लाइव टीवी

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती को सांस लेने में तकलीफ, जबलपुर के अस्पताल में हुए भर्ती
Jabalpur News in Hindi

Prateek Mohan Awasthi | News18 Madhya Pradesh
Updated: January 23, 2020, 1:24 PM IST
शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती को सांस लेने में तकलीफ, जबलपुर के अस्पताल में हुए भर्ती
शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती अस्पताल में भर्ती

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती (Shankaracharya Swami Swaroopanand Saraswati) को देखने और उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना के साथ लोग अस्पताल पहुंचे. विधानसभा अध्यक्ष एनपी प्रजापति (Speaker NP Prajapati) भी शंकराचार्य को देखने अस्पताल पहुंचे.

  • Share this:
जबलपुर. शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती (Shankaracharya Swami Swaroopanand Saraswati) बीमार हैं. गले में इंफेक्शन (Throat infection) के कारण तबीयत बिगड़ने पर उन्हें जबलपुर (Jabalpur) के एक निजी अस्पताल (private hospital) में भर्ती कराया गया है. शंकराचार्य को सांस लेने में तकलीफ हो रही थी. डॉक्टरों का कहना है चिंता की कोई बात नहीं है.

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती अस्वस्थ हैं. सांस लेने में तकलीफ और सर्दी के कारण परेशानी के बाद उन्हें जबलपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया. उन्हें एक निजी अस्पताल के AICU में एडमिट कराया गया है. वहां वो डॉक्टरों की सघन देखरेख में हैं. डॉक्टरों के मुताबिक फिलहाल उनकी हालत ठीक है और एक-दो दिन में उनकी हालत में सुधार होने की उम्मीद है.

शुभचिंतक पहुंचे अस्पताल
शंकराचार्य के अस्वस्थ होने और अस्पताल में भर्ती की खबर जैसे ही फैली, उनके शुभचिंतक और शिष्य चिंतित हो गए. शंकराचार्य को देखने और उनके जल्द स्वस्थ होने की कामना के साथ लोग अस्पताल पहुंचे. दूर-दूर से उनके शिष्य उनके हालचाल जानने आ रहे हैं. एमपी विधानसभा के अध्यक्ष एनपी प्रजापति भी शंकराचार्य को देखने अस्पताल पहुंचे. गले में इंफेक्शन के कारण शंकराचार्य को सांस लेने में तकलीफ हो रही है. सर्दी के कारण परेशानी बढ़ने पर उन्हें अस्पताल लाया गया. फिलहाल डॉक्टर गले की परेशानी के साथ-साथ उनका रूटीन चेकअप भी कर रहे हैं. इससे पहले पिछले साल भी शंकराचार्य की तबीयत बिगड़ने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती किया गया था.

चिंता की बात नहीं
95 साल की उम्र पार कर चुके शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती रूटीन चेकअप के लिए जबलपुर आते रहते हैं. इससे पहले भी कई बार उन्हें अस्पताल में दाखिल किया जा चुका है. लेकिन इस बार उन्हें गले में ज्यादा तकलीफ के कारण देर शाम गोटेगांव से सीधे जबलपुर लाकर एडमिट किया गया. फिलहाल डॉक्टरों का कहना है कि किसी तरह की चिंता की बात नहीं है. डॉक्टरों के मुताबिक एहतियातन उन्हें AICU में रखा गया है. उनकी हालत स्थिर है.

ये भी पढ़ें-घातक रसायन से बनाई जा रही थी नकली दवा, सरकारी अस्पताल में भी सप्लाईराजगढ़ कलेक्टर पर BJP नेता बद्रीलाल की अभद्र टिप्पणी: IAS अफसरों ने की निंदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए जबलपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 23, 2020, 12:50 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर