन गुज़री है. बावजूद इसके न्यू भेड़ाघाट में चिड़ियाघर प्रोजेक्ट के लिए 60 एकड़ भूमि मिल सकती है.

मौका मुआयना के बाद एमपीटी की ओर से वन विभाग के अधिकारियों को डीपीआर तैयार करने के लिए निर्देश दिए गए हैं. इसकी मंजूरी के लिए राज्य व केंद्र के साथ-साथ ज़ू अ‌ॅथारिटी को भी प्रस्ताव भेजा जाएगा. विशेषज्ञ बताते हैं कि चिड़ियाघर के निर्माण की प्रक्रिया लम्बी होती है, जिसके लिए चिह्नित स्थल पर पर्याप्त हरित क्षेत्र, वन्य जीवों के अनुकूल वातावरण होने के साथ भारतीय ज़ू प्राधिकरण की अनुमति एवं एनजीटी व वाइल्ड लाइफ अथॉरिटी की एनओसी ज़रूरी होती है.

जबलपुर को है लंबे समय से इंतजार

जबलपुर में बड़ी संख्या में पर्यटक आते हैं, लेकिन उन्हें भेड़ाघाट, बरगी और नर्मदा तटों के दर्शन करने के बाद वन्य जीव देखने के लिए कान्हा, बांधवगढ़, पन्ना या पेंच उद्यानों में जाना पड़ता है. ऐसे में जबलपुर में लंबे समय से टाइगर सफारी या ज़ू बनाने की मांग की जा रही है. इसके पहले डुमना में टाइगर सफारी के लिए प्रयास शुरू हुए थे, लेकिन एयरपोर्ट अथॉरिटी की आपत्ति के बाद मामला वहीं खत्म सा हो गया.

अब न्यू भेड़ाघाट क्षेत्र में जू के लिए किए जा रहे प्रयास को अच्छी पहल माना जा रहा है. जानकारों की मानें तो टाइगर सफारी जबलपुर की प्रमुख मांग रही है, लेकिन राजनीतिक खींचतान के कारण यह आकार नहीं ले पाई. इन सबके बीच अब जबलपुर में पर्यटन विकास के लिए नई उम्मीदें अब चिड़ियाघर से जुड़ रही हैं, जिसके लिए कवायद शुरू कर दी गई है.

Tags: Jabalpur news, Wildlife

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें